सोमवार , सितम्बर 27 2021 | 07:10:57 PM
Breaking News
Home / राष्ट्रीय / परीक्षा पर चर्चा में नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘खाली समय एक अवसर है’

परीक्षा पर चर्चा में नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘खाली समय एक अवसर है’

नई दिल्ली (मा.स.स.). परीक्षा पर चर्चा के दौरान छात्रों, अभिभावकों और शिक्षकों के साथ संवाद करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को कहा कि परीक्षा कोई आखिरी पड़ाव नहीं है. उन्होंने कहा- ‘आपको डर एग्जाम का नहीं है. आपको डर किसी और का है और वो क्या है? आपको आसपास एक माहौल बना दिया है कि यही एग्जाम सबकुछ है, यही जिंदगी है. और हम यह आवश्यकता से अधिक ओवर कंसियस हो जाते हैं. हम थोड़ा ज्यादा सोचने लग जाते हैं. इसलिए मैं समझता हूं कि जिंदगी में ये कोई आखिरी मुकाम नहीं है.’

पीएम मोदी ने कहा- “ये जिंदगी बहुत लंबी है, बहुत पड़ाव आते हैं. परीक्षा एक छोटा सा पड़ाव है. हमें दबाव नहीं बनाना चाहिए, चाहे टीचर हो, स्टूडेंट हो, परिवारजन हो, यार दोस्त हो. अगर बाहर का दबाव कम हो गया, खत्म हो गया, तो एग्जाम का दबाव कभी महसूस नहीं होगा, कॉन्फिडेंस फलेगा-फूलेगा, प्रेशर रिलीज होगा, कम हो जाएगा. ”

मोदी ने कहा कि खाली समय को खाली मत समझिए, ये खजाना है. खाली समय एक सौभाग्य है, खाली समय एक अवसर है. आपकी दिनचर्या में खाली समय के पल होने ही चाहिए, वरना तो जिंदगी एक रोबोट जैसी हो जाती है. जब आप खाली समय में अर्न करते हैं तो आपको उसकी सबसे ज्यादा वैल्यू पता चलती है. इसलिए आपकी लाइफ ऐसी होनी चाहिए जब आप खाली समय अर्न करें तो वो आपको असीम आनंद दे. पीएम मोदी ने कहा कि यह भी ध्यान रखने की जरूरत है कि खाली समय में किन चीजों से बचना चाहिए, नहीं तो वो ही चीज सारा समय खा जाएगी. पता भी नहीं चलेगा और अंत में रिफ्रेश-रिलैक्स होने की बजाय आप तंग आ जाएंगे, थकान महसूस करने लगेंगे.

परीक्षा पर चर्चा के दौरान पीएम मोदी ने कहा- हमारे यहां परीक्षा के लिए एक शब्द है-कसौटी. मतलब, खुद को कसना है. ऐसा नहीं है एग्जाम आखिरी मौका है बल्कि एग्जाम तो एक प्रकार से एक लबी जिंदगी जीने के लिए अपने आपको कसने का एक उत्तम अवसर है. एक अवसर है. समस्या तब आती है जब एग्जाम को ही जैसे जीवन के सपनों का अंत मान लेत हैं. जीवन मरण का प्रश्न बना देते हैं. दरअसल एग्जाम जीवन को गढ़ने का एक अवसर है. वास्तव में हमे अपने आप को एक कसौटी पर कसने के मौके खोजते ही रहना चाहिए. ताकि हम और बेहतर कर सकें हमे भागना नहीं चाहिए.

नरेंद्र मोदी ने परीक्षा पर चर्चा करते हुए कहा- “ये परीक्षा पे चर्चा है, लेकिन सिर्फ परीक्षा की ही चर्चा नहीं है. बहुत कुछ बातें हो सकती हैं. एक हल्का-फुल्का माहौल बना है. एक नया आत्मविश्वास पैदा करना है और जैसे आपने घर में बैठकर बातें करते हैं, अपनों के बीच बात करते हैं, यार दोस्तों के साथ बात करते हैं. ” पीएम मोदी ने आगे कहा- आपने रूबरू न होना, आपके चेहरी की खुशी ना देखना, आपका उमंग और उत्साह ना अनुभव करना, ये अपने आप में मेरे लिए एक बड़ा नुकसान है. लेकिन फिर भी परीक्षा तो है ही है, आप है, मैं हूं, परीक्षा है, तो फिर अच्छा ही है कि हम परीक्षा पर चर्चा लगातार करेंगे और इस साल भी ब्रेक नहीं लेंगे. पीएम मोदी ने परीक्षा पर चर्चा के दौरान कहा- ये पराक्षा पर चर्चा का पहला वर्चुअल एडिशन है. हम पिछले एक साल से कोरोना के बीच जी रहे हैं और उसके कारण हर किसी को नया इनोवेशन करना पड़ रहा है. मुझे आपलोगों से मिलने का मोह इस बीच छोड़ एक नए फॉर्मेट में आपके बीच आना पड़ रहा है.

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

केंद्र सरकार कोरोना से हर मौत पर देगी 50 हजार रुपये का मुआवजा

नई दिल्ली (मा.स.स.). केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि कोविड-19 से हुई …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *