सोमवार , दिसम्बर 06 2021 | 02:57:08 PM
Home / राज्य / जम्मू और कश्मीर / श्रीनगर से शारजाह फ्लाइट को पाकिस्तान ने अपने एयर स्पेस के प्रयोग की नहीं दी अनुमति

श्रीनगर से शारजाह फ्लाइट को पाकिस्तान ने अपने एयर स्पेस के प्रयोग की नहीं दी अनुमति

जम्मू (मा.स.स.). कश्‍मीरियों की मदद का दिखावा करने वाले पाकिस्‍तान के हुक्‍मरानों की कलई खुल गई है। पाकिस्‍तान ने श्रीनगर से शारजाह जाने वाली उड़ान को अपने हवाई क्षेत्र से गुजरने को मंजूरी नहीं दी है। इससे अब विमानों को ज्‍यादा दूरी से चक्‍कर काटते हुए जाना पड़ेगा जिससे यात्री किराया काफी बढ़ जाएगा। यह पूरी तरह से अंतरराष्‍ट्रीय मानकों का उल्‍लंघन है लेकिन पाकिस्‍तान ने अमानवीय कदम उठाते हुए इसे रोक दिया है। श्रीनगर से शारजाह की उड़ान को 11 साल बाद मंजूरी दी गई है।

पाकिस्‍तान की इस करतूत से अब किराया बढ़ जाएगा और इसका बोझ कश्‍मीरियों को उठाना पड़ेगा। पाकिस्‍तानी फैसले की वजह से श्रीनगर से उड़ान भरने वाले प्‍लेन को अब उदयपुर, अहमदाबाद और ओमान के रास्‍ते शारजाह जाना पड़ा है। जम्‍मू-कश्‍मीर के पूर्व मुख्‍यमंत्री उमर अब्‍दुल्‍ला ने ट्वीट करके इसे बहुत ही दुखद घटना करार दिया है। उन्‍होंने कहा कि पाकिस्‍तान ने ठीक यही हरकत साल 2009-10 में एयर इंडिया एक्‍सप्रेस विमान के दुबई जाने वाले विमान के साथ की थी।

अब्‍दुल्‍ला ने कहा कि मुझे उम्‍मीद थी कि गो फर्स्‍ट को पाकिस्‍तानी एयरस्‍पेस से उड़ान भरने की अनुमति दी गई थी तो यह रिश्‍तों में सुधार का संकेत था लेकिन दुखद यह रहा है क‍ि यह नहीं होने जा रहा है। इससे पहले 23 अक्‍टूबर को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने श्रीनगर-शारजाह की उड़ान को हरी झंडी दिखाई थी। इससे अब 11 साल बाद यूएई का सीधा संपर्क कश्‍मीर से हो गया था।

भारत के विदेश मंत्रालय ने पाकिस्‍तान के फैसले के बारे में नागरिक उड्डयन मंत्रालय को सूचना दी है। एक अधिकारी ने कहा क‍ि पाकिस्‍तान का फैसला बहुत ही चौकाने वाला है। अंतरराष्‍ट्रीय नियमों के मुताबिक बिना लैंडिंग के पूरे इलाके से विमानों को उड़ान भरने की आजादी है। 14 फरवरी, 2009 को एयर इंडिया एक्‍सप्रेस ने पहली अंतरराष्‍ट्रीय उड़ान को श्रीनगर से दुबई के बीच शुरू किया था। अभी गो फर्स्‍ट की सेवाएं श्रीनगर से हैं।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

सब इंस्पेक्टर की आतंकवादियों ने सरेआम गोली मार की हत्या

जम्मू (मा.स.स.). जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में रविवार को एक आतंकी ने पुलिसकर्मी को बीच बाजार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *