मंगलवार , मई 18 2021 | 03:26:45 AM
Breaking News
Home / राज्य / बिहार / मॉब लिंचिंग से डर किशनगंज थानेदार को छोड़कर भागने वाले 7 पुलिसकर्मी सस्पेंड

मॉब लिंचिंग से डर किशनगंज थानेदार को छोड़कर भागने वाले 7 पुलिसकर्मी सस्पेंड

पटना (मा.स.स.). बिहार के किशनगंज टाउन थानेदार अश्विनी कुमार की वीभत्स मॉब लिंचिंग के बाद उनके घर में फिर से मातम पसर गया है। बेटे की हत्या के सदमे में उनकी मां ने भी शरीर छोड़ दिए। बताया जा रहा है कि वो बेटे की हत्या का गम बर्दाश्त नहीं कर पाईं। पश्चिम बंगाल में मॉब लिन्चिंग का शिकार हुए किशनगंज टाउन थानेदार अश्विनी कुमार का पार्थिव शरीर जब उनके घर पहुंचा तो उनकी मां इस दुख को बर्दाश्त नहीं कर पाईं। बेटे का शव देखते ही मां ने भी अपने प्राण त्याग दिए। इसके बाद पूरे इलाके का माहौल गमगीन हो गया। एक साथ शहीद थानेदार अश्विनी कुमार के घर से दो अर्थियां उठीं।

किशनगंज के टाउन थानाध्यक्ष अश्विनी कुमार की हत्या से परिजनों में जबरदस्त आक्रोश है। परिजनों का आरोप है कि साजिश के तहत थानेदार की हत्या की गई। उनका कहना है कि थानाध्यक्ष के साथ गए पुलिस पदाधिकारी और पुलिस बल अगर वहां मौजूद रहकर एक भी गोली चला देते तो शायद भीड़ के चंगुल से अश्विनी कुमार की जान बच जाती। मामले में लापरवाही बरतने के आरोप में सर्किल इंस्पेक्टर मनीष कुमार सहित सात पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। आईजी के निर्देश पर एसपी ने कार्रवाई की। बताया जा रहा है कि जब पश्चिम बंगाल के दिनाजपुर में भीड़ ने थानेदार अश्विनी कुमार को घेरा तो ये पुलिसकर्मी वहां से हट गए।

शहीद थानेदार अश्विनी कुमार की हत्या के आरोप में पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। पकड़े गए आरोपियों में फिरोज आलम, उसका भाई अबुजार आलम और इनकी मां सहीनुर खातुन शामिल हैं। पुलिस के मुताबिक फिरोज इस घटना का मुख्य आरोपी है। किशनगंज से सटे पश्चिम बंगाल के पंथापड़ा में तहकीकात के सिलसिले में दलबल के साथ गए इंस्पेक्टर अश्विनी कुमार पर ग्रामीणों ने हमला कर दिया था। इस दौरान मॉब लिन्चिंग कर उनकी हत्या कर दी गई।

पुलिस मुख्यालय के मुताबिक इस मामले में नामजद अभियुक्तों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जा रही है। इसमें संलिप्त तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है। पूर्णिया के आईजी और किशनगंज के एसपी घटनास्थल पर कैंप कर रहे हैं। वहीं डीजीपी एसके सिंघल ने पश्चिम बंगाल के डीजीपी से इस मामले में बात की। बंगाल के डीजीपी ने पूर्ण सहयोग का आश्वासन दिया है। पुलिस मुख्यालय के मुताबिक शहीद इंस्पेक्टर अश्विनी कुमार के परिजनों को अनुग्रह अनुदान, सेवांत लाभ और एक आश्रित को सरकारी नौकरी देने के लिए कार्रवाई की जा रही है। बिहार पुलिस ने शहीद इंस्पेक्टर अश्विनी कुमार को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उनके परिवार के प्रति गहरी संवेदना प्रकट की है।

बंगाल के ग्वालपोखर थाना क्षेत्र के पंतापाड़ा गांव में बाइक चोरी मामले में छापेमारी करने गयी पुलिस टीम पर भीड़ के हमले में किशनगंज टाउन थानाध्यक्ष अश्विनी कुमार की मौके पर ही मौत हो गई थी। घटना सुबह 3 बजे की है। शहीद थानेदार पूर्णिया जिले के बनमनखी प्रखंड के जानकीनगर थाना अंतर्गत पांचू मंडल टोला के रहने वाले थे। अश्विनी कुमार 94 बैच के दारोगा थे। बाद में उनका इंस्पेक्टर पद पर प्रमोशन हुआ था।

इधर इस्लामपुर अस्पताल में पोस्टमार्टम के बाद शव को पुलिस लाइन लाया गया। जहां पुलिस लाइन में आईजी सुरेश चौधरी, डीएम डाक्टर आदित्य प्रकाश, एसपी कुमार आशीष ने उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया जिसके बाद शहीद दारोगा के शव को पुलिस के साथ पैतृक गांव भेज दिया गया।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

बिहार सरकार के मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह का कोरोना से निधन

पटना (मा.स.स.). बिहार में कोरोना संक्रमण के मामलों में लगातार इजाफा हो रहा है। वायरस …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *