शुक्रवार , जुलाई 30 2021 | 03:51:48 AM
Breaking News
Home / राज्य / जम्मू और कश्मीर / बर्फ में दबने के कारण सीआरपीएफ जवान और वृद्ध महिला की मौत

बर्फ में दबने के कारण सीआरपीएफ जवान और वृद्ध महिला की मौत

जम्मू (मा.स.स.). कश्मीर घाटी में हो रही भारी बर्फबारी जानमाल के नुकसान का कारण बनने लगी है। घाटी में अभी तक बर्फबारी के कारण वृद्ध महिला समेत दो लोगों की जान जा चुकी है। मरने वाला दूसरा व्यक्ति सीआरपीएफ अधिकारी है। वह पूर्व विधायक सईद मोहम्मद आखून की सुरक्षा में तैनात था।

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के सब इंस्पेक्टर की बुधवार को श्रीनगर के हजरतबल इलाके में पूर्व विधायक के घर की छत के नीचे दब जाने से मौत हो गई। हजरतबल के पूर्व विधायक सैयद एम अाखून के आवास का हिस्सा भारी बर्फबारी के बाद नीचे गिर गया। शेड के नीचे मौजूद 115 बटालियन के सब इंस्पेक्टर एचसी मुर्मू उसके नीचे दबने से गंभीर रूप से घायल हो गए। पश्चिमी बंगाल के बुकारू के रहने वाले सब इंस्पेक्टर मुर्मू को वहां मौजूद दूसरे जवानों ने बाहर निकाल और उन्हें तुरंत उपजिला अस्पताल (एसडीएच) हजरतबल ले जाया गया। उनकी गंभीर हालत को देखते हुए डॉक्टरों ने प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें स्किम्स में रेफर कर दिया।

इससे पहले की सीआरपीएफ सब इंंस्पेक्टर स्किम्स पहुंचते उनकी जख्मों का ताव न सह पाने के कारण रास्ते में ही मौत हो गई। मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डॉ फारूक ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि जब तक सीआरपीएफ अधिकारी अस्पताल पहुंचा उनकी मौत हो चुकी थी। उन्हें काफी गंभीर चोटें आई थी। सीआरपीएफ के प्रवक्ता, पंकज सिंह ने भी अधिकारी की मौत की पुष्टि की और कहा कि पूर्व विधायक के घर में गिर गिरने से वह गंभीर रूप से घायल हो गया था। जिसके बाद उसने दम तोड़ दिया।

इसके अलावा दूसरा हादसा उत्तरी कश्मीर के जिला कुपवाड़ा के त्रेगाम इलाके में पेश आया जब छत पर गिरी बर्फ काफी तादाद में बुजुर्ग महिला पर आ गिरी। बर्फ में दबने से महिला की मौत हो गई। पुलिस अधिकारी ने बताया कि 70 वर्षीय महिला रहमी बेगम पत्नी अब्दुल सुबान मलिक निवासी शाह मोहल्ला त्रेगाम जब अपने घर से निकल कर बाहर आई तभी छत पर पड़ी बर्फ का एक बड़ा हिस्सा उस पर आ गिरा। वह बर्फ में दब गई। जब तक परिवार के लोग उसे बचाने के लिए बाहर आए तब तक बुजुर्ग महिला की मौत हो चुकी थी।

जिला कुलगाम कुंड क्षेत्र से आपदा प्रबंधन टीम ने करीब 30 परिवारों को बचा सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया। मिली जानकारी के अनुसार इस गांव में सात फुट तक बर्फ पड़ चुकी है। उक्त क्षेत्र में हिमस्खलन की आशंका बनी हुई थी। प्रशासन को डर था कि यदि क्षेत्र में हिमस्खलन होता है तो ये लोग इसकी चपेट में आ सकते हैं। यही वजह है कि एहतियात के तौर पर जिला प्रशासन ने पहले ही इन लोगों को वहां से निकाल सुरक्षित इलाकों में पहुंचा दिया।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

जम्मू में दिखे 2 ड्रोन, सेना की फायरिंग के बाद भागे

जम्मू (मा.स.स.). जम्मू के एयरफोर्स स्टेशन पर धमाकों के बाद अब कालूचक मिलिट्री स्टेशन के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *