सोमवार , दिसम्बर 06 2021 | 02:31:54 PM
Home / अंतर्राष्ट्रीय / विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भारत बायोटेक की Covaxin को दी मंजूरी

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भारत बायोटेक की Covaxin को दी मंजूरी

जिनेवा (मा.स.स.). विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने आखिरकार भारत बायोटेक की कोवैक्सिन को आपातकालीन इस्तेमाल के लिए मंजूरी दे दी है। कोवैक्सीन की मंजूरी को लेकर डब्लूएचओ के अड़ियल रूख पर भारत भी कई बार सवाल उठा चुका था। तब डब्लूएचओ ने दलील देते हुए कहा था कि वैक्सीन के इस्तेमाल की मंजूरी देने के फैसले के लिए उसका पूरी तरह से मूल्यांकन जरूरी होता है। ऐसे में इस प्रक्रिया में समय लग सकता है। अब डब्ल्यूएचओ के तकनीकी सलाहकार समूह ने भारत बायोटेक के कोवैक्सिन के लिए आपातकालीन उपयोग सूचीकरण की स्थिति की सिफारिश कर दी है।

डब्लूएचओ से भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को मंजूरी मिलने से सबसे ज्यादा फायदा भारतीय नागरिकों को होगा। दुनिया के लगभग सभी देशों में डब्लूएचओ से मंजूरी मिली कोविड वैक्सीन को अपने आप मान्यता मिलने का नियम है। ऐसे में कोवैक्सीन की दोनों डोज लिए नागरिकों को अब दुनिया के किसी भी देश की यात्रा करने के दौरान अनिवार्य क्वारंटीन का सामना नहीं करना पड़ेगा। इससे पहले अलग-अलग देश आपसी संबंधों से हिसाब से कोवैक्सीन को मंजूरी दे रहे थे।

डब्ल्यूएचओ दक्षिण पूर्व एशिया की क्षेत्रीय निदेशक डॉ पूनम खेत्रपाल सिंह ने ट्वीट किया कि भारत को उसके स्वदेश विकसित कोविड-19 रोधी टीके कोवैक्सीन को आपात उपयोग के लिए सूचीबद्ध किये जाने के लिए बधाई। डब्ल्यूएचओ की घोषणा से पहले एक सूत्र ने बताया था कि डब्ल्यूएचओ के तकनीकी परामर्शदाता समूह ने कोवैक्सीन को आपात उपयोग के लिए सूचीबद्ध का दर्जा देने की सिफारिश की है। तकनीकी परामर्शदाता समूह ने 26 अक्टूबर को टीके को आपात उपयोग के लिए सूचीबद्ध करने के लिहाज से अंतिम जोखिम-लाभ मूल्यांकन करने के लिए कंपनी से अतिरिक्त स्पष्टीकरण मांगे थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल में जी20 शिखर सम्मेलन में डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक डॉ टेड्रस अधानम घेब्रेयेसस से मुलाकात की थी। डब्ल्यूएचओ का तकनीकी परामर्शदाता समूह एक स्वतंत्र सलाहकार समूह है जो डब्ल्यूएचओ को यह सिफारिश करता है कि क्या किसी कोविड-19 रोधी टीके को ईयूएल प्रक्रिया के तहत आपात उपयोग के लिए सूचीबद्ध किया जा सकता है या नहीं। कोवैक्सीन ने लक्षण वाले कोविड-19 रोग के खिलाफ 77.8 प्रतिशत प्रभाव दिखाया है और वायरस के नये डेल्टा स्वरूप के खिलाफ 65.2 प्रतिशत सुरक्षा दर्शाई है।

मेक्सिको उन देशों में शामिल है जहां Covaxin लगवा चुके भारतीयों को यात्रा करने की अनुमति है। देश का हेल्‍थ रेगुलेटर Cofepris भारत के Covaxin टीके को इमर्जेंसी यूज के लिए अधिकृत कर चुका है। मेक्सिको में अभी क्‍वारंटीन से जुड़ी कोई अनिवार्य जरूरत नहीं है। हालांकि, जिनमें कोविड के लक्षण दिखते हैं, उन्‍हें क्‍वारंटीन किया जा सकता है। कोवैक्‍सीन की दोनों डोज ले चुके भारतीय नागरिक नेपाल जा सकते हैं। सभी यात्रियों को वैक्‍सीन सर्टिफिकेट दिखाना पड़ता है। अंतिम डोज देश में जाने से 14 दिन पहले लिया गया हो।

जिन भारतीय नागरिकों को कोवैक्‍सीन की दोनों डोज लग चुकी हैं, वे ईरान भी जा सकते हैं। ईरान ने इसकी अनुमति दी हुई है। अराइवल पर 96 घंटों के भीतर किया गया निगेटिव पीसीआर टेस्‍ट देखा जाता है। रिपोर्ट नहीं होने पर 14 दिन के क्‍वारंटीन का नियम है। मॉरीशससरकार अपने यहां कोवैक्‍सीन को मान्‍यता देती है। वैक्‍सीन के दोनों डोज लगवा चुके लोगों से सर्टिफिकेट दिखाने के लिए कहा जाता है। दूसरा डोज लिए हुए कम से कम 14 दिन बीत चुके हों।

फिलीपींस ने भी भारत बायोटेक के टीके को अप्रूवल दिया हुआ है। फुली वैक्‍सीनेटेड उन्‍हीं को माना जाता है जिन्‍हें दूसरा डोज लिए हुए 14 दिन बीत चुके होते हैं। अफ्रीकी देश जिम्‍बाब्‍वेने भी भारतीय वैक्‍सीन को मान्‍यता दी हुई है। अपेक्षा की जाती है कि लोग देश पहुंचने पर 10 दिन क्‍वारंटीन में रहें। ऐसा वैलिड निगेटिव पीसीआर टेस्‍ट दिखाने के बाद करना है। जिनके पास मान्‍य निगेटिव पीसीआर टेस्‍ट नहीं है, उन्‍हें मना किया जा सकता है।

ओमान की सरकार ने ओमान की यात्रा के लिए स्वीकृत कोविड-19 टीकों की सूची में कोवैक्सीन को शामिल किया है। नागरिक उड्डयन प्राधिकरण ने इस बारे में 27 अक्टूबर को एक अधिसूचना जारी की। भारत से ओमान जाने वाले सभी यात्री, जिन्होंने अनुमानित आगमन तिथि से कम से कम 14 दिन पहले कोवैक्सीन की दो खुराक ले ली है, वे अब क्वारंटीन की जरूरत के बिना ओमान की यात्रा कर सकेंगे।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

इजरायल ने संयुक्त राष्ट्र के मंच पर ही फाड़ दी यूएनएचआरसी की रिपोर्ट

वाशिंटन (मा.स.स.). संयुक्त राष्ट्र (यूएन) में इजरायल के राजदूत गिलाद एर्दन ने संयुक्त राष्ट्र महासभा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *