बुधवार , अप्रेल 14 2021 | 05:21:56 PM
Breaking News
Home / अन्य समाचार / 3 परिवर्तनों के साथ आईसीसी जारी रखेगा विवादित अंपायर्स कॉल नियम

3 परिवर्तनों के साथ आईसीसी जारी रखेगा विवादित अंपायर्स कॉल नियम

खेल डेस्क (मा.स.स.). पिछले कुछ वक्त से इंटरनेशनल क्रिकेट मैच के दौरान ‘अंपायर्स कॉल’ को लेकर काफी विवाद हुआ. इस नियम का खामियाजा कई क्रिकेटर्स को भुगतना पड़ा जिसके बाद सोशल मीडिया और क्रिकेटर के गलियारों में इसकी काफी ओलोचना हुई है. अब आईसीसी ने इस पर बड़ा फैसला लिया है.

आईसीसी की संचालन संस्था द्वारा बुधवार को बोर्ड की बैठक खत्म होने के बाद जारी बयान में आईसीसी की क्रिकेट समिति के प्रमुख और पूर्व भारतीय कप्तान अनिल कुंबले ने कहा, ‘अंपायर्स कॉल को लेकर क्रिकेट समिति में शानदार चर्चा हुई और इसके इस्तेमाल का विस्तार से आकलन किया गया.’

अनिल कुंबले ने कहा, ‘डीआरएस का सिद्धांत ये है कि मैच के दौरान साफ नजर आने वाली गलतियों को दूर किया जा सके जबकि यह भी सुनिश्चित हो कि मैदान पर फैसले करने वालों के रूप में अंपायरों की भूमिका बनी रहे. ‘अंपायर्स कॉल’ से ऐसा होता है और इसी वजह से ये जरूरी  है कि यह बरकरार रहे.’ आईसीसी बोर्ड की मीटिंग में ये फैसला किया है कि विवादास्पद ‘अंपायर्स कॉल’ डीआरएस का हिस्सा बनी रहेगी लेकिन मौजूदा नियमों में 3 मामूली बदलाव किए हैं. ऐसा इसलिए किया गया ताकि गलतियों को दूर किया जा सके.

आईसीसी ने बयान में कहा, ‘एलबीडब्ल्यू  के रिव्यू के लिए विकेट जोन की ऊंचाई को बढ़ाकर स्टंप के टॉप तक कर दिया गया है.’ इसका मतलब हुआ कि अब रिव्यू लेने पर बेल्स के ऊपर तक की ऊंचाई पर गौर किया जाएगा जबकि पहले बेल्स के निचले हिस्से तक की ऊंचाई पर गौर किया जाता था. इससे विकेट जोन की ऊंचाई बढ़ जाएगी.

एलबीडब्ल्यू पर डीआरएस को लेकर फैसला लेने से पहले खिलाड़ी अंपायर से पूछ पाएगा कि गेंद को खेलने की असल कोशिश की गई थी या नहीं. बयान में कहा गया, ‘थर्ड अंपायर शॉर्ट रन की स्थिति में रिप्ले में इसकी समीक्षा कर पाएगा और अगर कोई गलती होती है तो अगली गेंद फेंके जाने से पहले इसे सही करेगा.’

साथ ही फैसला किया गया कि इंटरनेशनल क्रिकेट बहाल करने के लिए 2020 में लागू किए गए अंतरिम कोविड-19 नियम जारी रहेंगे. आईसीसी ने कहा, ‘समिति ने पिछले 9 महीने में घरेलू अंपायरों के शानदार प्रदर्शन पर गौर किया है लेकिन जहां भी हालात के कारण संभव हो वहां तटस्थ एलीट पैनल अंपायरों की नियुक्ति को प्रोत्साहन दिया है.’

आईसीसी के मौजूदा नियमों के मुताबिक एलबीडब्ल्यू की अपील के वक्त अगर अंपायर के नॉटआउट के फैसले को चुनौती दी जाती है जो उसे बदलने के लिए गेंद का 50 फीसदी से ज्यादा हिस्सा कम से कम एक स्टंप से टकराना चाहिए. ऐसा नहीं होने के हालत में बल्लेबाज नॉटआउट ही रहता है. टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने अंपायर कॉल को ‘भ्रमित’ करने वाला करार दिया था और पिछले कुछ वक्त से ये विवाद का मुद्दा रहा है. कोहली का कहना था कि अगर गेंद का थोड़ा हिस्सा भी स्टंप से टकरा रहा है तो बल्लेबाज को आउट दिया जाए.

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

अभिनेत्री सोमी अली का आरोप, कई निर्देशक ने किया यौन शोषण का प्रयास

मुंबई (मा.स.स.). पाकिस्तानी फिल्म अभिनेत्री और सलमान खान की गर्लफ्रेंड रह चुकी सोमी अली ने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *