मंगलवार , मई 18 2021 | 03:31:45 AM
Breaking News
Home / राज्य / महाराष्ट्र / उद्धव ठाकरे लॉकडाउन को बताया जरुरी, देवेंद्र फडणवीस ने किया विरोध

उद्धव ठाकरे लॉकडाउन को बताया जरुरी, देवेंद्र फडणवीस ने किया विरोध

मुंबई (मा.स.स.). पूरा देश कोरोना की दूसरी लहर से जूझ रहा है। महाराष्ट्र में हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं। अकेले नागपुर में बीते 24 घंटे में यहां कोरोना के 5131 नए मामले सामने आए हैं जबकि 65 लोगों की मौत दर्ज की गई है। महाराष्ट्र में हर दिन 50 हजार से ज्यादा हर रोज नए मामले आने के बाद उद्धव सरकार भी परेशानियों में घिरती नजर आ रही है। शनिवार को सीएम उद्धव ठाकरे ने सर्वदलीय बैठक बुलाई। इस बैठक में कोरोना के खिलाफ सख्त कदम यानी पूर्ण लॉकडाउन लगाने पर चर्चा की गई। चर्चा के दौरान देवेंद्र फडणवीस पूरी तरह लॉकडाउन के सख्त खिलाफ दिखे। उन्होंने लॉकडाउन के अलावा अन्य कोशिशों से कोरोना पर काबू पाने की वकालत की।

सीएम उद्धव ठाकरे के साथ महाराष्ट्र के सर्वदलीय नेताओं की बैठक शुरू हुई। इस बैठक में पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस, चंद्रकांत पाटिल, राज ठाकरे, अशोक चव्हाण, दिलीप वलसे पाटिल, राजेश टोपे, नाना पटोले, प्रवीण दरेकर, डॉक्टर लहाने मौजूद रहे। सीएम ने अपनी भूमिका रखते हुए कहा कि राज्य की परिस्थिति ठीक नहीं है और लॉक डाउन के अलावा अभी कोई दूसरा विकल्प नहीं दिख रहा है। उन्होंने कहा कि 15 से 20 अप्रैल के बीच परिस्थिति काफी खराब हो सकती है।

उद्धव ठाकरे ने कहा है कि अब कठिन फैसला लेने का समय आ गया है क्योंकि कोई और ऑप्शन नहीं बचा। सीएम ने कहा कि लॉकडाउन का वक्त नजदीक आ गया है। कोरोना की चेन तोडना जरुरी हैं। टीका लगाने के बाद भी लोग संक्रमित हो रहें हैं। सीएम ठाकरे ने कहा कि युवा पीढ़ी ज्यादा प्रभावित हो रही है। लॉक डाउन जरूरी नहीं है लेकिन दूसरे देशों ने भी इस चेन को रोकने के लिए इस तरह का निर्णय लिया है इसलिए लॉक डाउन की जरूरत है।

इसके बाद राज्य में विपक्ष की भूमिका निभा रहे देवेंद्र फडणवीस ने लॉकडाउन का विरोध किया। फडणवीस ने कहा कि हमें निमंत्रित करने के लिए धन्यवाद। कोरोना बढ़ रहा हैं इसमें दो राय नहीं है। इसको रोकने के लिए RTPCR टेस्ट रिजल्ट जल्द से जल्द दें। प्राइवेट अस्पतालों में रेमेडिसिवीर नही मिल रहा है , ऑक्सीजन की कमी है, रेमिडीसीवीर जल्द से जल्द देना चाहिए। इन सब बातों पर गौर करना चाहिए। फडणवीस ने कहा कि आरोग्य सेवा बढ़ाई जाएं। पाबंदियां लगाएं जाएं मगर जनता और व्यापारियो की भावना का ध्यान रखा जाए।

उन्होंने आगे कहा कि जनता के बारे में सोचे। जनता और व्यापारियों की भावना का ध्यान रखना पड़ेगा पिछला साल लोगों का खराब हुआ है। अब तक लोग बिजली का बिल तक नही भर पाये हैं। लोग कैसे जियेंगे व्यपारी खत्म हो रहे है। पिछले साल का बिल लोगों से भरा नहीं गया। लोगों को आर्थिक पैकेज देना चाहिए। अगर राज्य का कर्जा बढ़ता है तो बढ़ने दो लेकिन लोगों के लिए राहत पैकेज दें। अगर लॉक डाउन हुआ तो लोगो का गुस्सा फूट जाएगा। फणनवीस ने कहा कि सत्ताधारी मंत्रीयों पर लगाम लगाओ। केंद्र की तरफ उंगली मत दिखाओ। इसलिए हमें जवाब देना पड़ रहा हैं। हम सरकार का सहयोग करेंगे।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

अस्पताल में ऑक्सीजन टैंक लीक होने से 22 लोगों की मौत

नासिक (मा.स.स.). भारत में कोरोना वायरस की दूसरी लहर जारी है और हर दिन कोविड-19 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *