गुरुवार , जुलाई 29 2021 | 03:44:47 PM
Breaking News
Home / अंतर्राष्ट्रीय / महिला सैनिकों से हाई हील पहन करवाई परेड, हुई निंदा

महिला सैनिकों से हाई हील पहन करवाई परेड, हुई निंदा

अंतरराष्ट्रीय डेस्क (मा.स.स.). यूक्रेन की राजधानी कीव में महिला सैनिकों के हाई हील सैंडल पहनकर परेड करने पर बवाल मचा हुआ है। लोगों ने इसे सेक्सिज्म से जोड़ते हुए गुस्से का इजहार किया है। विपक्षी नेताओं ने भी इसे लैंगिक भेदभाव से जुड़ा मामला बताया है। आरोप है कि परेड के दौरान इस महिला सैनिकों को खूबसूरत दिखाने के लिए सैन्य जूतों के जगह पर हाई हील की सैंडल पहनने के लिए कहा गया। दरअसल, सोवियत संघ के विघटन के बाद यूक्रेन अगले महीने आजादी के 30 साल पूरे होने का जश्न मनाने वाला है। इस उपलक्ष्य में राजधानी कीव में एक भव्य सैन्य परेड की तैयारी की जा रही है। इसी में शामिल होने के लिए महिला सैनिकों के दस्ते को हाई हील के साथ परेड की ट्रेनिंग दी जा रही है। यूक्रेन का हाल में ही रूस के साथ सैन्य विवाद हुआ था। जिसके बाद वह इस परेड के जरिए अपनी सैन्य शक्ति को दिखाने की तैयारी में जुटा हुआ है।

यूक्रेनी रक्षा मंत्रालय की न्यूज वेबसाइट आर्मिया इनफॉर्म ने कैडेट इवान्ना मेडविड के हवाले से कहा कि आज पहली बार हमने हील वाली सैंडल के साथ परेड में हिस्सा लिया है। कैडेट ने यह भी बताया कि यह सेना के जूते की तुलना में थोड़ा कठिन है लेकिन हम कोशिश कर रहे हैं। महिला सैनिकों के इस हाई हील वाली परेड पर सोशल मीडिया में जमकर हंगामा हुआ। इतना ही नहीं, इस मामले की गूंज यूक्रेनी संसद में भी सुनाई दी। विपक्षी सांसद इरिना गेराशचेंको ने इसे लैंगिकवाद बताया। उन्होंने कहा कि महिला सैनिकों को हाई हील के साथ परेड करवाना कहीं से भी समानता नहीं है। वहीं विटाली पोर्टनिकोव नाम के एक फेसबुक यूजर ने लिखा कि यूक्रेन के कुछ अधिकारी मध्ययुगीन मानसिकता में जी रहे हैं। हील्स में परेड करवाना महिला सैनिकों का एक वास्तविक अपमान है।

यूक्रेन के पूर्व राष्ट्रपति पेट्रो पोरोशेंको के करीबी कई यूक्रेनी सांसदों ने संसद में जूतों की जोड़ी के साथ प्रदर्शन किया। उन्होंने यूक्रेनी रक्षा मंत्री को भी परेड में हाई हील पहनकर शामिल होने के लिए कहा। गोलोस पार्टी की सदस्य इन्ना सोवसन ने स्वास्थ्य जोखिमों की ओर इशारा करते हुए कहा कि यह अधिक मूर्खतापूर्ण और हानिकारक विचार है। इसकी कल्पना करना तक बहुत मुश्किल है। उन्होंने यह भी कहा कि यूक्रेन की महिला सैनिक, पुरुषों की तरह अपनी जान जोखिम में डाल रही हैं। यह बिलकुल भी मजाक करने लायक नहीं हैं। यूक्रेनी संसद की उपाध्यक्ष ओलेना कोंडराट्युक ने कहा कि सैन्य अधिकारियों को महिलाओं को अपमानित करने के लिए सार्वजनिक रूप से माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने इस घटना की उच्चस्तरीय जांच की मांग की। कोंडराट्युक ने कहा कि मौजूदा संघर्ष में 13,500 से अधिक महिलाओं ने लड़ाई लड़ी है। 31,000 से अधिक महिलाएं यूक्रेनी सशस्त्र बलों में सेवा करती हैं, जिनमें 4,000 अधिकारी शामिल हैं। ऐसे में इन्हें हाई हील के साथ परेड करवाने का विचार निंदनीय है।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

भारत सहित विश्व में कोरोना के कारण 15 लाख बच्चे हुए अनाथ

वाशिंगटन (मा.स.स.). कोरोना संक्रमण ने दुनियाभर में तबाही मचाई हुई है। इस महामारी ने अब …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *