मंगलवार , जनवरी 19 2021 | 10:46:27 AM
Breaking News
Home / खेल / आखिरकार टिम पेन को रविचंद्रन अश्विन से मांगनी पड़ी माफी

आखिरकार टिम पेन को रविचंद्रन अश्विन से मांगनी पड़ी माफी

सिडनी (मा.स.स.). ऑस्ट्रेलिया टेस्ट टीम के कप्तान टीम पेन ने भारत के खिलाफ ड्रॉ हुए सिडनी टेस्ट के दौरान मैदान पर अपने बर्ताव के लिए माफी मांगी है। उन्होंने कहा कि उनकी कप्तानी अच्छी नहीं थी और रविचंद्रन अश्विन से छींटाकशी करके वे ‘बेवकूफ जैसे’नजर आए। पेन को उस समय आलोचना का सामना करना पड़ा जब उन्होंने अश्विन के साथ छींटाकशी की जो चोटिल हनुमा विहारी के साथ मिलकर भारत को हार बचाने की कवायद में जुटे थे।

भारतीय टीम 407 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए मैच ड्रॉ कराने में सफल रही। ऑस्ट्रेलियाई कप्तान ने कहा कि मैच के दौरान कई बार उनका ध्यान भटका, वह गुस्से थे और उत्तेजित भी हुए। पेन को ऑनलाइन प्रेस कांफ्रेंस के लिए नहीं आना था लेकिन वह इसके लिए पहुंचे और कहा, ‘मैंने कल मैच के बाद तुरंत उनसे (अश्विन से) बात की, मैंने उनसे कहा, देखो अंत में ऐसा लगा जैसे मैं बेवकूफ हूं, क्या मैंने ऐसा नहीं किया? आप मुंह खोलते हो और फिर कैच टपका देते हो।’

पेन ने कहा कि उन्होंने मीडिया से बात करने का फैसला किया क्योंकि उन्हें कल की कुछ बातें स्पष्ट करनी थी। बकौल पेन, ‘मैं इस टीम की अगुआई करने के अपने तरीके पर गर्व करता हूं इसलिए कल जैसे चीजें घटी उसके लिए माफी मांगना चाहता हूं।’ पेन ने तीन कैच छोड़े जिसमें अश्विन से बहस के बाद टपकाया गया हनुमा विहारी का कैच भी शामिल था। इस विकेटकीपर बल्लेबाज ने स्वीकार किया कि मैच का दबाव उन पर हावी हो गया और इससे उनका मूड प्रभावित हुआ। पेन ने कहा, ‘मेरी कप्तानी अच्छी नहीं थी, मैंने मुकाबले के दबाव को हावी होने दिया, यह मुझ पर हावी हो गया और इससे मेरा मूड प्रभावित हुआ और इसका मेरे प्रदर्शन पर असर हुआ।’

उन्होंने कहा, ‘कल मैं अपनी उम्मीदों और हमारी टीम के स्तर पर खरा नहीं उतरा।’पेन के अनुसार सोमवार को उनका बर्ताव उस तरीके की छवि नहीं थी जिस तरह वह ऑस्ट्रेलियाई टीम की अगुआई करना चाहते हैं। उन्होंने कहा, ‘इसलिए कल की गई गल्तियों के लिए मैं माफी मांगना चाहता हूं। निश्चित तौर पर यह उसकी छवि नहीं थी जिस तरह मैं इस टीम की अगुआई करना चाहता हूं।’

अंपायर के फैसले का विरोध करने के लिए पेन पर रविवार को मैच फीस का 15 प्रतिशत जुर्माना भी लगाया गया था। पेन ने अंपायरों के साथ बर्ताव के लिए भी माफी मांगी। उन्होंने कहा, ‘मैं जिस तरह इससे निपटा उसे लेकर बेहद निराश हूं। मैंने दूसरे दिन की शुरुआत में जिस तरह अंपायरों से बात की वह भी अस्वीकार्य है।’

पेन ने यह भी स्वीकार किया कि वह अपने खुद के स्तर पर और निश्चित नैतिक मूल्यों के अनुसार खेल को खेलने की उम्मीदों पर भी खरे नहीं उतरे। अश्विन के साथ बहस के दौरान अपशब्द का इस्तेमाल करने वाले पेन ने कहा, ‘मैं एक बार फिर अपने प्रशंसकों और लोगों से माफी मांगना चाहता हूं जिन्होंने कल मेरी कही कुछ बातें सुनी, यह सही नहीं थी विशेषकर टीम के कप्तान के मुंह से।’

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

वॉशिंगटन सुंदर ने तोड़ा 74 साल पुराना दत्तु फाडकर का रिकॉर्ड

खेल डेस्क (मा.स.स.). वॉशिंगटन सुंदर को जब ब्रिसबेन टेस्ट खेलने का मौका दिया गया था …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *