शुक्रवार , अप्रेल 16 2021 | 12:55:45 PM
Breaking News
Home / राज्य / उत्तरप्रदेश / गुजरात और दिल्ली में मिली जीत के बाद केजरीवाल को उ.प्र. में भी सफलता की उम्मीद

गुजरात और दिल्ली में मिली जीत के बाद केजरीवाल को उ.प्र. में भी सफलता की उम्मीद

नई दिल्ली (मा.स.स.). आम आदमी पार्टी धीरे- धीरे देश की राजधानी दिल्ली से बाहर आगे बढ़ रही है। AAP का यह विस्तार ऐसे समय में हो रहा है जब बीजेपी के सामने विपक्ष को लेकर सवाल खड़े किए जाते रहे हैं। आम आदमी पार्टी ने हाल ही में गुजरात नगर निगम चुनाव में शानदार एंट्री मारी और अब दिल्ली नगर निगम उपचुनाव में दूसरे दलों को उसने काफी पीछे छोड़ दिया है।

आम आदमी पार्टी को जहां दिल्ली तक ही सीमित बताकर हर बार खारिज किया जाता रहा है। AAP की यह जीत चंद सीटों की हो सकती है लेकिन जिस तरीके से पार्टी निकाय चुनावों में बेहतर कर रही है उससे दूसरों की टेंशन बढ़ने वाली है और इसके कई मायने भी हैं। ऐसा नहीं है कि आम आदमी पार्टी पहली बार दिल्ली से बाहर कहीं चुनाव लड़ रही हो। दिल्ली से बाहर पहले भी कई राज्यों में आम आदमी पार्टी चुनाव लड़ चुकी है। नतीजों को भी सबने देखा और यह कहा जाने लगा कि बस दिल्ली तक सीमित रहेगी पार्टी। दिल्ली समेत आप के दूसरे नेताओं को भी यह समझ आ रहा था कि चुनाव लड़ने के साथ ही साथ उन राज्यों में पार्टी को भी मजबूत करना होगा।

अपने पहले के अनुभवों को देखते हुए आप प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने थोड़ी रणनीति बदली और उन चुनावों से एंट्री मारी जहां से पार्टी को सबसे अधिक मजबूती मिलती है। आम आदमी पार्टी ने निकाय चुनाव लड़ने का फैसला किया। यह वह चुनाव होते हैं जहां आपको जीत मिली तो पार्टी भी मजबूत होती है। गुजरात निकाय चुनाव में AAP ने एंट्री मारी और उसे सफलता भी हाथ लगी। सूरत समेत दूसरे इलाकों में पार्टी ने बेहतर प्रदर्शन किया।

यूपी में भी आम आदमी पार्टी लगातार अपने आपको मजबूत करने में लगी है। अगले साल यूपी में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। AAP आगामी विधानसभा चुनाव से पहले संगठन के विस्तार और पार्टी को मजबूत करने में लगी है। योगी सरकार को घेरने का कोई मौका पार्टी चूक नहीं रही है। राज्यसभा सांसद संजय सिंह, डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया और खुद मुख्यमंत्री केजरीवाल मोर्चा संभाले हुए हैं। विधानसभा चुनाव से पहले यूपी में पंचायत चुनाव होने वाले हैं।

यूपी के पंचायत चुनाव में दूसरे दलों के साथ ही आम आदमी पार्टी भी अपने उम्मीदवार उतारने वाली है। हर जिले के हिसाब से कमेटी का गठन किया गया है और इस पर पार्टी के बड़े नेताओं की ओर से लगातार नजर रखी जा रही है। स्थानीय स्तर पर अधिक से अधिक कार्यकर्ताओं को जोड़ा जा रहा है। नेताओं की ओर से दिल्ली में मिल रही सुविधाओं की जिक्र किया जा रहा है और प्रदेश सरकार पर लगातार हमला बोला जा रहा है। यूपी में आप की मजबूती से सीएम योगी समेत दूसरे विपक्षी दलों की भी टेंशन बढ़ जाएगी।

गुजरात नगर निगम
चुनाव में मिली सफलता के बाद दिल्ली नगर निगम उपचुनाव के नतीजों से आम आदमी पार्टी गदगद है। इस उपचुनाव में आम आदमी पार्टी की ओर से पूरी ताकत झोंकी गई थी। पांच में से चार सीटें आम आदमी पार्टी के पास पहले थी ऐसे में उसके सामने इन सीटों को बचाने की चुनौती सबसे अधिक थी। एक ओर जहां एमसीडी में बीजेपी का कब्जा है उसके बाद चार सीटें जीतकर आप ने आगामी एमसीडी चुनाव से पहले बढ़त हासिल कर ली है।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

योगी आदित्यनाथ और अखिलेश यादव दोनों हुए कोरोना संक्रमित

लखनऊ (मा.स.स.). उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस लगातार बढ़ता जा रहा है। उत्तर प्रदेश के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *