मंगलवार , जनवरी 19 2021 | 10:42:19 AM
Breaking News
Home / राज्य / अन्य राज्य / व्हाट्स एप को नहीं दी डाटा शेयर की अनुमति तो बंद हो जायेगा एप

व्हाट्स एप को नहीं दी डाटा शेयर की अनुमति तो बंद हो जायेगा एप

व्यापार डेस्क (मा.स.स.). दुनियाभर में पॉपुलर ऐप WhatsApp अपने यूजर्स के लिए नए-नए फीचर्स लेकर आता रहता है. इस साल ऐप में कई फीचर्स आने वाले हैं. WhatsApp जल्द ही अपनी नई प्राइवेसी पॉलिसी लेकर आने वाला है. अगर यूजर्स इस पॉलिसी को एक्सेप्ट नहीं करते हैं तो उन्हें ऐप डिलीट करना होगा. आइए जानते हैं इस नई प्राइवेसी पॉलिसी में क्या है खास.

WhatsApp यूजर्स को ऐप की नई टर्म और प्राइवेसी पॉलिसी को जल्द ही एग्री करना होगा. माना जा रहा है कि अगर आप इस प्राइवेसी पॉलिसी से एग्री नहीं होंगे तो आप WhatsApp का यूज नहीं कर पाएंगे. WABetaInfo की मानें तो WhatsApp 8 फरवरी 2021 को अपनी टर्म्स ऑफ सर्विस को अपडेट करने जा रहा है. अगर WhatsApp यूजर्स इससे एग्री नहीं होते हैं तो वे WhatsApp इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे.
WhatsApp की नई पॉलिसी में यूजर्स को जो लाइसेंस दिए जा रहे हैं उसमें कहा गया है कि हमारी सेवाओं को संचालित करने के लिए आप WhatsApp को, जो कंटेंट अपलोड, सबमिट, स्टोर, भेजते हैं या फिर प्राप्त करते हैं, उनको यूज, रिप्रोड्यूस, डिस्ट्रीब्यूट और डिस्प्ले के लिए दुनियाभर में, नॉन-एक्सक्लूसिव, रॉयल्टी फ्री, सब्लिसेंसेबल और ट्रांसफरेबल लाइसेंस दिया जाता है.

WhatsApp में यूजर्स के पास अभी Not Now का ऑप्शन है. मतलब अगर यूजर्स चाहें तो इसे एक्सेप्ट न करें. एक्सेप्ट न करने पर ऐप चलता रहेगा. इसके अलावा नई पॉलिसी के तहत में फेसबुक और इंस्टाग्राम का इंटीग्रेशन होगा. हालांकि WhatsApp का डेटा पहले भी फेसबुक के साथ साझा हो रहा था, लेकिन अब फेसबुक के साथ WhatsApp और Instagram का इंटीग्रेशन पहले से ज्यादा होगा. 

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

भाजपा पर किसान आंदोलन का असर न पड़ने के लिए कांग्रेस जिम्मेदार : शिवसेना

मुंबई (मा.स.स.). केंद्र के लाए तीन नए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *