रविवार , मई 16 2021 | 06:00:54 AM
Breaking News
Home / अंतर्राष्ट्रीय / क्वीन एलिजाबेथ के पति प्रिंस फिलिप का 100 साल का होने से पहले निधन

क्वीन एलिजाबेथ के पति प्रिंस फिलिप का 100 साल का होने से पहले निधन

लंदन (मा.स.स.). ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ-II के पति प्रिंस फिलिप का शुक्रवार को निधन हो गया। वे 99 साल के थे। हाल ही में उनकी हार्ट सर्जरी हुई थी। इन्फेक्शन के बाद उन्हें किंग एडवर्ड हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया था। यहां 28 दिन रहने के बाद 16 मार्च 2021 को उन्हें डिस्चार्ज किया गया था। प्रिंस फिलिप ने जनवरी में क्वीन के साथ कोरोना वैक्सीन लगवाई थी। 10 जून 1921 को जन्मे प्रिंस फिलिप दो महीने बाद अपना 100वां जन्मदिन मनाने वाले थे।

राज परिवार की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि हिज रॉयल हाइनेस द प्रिंस फिलिप, ड्यूक ऑफ एडिनबर्ग नहीं रहे। रॉयल हाइनेस का आज सुबह विंडसर कैसल में निधन हो गया। प्रिंस फिलिप ने 2017 में अपनी जिम्मेदारियों से रिटायरमेंट ले लिया था। इसके बाद से वह कभी-कभार ही नजर आते थे। इंग्लैंड में कोरोना वायरस के कारण लगे लॉकडाउन के दौरान वह लंदन में विंडसर कैसल में महारानी के साथ रह रहे थे। प्रिंस फिलिप का जन्म 10 जून 1921 को ग्रीस में हुआ था। वह ब्रिटिश इतिहास में सबसे ज्यादा समय तक राजा रहे। साथ ही ब्रिटिश राज परिवार के सबसे बुजुर्ग पुरुष सदस्य भी थे। ग्लुक्सबर्ग राजघराने के सदस्य फिलिप का संबंध यूनानी और डेनिश राज परिवारों से था। बचपन में ही उनके परिवार को देश से निष्कासित कर दिया गया था।

फ्रांस, जर्मनी और यूनाइटेड किंगडम से पढ़ाई करने के बाद 18 साल की उम्र में फिलिप 1939 में ब्रिटिश शाही नौसेना में शमिल हुए थे। क्वीन एलिजाबेथ से उनकी पहली मुलाकात 1934 में हुई थी। तब एलिजाबेथ की उम्र 13 साल थी। वे फिलिप की दूर की रिश्तेदार थीं। फिलिप ने दूसरे विश्वयुद्ध में भी हिस्सा लिया था। युद्ध के बाद जॉर्ज-षष्टम ने फिलिप के साथ अपनी बेटी एलिजाबेथ से शादी की इजाजत दे दी। सगाई के ऐलान से पहले ही उन्हें अपनी यूनानी और डेनिश शाही पदवियां छोड़कर ब्रिटिश नागरिक बनना पड़ा। सगाई के 5 महीने बाद उन्होंने 20 नवंबर 1947 को एलिजाबेथ से शादी कर ली। इसके बाद उन्हें ड्यूक ऑफ एडिनबर्ग की उपाधि दी गई।

1952 में एलिजाबेथ के महारानी बनने पर फिलिप ने सेना छोड़ दी। तब वह कमांडर के पद पर थे। राजगद्दी संभालने के बाद क्वीन एलिजाबेथ-II पहली बार 1961 में भारत के दौरे पर आई थीं। उनके साथ प्रिंस फिलिप भी आए थे। यहां जयपुर के राजपरिवार ने उनकी मेजबानी की थी।
प्रिंस फिलिप के निधन पर कई देशों के प्रधानमंत्रियों ने शाही परिवार के लिए संवेदनाएं जताई हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोशल मीडिया पर उन्हें श्रद्धांजलि दी है। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा कि देश उनके असाधारण जीवन और काम के लिए धन्यवाद देता है। देश महारानी और उनके परिवार के साथ है, जिन्होंने अपने प्रिय को खो दिया। वे एक समर्पित पति, बच्चों से प्यार करने वाले पिता, दादा और परदादा थे।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

चीन, पाकिस्तान को आर्थिक कॉरिडोर के लिए नहीं दे रहा 6 अरब डॉलर

इस्लामाबाद (मा.स.स.). भारत के तमाम विरोध के बावजूद गुलाम कश्मीर में बनाए जा रहे चीन-पाकिस्तान …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *