बुधवार , अक्टूबर 20 2021 | 03:40:56 AM
Breaking News
Home / राष्ट्रीय / भारत के 4 राज्यों में कोरोना की तीसरी लहर की संभावना

भारत के 4 राज्यों में कोरोना की तीसरी लहर की संभावना

नई दिल्ली (मा.स.स.). कोरोना वायरस महामारी की तीसरी लहर जल्द शुरू होने की चर्चाओं के बीच देशभर में संक्रमितों का आंकड़ा बहुत तेजी से बढ़ने लगा है. इसने सरकार से लेकर आम जनता के माथे पर चिंता की लकीर खींच दी है. लोगों को एक बार फिर डर लगने लगा है. भारत में पिछले 6 दिनों से 40 हजार से अधिक कोरोना के मामले दर्ज किए जा रहे हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए बताया, ‘पिछले 24 घंटे में करीब 47 हजार नए कोरोना मरीजों की पहचान हुई है. सबसे ज्यादा मामले केरल से सामने आए हैं. पिछले हफ्ते रिपोर्ट हुए कोरोना वायरस के 69% मामले केरल से ही हैं. लोगों को ये समझना होगा कि दूसरी वेव अभी खत्‍म नहीं हुई है. अभी भी 42 जिले ऐसे हैं, जहां कोरोना के प्रतिदिन 100 से ज्‍यादा मामले रिपोर्ट होते हैं.’

भूषण ने कहा, ‘सिर्फ केरल में ही 1,00,000 से ज्यादा एक्टिव केस हैं. वहीं महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में एक्टिव केसों की संख्या 10,000 से 1,00,000 के बीच है. हालांकि ये 9वां सप्ताह है, जब देश में वीकली पॉजिटिविटी रेट 3% से कम रहा है. जबकि देश में 38 जिलों में वीकली पॉजिटिविटी रेट 5-10 फीसद के बीच है. इसी के चलते कोरोना वैक्सीनेशन की रफ्तार में तेजी लगाई जा रही है. अकेले अगस्त के महीने में 18.38 करोड़ डोज लगाई गईं. यानी एक दिन में औसतन 59.29 लाख टीके लगाए गए. इसी माह के अंतिम सप्ताह में हमने और तेजी दिखाते हुए प्रतिदिन 80 लाख से अधिक टीके दिए.

वहीं, इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के डायरेक्टर बलराम भार्गव ने कहा, ‘अभी भी खतरा बना हुआ है. वैक्सीन बीमारी की गंभीरता से बचाती है. लेकिन टीकाकरण के बाद भी मास्क जरूरी है. कुछ लोग इसमें लापरवाही बरतते हैं और मास्क के बिना ही बड़े आयोजनों से चले जाते हैं. हमें ऐसा करने से बचना होगा. आने वाले त्योहारों में कंप्लीट वैक्सीनेशन होने के बाद ही सम्मलित होना है. तभी कोरोना महामारी को रोका जा सकता है.’

नीति आयोग के सदस्य विनोद कुमार पॉल ने कहा, ‘हमें सतर्क रहना है. त्योहार आ रहे हैं, मौसम बदल रहा है. हमें टीके को अपनाना है, यही बचाव का एकमात्र तरीका है. मास्क के बिना जीने का मौका अभी नहीं आया है. त्योहारों को पिछले साल की तरह ही मनाना है. गणेश चतुर्थी, नवरात्रि में हमें भीड़ नहीं करनी है. सभी त्योहार घर में मनाने हैं. वरना अभी तक जो संजोया है, वह हमसे छिन सकता है. अगर वायरस म्यूटेट हो गया तो दिक्कत बढ़ सकती है. सबसे ज्यादा परेशानी तो प्रेग्नेंट महिलाओं को होगी, इसलिए उन्हें पहले कोरोना वैक्सीन लेने की सलाह दी जा रही है.’

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

सोनिया गांधी ने खुद को बताया कांग्रेस का फुलटाइम अध्यक्ष

नई दिल्ली (मा.स.स.). कांग्रेस नेतृत्व पर लगातार उठ रहे सवालों के बीच कांग्रेस कार्यसमिति की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *