बुधवार , अक्टूबर 27 2021 | 11:59:30 AM
Breaking News
Home / राज्य / दिल्ली / दिल्ली सरकार 8 साल में भी पूरा नहीं कर सकी 24 घंटे पानी का वादा

दिल्ली सरकार 8 साल में भी पूरा नहीं कर सकी 24 घंटे पानी का वादा

नई दिल्ली (मा.स.स.). दिल्ली सरकार की ओर से मालवीय नगर और वसंत विहार इलाके में 24 घंटे जलापूर्ति सुनिश्चित करने के लिए शुरू किए गए पायलट प्रोजेक्ट के 8 साल बीतने के बाद भी इन दोनों क्षेत्रों के मात्र 5 प्रतिशत घरों में ही इसका लाभ पहुंच सका है। आधिकारिक आंकड़ों में यह जानकारी सामने आई। दिल्ली जल बोर्ड (डीजेबी) ने जनवरी 2013 में निजी कंपनियों के साथ साझेदारी में परियोजना शुरू की थी। अधिकारियों ने बताया कि काम पूरा करने की समय सीमा दिसंबर 2014 थी। मालवीय नगर में 50,000 और वसंत विहार में 8,000 घर हैं।

आंकड़ों के मुताबिक, लगभग साढ़े आठ साल बीतने के बाद मालवीय नगर के केवल नवजीवन विहार और गीतांजलि एंक्लेव के मात्र 783 घरों को इस परियोजना का लाभ मिला है। इसके अलावा वसंत विहार के वेस्ट एंड कॉलोनी, आनंद निकेतन और शांति निकेतन के 2,156 घरों को ही इसका लाभ मिल पाया है। अधिकारियों ने बताया कि समूचे परियोजना क्षेत्र को 24×7 जलापूर्ति करने के लिए पर्याप्त पानी उपलब्ध नहीं है। एक अधिकारी ने कहा कि ज्यादातर जगहों पर पानी की आपूर्ति के लिए बुनियादी ढांचा तैयार है, लेकिन सभी को देने के लिए और पानी की आवश्यकता है। दिल्ली में हर घर में औसतन चार घंटे पानी आता है।

राजधानी में प्रतिदिन 1140 एमजीडी पानी की जरूरत है, जबकि दिल्ली जल बोर्ड 935 एमजीडी की आपूर्ति ही करता है। एक अन्य अधिकारी ने कहा कि डीजेबी कई जल परियोजनाओं पर एक साथ काम कर रहा है और आने वाले सालों में इसके नतीजे देखने को मिलेंगे।डीजेबी की योजना पल्ला में उच्च गुणवत्ता वाले उपचारित अपशिष्ट को निकालने और आगे के उपचार के लिए वजीराबाद में उठाने की है। भारत में अपनी तरह की यह पहली परियोजना दिसंबर 2024 तक अतिरिक्त 95 एमजीडी पानी देगी। दिसंबर 2022 तक राजधानी को हिमाचल प्रदेश से 50 एमजीडी और पानी मिलेगा।

अगले साल अक्टूबर तक, उपयोगिता मॉनसून के मौसम में अतिरिक्त पानी को बनाए रखने के लिए यमुना बाढ़ के मैदानों में बनाए गए जलाशयों से 25 एमजीडी निकालना शुरू कर देगी। दक्षिण-पश्चिम दिल्ली के नजफगढ़ में रोटा जैसे उच्च जलस्तर वाले क्षेत्रों से लगभग 200 एमजीडी भूजल निकाला जाएगा। अनुमान के मुताबिक, मार्च 2025 तक दिल्लीवालों की मांग को पूरा करने के लिए 1,305 एमजीडी पानी उपलब्ध होगा। एक अधिकारी ने बताया कि चल रही जल वृद्धि परियोजनाएं अगले तीन वर्षों में चरणों में समाप्त हो जाएंगी। 24×7 जलापूर्ति के लिए बुनियादी ढांचा भी उस समय तक तैयार हो जाएगा। उन्होंने कहा कि अरविंद केजरीवाल सरकार के तहत परियोजनाओं में तेजी लाई गई है। इस मोर्चे पर पहले बहुत कुछ नहीं किया गया था।

डीजेबी मालवीय नगर और वसंत विहार के अलावा नांगलोई क्षेत्र में दो कॉलोनियों – राणाजी एंक्लेव और विपिन गार्डन में 24×7 पानी की आपूर्ति कर रहा है। नांगलोई में ट्रायल पिछले साल अक्टूबर में शुरू हुआ था। तीन क्षेत्रों में 24×7 जलापूर्ति परियोजनाओं में शहर की 12 प्रतिशत आबादी शामिल होगी। इस तरह की एक और परियोजना वजीराबाद और चंद्रवाल वाटर ट्रीटमेंट प्लांट्स के कमांड क्षेत्रों में लागू की जा रही है। यह राजधानी की 11 प्रतिशत आबादी को कवर करेगी और 2024 में पूरी हो जाएगी।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

एम्स में उड़ाया गया रामायण के पत्रों का मजाक, उठी गिरफ्तारी की मांग

नई दिल्ली (मा.स.स.). दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के कुछ छात्रों द्वारा रामलीला मंचन करना अब विवादों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *