शुक्रवार , अप्रेल 16 2021 | 01:19:29 PM
Breaking News
Home / राष्ट्रीय / 81 प्रतिशत प्रभावी है भारत बायोटेक की कोवैक्सीन, जारी हुए के तीसरे चरण के ट्रायल के आकड़े

81 प्रतिशत प्रभावी है भारत बायोटेक की कोवैक्सीन, जारी हुए के तीसरे चरण के ट्रायल के आकड़े

नई दिल्ली (मा.स.स.). भारत बायोटेक और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) की ओर से विकसित किए गए कोरोना टीके के तीसरे चरण के ट्रायल के नतीजे सामने आ गए हैं। भारत बायोटेक ने बताया है कि तीसरे चरण में यह टीका 81 फीसदी प्रभावी पाया गया है। इस ट्रायल में 25,800 लोगों को टीका लगया गया था, जोकि देश में अब तक का सबसे बड़ा ट्रायल है। बता दें, कि सरकार पहले ही इस टीके को आपातकालीन मंजूरी दे चुकी है और पीएम पीएम मोदी ने भी इसका डोज लिया है।

तीसरे चरण के ट्रायल का डेटा आने से पहले वैक्सीन को मंजूरी दिए जाने की वजह से विपक्षी पार्टियों और कई विशेषज्ञों ने सवाल उठाए थे। इसी वजह से कई लोग इस वैक्सीन को लगवाने से कतराते थे। हालांकि, पीएम नरेंद्र मोदी ने टीकाकरण के दूसरे चरण में यह टीका लगवाकर संदेश दे दिया था कि टीका पूरी तरह सुरक्षित है। भारत बायोटेक के चेयरमैन और एमडी डॉ. कृष्णा इल्ला ने कहा, ”यह वैक्सीन विकास, विज्ञान और कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में में यह अहम दिन है। फेज 3 के आज के रिजल्ट के साथ हमने कोविड-19 वैक्सीन के फेज 1, 2 और 3 के आंकड़े जारी कर दिए हैं, जिनमें करीब 27000 प्रतिभागी थे।” उन्होंने कहा कि कोवैक्सीन कोविड-19 के खिलाफ प्रभावी सुरक्षा प्रदान करने के साथ ही यह नए स्ट्रेन को रोकने में भी सक्षम है।

भारत सरकार ने एस्ट्राजेनेका और सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की ओर से तैयार किए गए कोविशील्ड और कोवैक्सीन को सबसे पहले आपातकालीन मंजूरी दी थी।कोविड-19 का राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान 16 जनवरी से स्वास्थ्य कर्मियों को टीका लगाने के साथ शुरू हुआ था। जिन लोगों को पहली खुराक लगवाए 28 दिन हो चुके हैं, उन्हें 13 फरवरी से दूसरी खुराक लगानी शुरू कर दी गई थी। वहीं, अग्रिम मोर्चे के कर्मियों का टीकाकरण दो फरवरी से शुरू हुआ था।

इसके बाद, एक मार्च से 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों और गंभीर बीमारियों से ग्रस्त 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों का टीकाकरण शुरू हो गया। बुधवार सुबह सात बजे तक की प्रारंभिक रिपोर्ट के अनुसार, देश भर में 3,12,188 सत्रों में 1.56 करोड़(1,56,20,749) टीकों की खुराक दी जा चुकी है। जिन लोगों को टीकों की खुराक दी गई हैं, उनमें 67,42,187 स्वास्थ्यकर्मी (पहली खुराक), 27,13,144 स्वास्थ्यकर्मी (दूसरी खुराक), 55,70,230 अग्रिम मोर्चें के कर्मी (पहली खुराक), 834 अग्रिम मोर्चे के कर्मी(दूसरी खुराक), अन्य बीमारियों से ग्रसित 45 से अधिक आयु वर्ग के 71,896 लाभार्थी (पहली खुराक) और 60 वर्ष से अधिक आयु के 5,22,458 लाभार्थी शामिल हैं।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

केंद्र सरकार ने सीबीएसई की 12वीं की परीक्षा स्थगित, 10वीं की रद्द

नई दिल्ली (मा.स.स.). भारत में कोरोना संक्रमण की रफ्तार बेकाबू होते जा रही है। बीते …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *