गुरुवार , फ़रवरी 25 2021 | 09:31:37 PM
Breaking News
Home / अंतर्राष्ट्रीय / जो बाइडेन ने अमेरिका के लिए घोषित किया 138 लाख करोड़ रुपए का राहत पैकेज

जो बाइडेन ने अमेरिका के लिए घोषित किया 138 लाख करोड़ रुपए का राहत पैकेज

वाशिंगटन (मा.स.स.). 20 जनवरी को अमेरिकी राष्ट्रपति बनने जा रहे जो बाइडेन ने अपना सबसे अहम चुनावी वादा निभाने का ऐलान कर दिया। बाइडेन ने कोरोना की वजह से गंभीर रूप से प्रभावित हुई अमेरिकी अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए 1.9 ट्रिलियन डॉलर (138 लाख करोड़ रुपए) के राहत पैकेज का ऐलान किया। इसको कुछ हिस्सों में बांटा गया है। पैकेज को कांग्रेस यानी अमेरिकी संसद के दोनों सदनों से पारित कराना होगा। मोटे तौर पर देखें तो पैकेज लागू होने के बाद हर अमेरिकी के खाते में 1400 डॉलर यानी करीब 30 हजार रुपए आएंगे।

एक और खास बात यह है कि बाइडेन के पैकेज में छोटे कारोबारियों को भी राहत दी गई है। पैकेज को ‘अमेरिकन रेस्क्यू प्लान’ नाम दिया गया है। बाइडेन के पैकेज का सिर्फ एक मकसद है कि अमेरिकी अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाया जाए। पैकेज में जिस तरह का फंड का बंटवारा प्रस्तावित है उससे साफ हो जाता है कि कारोबार, शिक्षा और हर अमेरिकी को राहत देने का फैसला किया गया है। इसके साथ ही वैक्सीनेशन पर भी फोकस किया गया है।

415 अरब डॉलर कोरोना के खिलाफ जंग पर खर्च किए जाएंगे। 1400 डॉलर हर अमेरिकी के अकाउंट में ट्रांसफर होंगे। 440 अरब डॉलर स्मॉल स्केल बिजनेस (छोटे कारोबार) के सुधार पर खर्च होंगे। 15 डॉलर प्रति घंटे के हिसाब से कर्मचारियों को न्यूनतम वेतन (मिनिमम वेज) दिया जाएगा। पहले यह 7 डॉलर के आसपास था।

बिल्कुल आ सकती है। दरअसल, नवंबर-दिसंबर में जब ट्रम्प राहत पैकेज लेकर आए थे तब, बाइडेन और उनकी डेमोक्रेटिक पार्टी ने कई सवाल उठाए थे। अब भी सीनेट में रिपब्लिकन पार्टी का बहुमत है। वो अड़ंगा लगा सकते हैं। दूसरी बात, पैकेज में डिफेंस सेक्टर के लिए अलग से कोई ऐलान नहीं किया गया है। इस पर आपत्ति हो सकती है।

एक और बात ध्यान देने वाली है। बाइडेन और वाइस प्रेसिडेंट इलेक्ट कमला हैरिस ने इस राहत पैकेज की घोषणा बाइडेन के होम टाउन विलिमिंग्टन (डेलावेयर) में की। आमतौर पर इतनी बड़ी घोषणाएं देश की राजधानी में की जाती हैं। बहरहाल बाइडेन ने कहा- संकट बड़ा और रास्ता मुश्किल है। अब हम और वक्त बर्बाद नहीं कर सकते। जो करना है वो, फौरन करना है।

बाइडेन चाहते हैं कि 100 दिन में करीब 10 करोड़ अमेरिकी नागरिकों को वैक्सीनेट किया जाए। वे बेरोजगारी भत्ता 300 डॉलर से बढ़ाकर 400 डॉलर हर महीने करना चाहते हैं। स्कूल फिर खोलने के लिए 130 अरब डॉलर खर्च किए जाने की योजना है। एक करोड़ 10 लाख बेरोजगारों को 400 डॉलर हर महीने मिलना बड़ी राहत है।

भारत की कुल अर्थव्यवस्था इस वक्त करीब 3 ट्रिलियन डॉलर की है। इस लिहाज से देखें तो बाइडेन ने जो राहत पैकेज अनाउंस किया है वो भारत की अर्थव्यवस्था के आधे से भी ज्यादा है।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

श्रीलंका ने चीन की कोरोना वैक्सीन को मंजूरी देने की जगह भारत से मंगाई

कोलंबो (मा.स.स.). श्रीलंका ने चीनी ड्रैगन को बड़ा झटका देते हुए उसकी साइनोफॉर्म कोरोना वायरस …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *