मंगलवार , अक्टूबर 19 2021 | 02:28:09 AM
Breaking News
Home / अंतर्राष्ट्रीय / बाइडेन ने अशरफ गनी से मांगी थी तालिबान को रोकने की ठोस रणनीति

बाइडेन ने अशरफ गनी से मांगी थी तालिबान को रोकने की ठोस रणनीति

वाशिंगटन (मा.स.स.). अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों के जाने के बाद अब पंजशीर को छोड़कर हर जगह तालिबान का राज है। 15 अगस्त को अशरफ गनी के अफगानिस्तान छोड़ने के बाद तालिबान ने तेजी से काबुल पर भी कब्जा कर लिया था। इससे 23 दिन पहले अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन और अशरफ गनी के बीच 14 मिनट लंबी बातचीत हुई थी। रॉयटर्स ने इस बातचीत पर एक रिपोर्ट जारी की है। रिपोर्ट में बताया गया है कि 23 जुलाई को गनी और बाइडेन के बीच क्या बात हुई थी। रिपोर्ट के मुताबिक बाइडेन ने गनी से तालिबान को रोकने का प्लान मांगा था। बाइडेन ने कहा था कि प्लान मिलने के बाद ही वे मदद भेजेंगे। इससे पहले अमेरिका ने अफगान आर्मी के सपोर्ट में एयरस्ट्राइक्स भी की थीं।

रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक बाइडेन चाहते थे कि अफगानिस्तान के जनरल बिस्मिल्लाह को तालिबान के खिलाफ लड़ने की जिम्मेदारी मिलनी चाहिए। फोन कॉल से जाहिर हो रहा है कि अमेरिकी राष्ट्रपति अफगानिस्तान की सेना को मदद पहुंचाने की पूरी कोशिश कर रहे थे। उन्हें इस बात का अंदाजा नहीं था कि अगले ही महीने तालिबान अफगानिस्तान पर पूरी तरह से कब्जा करने वाला है। बातचीत के दौरान अशरफ गनी ने पाकिस्तान को लेकर बाइडेन को चेतावनी भी दी थी। गनी ने कहा था कि पाकिस्तान ने अपने 10 से 15 हजार लड़ाके तालिाबन को सपोर्ट करने के लिए भेजे हैं। वे अफगानिस्तान में तालिबान की तरफ से लड़ रहे हैं। इस बार तालिबान ने पूरी ताकत से हमला किया है।

वाइट हाउस और अशरफ गनी से इस कॉल पर उनकी राय लेनी चाही पर दोनों की तरफ से अब तक कोई बयान नहीं आया है। 31 अगस्त की रात अमेरिका ने अफगानिस्तान से अपने सभी सैनिक निकाल लिए। 11 अगस्त को ही अमेरिका ने अफगानिस्तान छोड़ने का ऐलान कर दिया था। रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक फोन कॉल के कुछ दिन पहले ही अमेरिका ने अफगानिस्तान में अपने महत्वपूर्ण बेस बंद करने शुरू कर दिए थे। दुनिया के सामने नरम सूरत पेश करने की कोशिश कर रहे तालिबान ने आखिरकार अपने पुराने तालिबानी तरीके अपनाने शुरू कर दिए हैं। अफगानिस्तान में पश्चिमी ताकतों की मदद करने वालों के घरों के दरवाजों पर तालिबानी अदालत में हाजिर होने के फरमान चिपकाए जा रहे हैं। उनसे कहा जा रहा है कि या तो समर्पण कर दो नहीं तो मारे जाओ।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

भारत ने फिर की सर्जिकल स्ट्राइक को देंगे करारा जवाब : पाकिस्तान

इस्‍लामाबाद (मा.स.स.). जम्‍मू-कश्‍मीर में सक्रिय आतंकियों की कमर तोड़ने वाले भारत के ‘सर्जिकल स्‍ट्राइक’ का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *