बुधवार , अक्टूबर 20 2021 | 03:50:18 AM
Breaking News
Home / राज्य / उत्तराखंड / डिजिटल लिटरेसी पर वेबीनार का हुआ आयोजन

डिजिटल लिटरेसी पर वेबीनार का हुआ आयोजन

रुड़की (मा.स.स.). शिक्षक पर्व श्रंखला के कार्यक्रमों के अंतर्गत 1 से 15 सितंबर तक होने वाले कार्यक्रमों की श्रंखला में आज केंद्रीय विद्यालय संगठन देहरादून संभाग की ओर से उपायुक्त मीनाक्षी जैन के मार्गदर्शन एवं सहायक आयुक्त अलका गुप्ता, सुकृति रेवानी के दिशा निर्देशों एवं केंद्रीय विद्यालय क्रमांक 2 रुड़की के प्राचार्य अरविंद कुमार के संयोजन में “डिजिटल लिटरेसी फॉर यूथ एंड एडल्ट्स” विषय पर एक वेबीनार का आयोजन किया गया जिसमें मुख्य वक्ताओं के रूप में लखनऊ यूनिवर्सिटी के शिक्षा विभाग से डॉक्टर किरण डंगवाल, डी ए वी स्नातकोत्तर महाविद्यालय देहरादून के टीचर एजुकेशन डिपार्टमेंट से एसोसिएट प्रोफेसर डॉ रीना उनियाल तिवारी एवं हेमवती नंदन बहुगुणा विश्वविद्यालय श्रीनगर से प्रोफेसर सीमा धवन ने अतिथि वक्ताओं के रूप में अपने विचार व्यक्त किए।

वेबीनार की शुरुआत डॉ किरण लता ने ‘ डिजिटल इनीशिएटिव’ विषय पर डिजिटल साक्षरता से वेबीनार में भाग ले रहे लगभग एक सौ संभागीय को परिचित कराया जबकि डॉ रीना उनियाल तिवारी ने ‘डिजिटल लिटरेसी चैलेंजिज एंड वे फॉरवर्ड’  विषय पर बोलते हुए शिक्षा के क्षेत्र में ऑनलाइन शिक्षा की चुनौतियों से रूबरू कराते हुए उनसे निपटने के लिए विभिन्न प्रविधियों के इस्तेमाल पर जोर देते हुए कहा कि आज के युग में सभी शिक्षकों का डिजिटल साक्षर होना ही पर्याप्त नहीं है अपितु उन्हें इस क्षेत्र में बहुत कुछ सीखना एवं करना होगा। कार्यक्रम की मुख्य वक्ता प्रोफेसर सीमा धवन ने ‘ डिजिटल लिटरेसी ए स्टेप अहेड इन नेशनल एजुकेशन पॉलिसी 2020’ विषय के माध्यम से वेबीनार में उपस्थित केंद्रीय विद्यालय संगठन के समस्त प्राचार्यों ,शिक्षकों एवं छात्र छात्राओं को डिजिटल माध्यमों के उपयोग में बरते जाने वाली सावधानियों, सुरक्षा के मानकों तथा अन्य सावधानियों के बारे में बताया ।

उन्होंने कहा कि किसी भी डिजिटल प्लेटफार्म का इस्तेमाल करते हुए बहुत सावधानी की आवश्यकता होती है जैसे कि अनजाने व्यक्तियों से आभासी मंच पर अनायास ही मित्रता नहीं करनी चाहिए, किसी से भी अपना पासवर्ड शेयर नहीं करना चाहिए एवं निरंतर हो रही साइबर ठगी की घटनाओं से बचने के लिए समय-समय पर अपने पासवर्ड बदलते रहना चाहिए ।  उन्होंने कहा कि पासवर्ड हर तरह से ‘स्ट्रांग पासवर्ड’ होना चाहिए साथ ही साथ अनजाने नंबर से आने वाली कॉल को अटेंड करने से बचना चाहिए । ऐसे नंबरों से प्राप्त होने वाले संदेशों के झांसे में नहीं आना चाहिए तथा किसी से भी ओटीपी शेयर नहीं करना चाहिए। प्रोफेसर सीमा धवन ने अत्यंत प्रभावशाली वक्तव्य के माध्यम से शिक्षा नीति 2020 में भी डिजिटल लिटरेसी की उपादेयता पर प्रकाश डाला।

कार्यक्रम के अंत में केंद्रीय विद्यालय क्रमांक 2 रुड़की के प्राचार्य अरविंद कुमार ने तीनों वक्ताओं ,वेबीनार में भाग लेने वाले शिक्षकों, प्राचार्यगण एवं छात्र छात्राओं का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए इसे एक अत्यंत उपयोगी एवं आवश्यक वेबीनार बताया ।  वेबीनार का संचालन प्रियंका सिंघल ने  किया ।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

बच्चों ने चित्रकला प्रदर्शनी में उकेरे प्रतिभा के रंग

रुड़की (मा.स.स.). स्वच्छता पखवाड़ा कार्यक्रमों की श्रंखला के अंतर्गत आज केंद्रीय विद्यालय क्रमांक 2 रुड़की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *