शनिवार , दिसम्बर 05 2020 | 11:11:15 AM
Breaking News
Home / व्यापार / केंद्र सरकार के प्रयासों से कम होने लगे प्याज के दाम

केंद्र सरकार के प्रयासों से कम होने लगे प्याज के दाम

नई दिल्ली (मा.स.स.). प्याज की कीमतों पर सरकार के कदमों का असर दिखने लगा है. प्याज की रीटेल कीमतों में 10 रुपये की कमी आई है. प्याज उत्पादक क्षेत्रों में भी कीमतों में गिरावट का ट्रेंड दिखा  है. महाराष्ट्र के लासलगांव, जो कि एशिया का सबसे बड़ा प्याज का थोक बाजार है, यहां पर प्याज की थोक कीमतें सिर्फ एक दिन में 5 रुपये गिरकर 51 रुपये प्रति किलो पर आ गई हैं.

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक चेन्नई में प्याज की थोक कीमतें 23 अक्टूबर को 76 रुयपे से गिरकर अब 66 रुपये पर आ गईं हैं. इसी तरह मुंबई, बैंगलुरू और भोपाल में भी थोक भाव 5-6 रुपये प्रति किलो से घटकर 70 रुपये, 64 रुपये और 40 रुपये प्रति किलो हो गए हैं. आंकड़ों के मुताबिक दिल्ली की आजादपुर मंडी में प्याज की आवक 530 टन बढ़ी है, जबकि मुंबई में रोजाना आवक 885 टन से बढ़कर 1560 टन हो गई है. चेन्नई में रोजाना आवक 1120 टन से बढ़कर 4000 टन और बैंगलुरू में रोजाना आवक 2500 टन से बढ़कर 3,000 टन पहुंच चुकी है. इसके अलावा लखनऊ, भोपाल, अहमदाबाद, पुणे और अमृतसर में भी रोजाना आवक बढ़ी है. आवक बढ़ने से अनुमान है कि प्याज की कीमतें दिवाली तक और कम हो सकती है.

प्याज की बढ़ती कीमतों पर रोक लगाने के लिए सरकार ने जो दो जरूरी कदम उठाने का फैसला कर लिया है. उसके बारे में बताते हैं. सरकार ने प्याज की स्टॉक लिमिट को भी तय कर दिया है. इसके तहत थोक और खुदरा व्यापारियों के लिए अलग-अलग स्टॉक लिमिट तय की गई है. सरकार ने थोक विक्रेताओं के लिये प्याज की स्टॉक लिमिट को 25 मीट्रिक टन और खुदरा व्यापारियों के लिये 2 मीट्रिक टन निर्धारित किया है. ये स्टॉक लिमिट शुक्रवार 23 अक्टूबर से लेकर के 31 दिसंबर 2020 तक प्रभावी रहेगी.

वहीं सरकार ने MMTC को लाल प्याज का आयात करने के लिए भी आदेश जारी कर दिया है. आदेश मिलने के बाद MMTC जल्द ही इसके लिए टेंडर जारी करेगी. सरकार का कहना है कि 15 लाख टन प्याज के निर्यात होने की वजह से देश भर में प्याज की कमी हो गई है. लेकिन प्याज की कीमतों को काबू करने के केंद्र सरकार के उठाए कदमों से महाराष्ट्र के नासिक के प्याज व्पायारी नाराज हैं. महाराष्ट्र के नासिक में आज प्याज के कारोबारियों ने प्याज की खरीदारी नहीं के बराबर की है.

दरअसल, केंद्र सरकार ने बेतहाशा बढ़ती कीमतों को काबू करने के लिए प्याज की स्टॉक लिमिट तय कर दी., जिसके मुताबिक व्यापारी सिर्फ 25 टन प्याज ही गोदामों में रख सकते हैं. ताकि प्याज की होर्डिंग न हो और मार्केट में प्याज की कमी के चलते दाम न बढ़ें. नासिक में एक प्याज व्यापारी आमतौर पर 3000 टन प्याज अपने गोदाम में रखता हैं. जबकि एक ट्रक में ही 30 टन तक प्याज आ जाता है. ऐसे में अगर व्यापारी की तरफ से एक ट्रक भी प्याज खरीदी की जाती है तो इससे सरकार के आदेश का उलघंन होता है. सरकार के इस फरमान से नाराज व्यापारियों ने प्याज नहीं खरीदने का फैसला किया है.

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

सिर्फ 3 दिनों में ही FAU-G गेम के हुए 10 लाख से ज्यादा प्री-रजिस्ट्रेशन

नई दिल्ली (मा.स.स.). FAU-G मोबाइल गेम को हाल ही में प्री-रजिस्ट्रेशन के लिए उपलब्ध करा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *