सोमवार , दिसम्बर 06 2021 | 01:01:08 PM
Home / राज्य / उत्तरप्रदेश / 12 लाख से अधिक दीयों से रोशन हुई अयोध्या

12 लाख से अधिक दीयों से रोशन हुई अयोध्या

लखनऊ (मा.स.स.). उत्तर प्रदेश के अयोध्या में भव्य दीपोत्सव कार्यक्रम हुआ और इस दौरान पूरी अयोध्या रोशनी से जगमगा उठी। आज अयोध्या में 12 लाख दीये जलाए गए जो एक वर्ल्ड रिकॉर्ड है। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत कई केंद्रीय मंत्री अयोध्या में मौजूद रहे। इसके पहले नगर के साकेत पीजी कॉलेज से राम राज्याभिषेक शोभायात्रा जय श्रीराम के उद्घोष और शंखनाद के साथ रवाना हुई। जिसमें भारत की लोक संस्कृति के अलग-अलग रंग देखने को मिले। शोभयात्रा को उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। यहां एक कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी ने रामभक्तों की आस्था को नमन किया और पिछली सरकारों पर तुष्टिकरण की राजनीति का आरोप लगाते हुए उन्हें निशाने पर लिया।

उत्तर प्रदेश के अयोध्या में बुधवार को भव्य दीपोत्सव कार्यक्रम का आयोजन हुआ और राम की नगरी को 12 लाख दीयों से सजाया गया। 32 टीमों ने मिलकर 12 लाख दीये जलाए। ये एक वर्ल्ड रिकॉर्ड है। 12 लाख दीयों को जलाने के लिए 36 हजार लीटर सरसों के तेल का इस्तेमाल हुआ। राम की पैड़ी पर 9 लाख और अयोध्या के बाकी हिस्सों में 3 लाख दीपक जलाए गए। जबकि रामजन्म भूमि परिसर में 51 हजार दीये जलाए गए। दीयों की गिनती के लिए गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड की टीम भी पहुंची थी। सीएम योगी ने कहा कि पूरी दुनिया कहती थी कि यह काम असंभव है लेकिन सभी अवरोधों को खत्म करते हुए राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण का कार्य बिना रुकावट चल रहा है। यह भारत के लोकतंत्र की ताकत है, यहां के जनमानस की आस्था की शक्ति है। उन्होंने कहा कि असंभव कार्य संभव हुआ है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि दीपोत्सव और श्रीराम जन्मभूमि पर मंदिर का निर्माण मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण है। मेरा सौभाग्य है कि मैं इनमें सक्रिय सहयोग दे पा रहा हूं। योगी ने कहा कि प्रभु स्वयं तय करते हैं कि किस भूमिका में किसे काम करना है। सब प्रभु की लीला है।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दीपोत्सव कार्यक्रम को लेकर कहा कि पांच साल पहले जब अयोध्या में दीपोत्सव कार्यक्रम की चर्चा शुरू हुई थी तब हमारी सरकार ने तय किया था कि अयोध्या को उसकी नई पहचान दीपोत्सव कार्यक्रम के जरिए दिलवानी है। उन्होंने कहा कि मुझे याद है कि साल 2017, 2018 और 2019 में नारा गूंज रहा था कि ‘योगी जी एक काम करो, मंदिर का निर्माण करो’ और मैं तब भी यही कह रहा था कि इसके लिए आधारशिला तैयार की जा रही है।

योगी ने कहा कि आज ऐसा लगता है कि अगर आप इसे जारी रखेंगे तो जिन लोगों ने कारसेवकों पर गोलियां चलवाई थीं वो और उनका पूरा परिवार अगली कारसेवा के लिए पंक्तिबद्ध हो जाएगा। जब अगली कारसेवा होगी तब भगवान राम और भगवान कृष्ण के भक्तों पर गोलियां नहीं फूल बरसाए जाएंगे। यह लोकतंत्र की शक्ति है। मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि 31 साल पहले रामभक्तों और कारसेवकों पर अयोध्या में गोलियां चलाई गई थीं। जय श्री राम के नारे लगाना और राम मंदिर के लिए आवाज उठाना एक अपराध माना जाता था। लेकिन यह लोगों की और लोकतंत्र की शक्ति है कि जिन्होंने रामभक्तों पर गोलियां बरसाने का आदेश दिया था आज वही आपकी शक्ति के आगे झुक गए हैं।

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 2023 तक भव्य राम मंदिर का निर्माण पूरा हो जाएगा। इसे कोई नहीं रोक सकता। ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि मोदी है तो मुमकिन है। योगी ने कहा कि पहले की सरकारें यहां कब्रिस्तान की बाउंड्री पर पैसा खर्च करती थीं, लेकिन अब मंदिरों के पुनर्निर्माण और सुंदरीकरण पर पैसा खर्च किया जा रहा है। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यहां कहा कि अयोध्या में दीपोत्सव कार्यक्रम हर साल नई ऊंचाइयां छू रहा है। भव्य राम मंदिर के निर्माण के साथ यहां पर्यटन के मौके खूब बढ़ेंगे। उत्तर प्रदेश सरकार, केंद्र सरकार के साथ मिलकर इस पर काम कर रही है। इससे पहले मुख्यमंत्री ने यहां 661 करोड़ रुपये की 50 परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास भी किया।

केंद्रीय मंत्री जी किशन रेड्डी भी अयोध्या में मौजूद हैं। यहां उन्होंने दीपोत्सव कार्यक्रम के आयोजन के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सराहना की। रेड्डी ने कहा कि एक भव्य राम मंदिर का निर्माण हो रहा है और यह काम जल्द ही पूरा हो जाएगा। यहां दुनियाभर से करोड़ों लोग आएंगे। उन्होंने कहा कि 2030 तक अयोध्या पूरी दुनिया में सबसे बड़ा पर्यटन शहर हो जाएगा।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

हटी गाजीपुर बॉर्डर की बैरिकेडिंग, खुला टिकरी का एक रास्ता, सिंघु पर यथास्थिति

नई दिल्ली (मा.स.स.). केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की तमाम …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *