शुक्रवार , मई 14 2021 | 11:49:07 AM
Breaking News
Home / अंतर्राष्ट्रीय / ब्रिटेन के गृह मंत्री ने नीरव मोदी के भारत प्रत्यर्पण को दी मजूरी

ब्रिटेन के गृह मंत्री ने नीरव मोदी के भारत प्रत्यर्पण को दी मजूरी

लंदन (मा.स.स.). हजारों करोड़ रुपये के घोटाले के आरोपी नीरव मोदी के आखिरकार भारत आने का रास्ता साफ हो गया। CBI के मुताबिक ब्रिटेन के गृह मंत्री ने भगोड़े हीरा व्यापारी मोदी के प्रत्यर्पण को हरी झंडी दे दी है। पंजाब नैशनल बैंक को करीब 12 हजार करोड़ रुपये की चपत लगाकर लंदन में जाकर बैठने वाला मोदी वहां की कोर्ट में इस कदम से बचने की जुगत में लगा हुआ था।

हालांकि, फरवरी में कोर्ट ने उसके खिलाफ पर्याप्त सबूत होने की बात मान ली थी और उसकी सभी दलीलों को खारिज कर दिया था। कोर्ट ने यह भी माना था कि नीरव मोदी ने सबूत मिटाने और गवाहों को धमकाने की साजिश रची। जमानत को लेकर नीरव मोदी के कई प्रयास मजिस्ट्रेट अदालत और उच्च न्यायालय में खारिज कर दिए गए थे क्योंकि उसके फरार होने का जोखिम रहा।

नीरव ने बचने के लिए कोर्ट में मानसिक स्वास्थ्य का हवाला दिया था लेकिन कोर्ट ने कहा कि ऐसी परिस्थिति में यह असामान्य बात नहीं है। जज ने बताया कि नीरव मोदी को मुंबई के आर्थर रोड जेल में पर्याप्त चिकित्सा दी जाएगी और मानसिक स्वास्थ्य देखभाल भी की जाएगी। जज ने कहा कि नीरव मोदी को भारत भेजने पर आत्महत्या का कोई खतरा नहीं है क्योंकि उसके पास आर्थर रोड जेल में पर्याप्त चिकित्सा सुविधा उपलब्ध है।

फोर्ब्स के मुताबिक 2017 में नीरव मोदी की कुल दौलत 180 करोड़ डॉलर (करीब 11, 700 करोड़ रुपए) थी। नीरव मोदी की कंपनी का मुख्यालय मुंबई में है। मार्च 2018 में नीरव मोदी ने न्यूयॉर्क में बैंकरप्सी प्रोटेक्शन के तहत याचिका दायर की थी।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

चीन, पाकिस्तान को आर्थिक कॉरिडोर के लिए नहीं दे रहा 6 अरब डॉलर

इस्लामाबाद (मा.स.स.). भारत के तमाम विरोध के बावजूद गुलाम कश्मीर में बनाए जा रहे चीन-पाकिस्तान …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *