बुधवार , अक्टूबर 27 2021 | 12:49:02 PM
Breaking News
Home / राष्ट्रीय / रिपोर्ट : राजस्थान में हुए देश के सबसे अधिक बलात्कार

रिपोर्ट : राजस्थान में हुए देश के सबसे अधिक बलात्कार

नई दिल्ली (मा.स.स.). राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) की तरफ से जारी आंकड़े बताते हैं कि देश में 2020 में हत्याओं में इजाफा हुआ है. हालांकि, 2019 की तुलना में महिलाओं के विरुद्ध अपराधों में कुछ कमी आई है. रिपोर्ट के मुताबिक, बलात्कार के सबसे ज्यादा मामले राजस्थान में दर्ज किए गए. वहीं, 19 मेट्रो शहरों में अपराध की सूची में लगातार दूसरे वर्ष राजधानी दिल्ली सबसे ऊपर रही. उत्तर प्रदेश में सर्वाधिक हत्याएं हुईं.

एनसीआरबी के आंकड़ों के मुताबिक, पूरे देश में 2020 में बलात्कार के प्रतिदिन औसतन करीब 77 मामले दर्ज किए गए. पिछले साल दुष्कर्म के कुल 28,046 मामले दर्ज किए गए. देश में ऐसे सबसे अधिक मामले राजस्थान में और दूसरे नंबर पर उत्तर प्रदेश में दर्ज किए गए. हालांकि, आंकड़े बताते हैं कि देश में अपहरण के मामलों में कमी देखी गई है. केंद्रीय गृह मंत्रालय के तहत आने वाले एनसीआरबी ने कहा कि पिछले साल पूरे देश में महिलाओं के विरूद्ध अपराध के कुल 3,71,503 मामले दर्ज किए गए जो 2019 में 4,05,326 थे और 2018 में 3,78,236 थे. एनसीआरबी के आंकड़ों के अनुसार, 2020 में महिलाओं के विरूद्ध अपराध के मामलों में से 28,046 बलात्कार की घटनाएं थी जिनमें 28,153 पीड़िताएं हैं. पिछले साल कोविड-19 के कारण लॉकडाउन लगाया गया था.

आंकड़े बताते हैं कि कुल पीड़िताओं में से 25,498 वयस्क और 2,655 नाबालिग हैं. एनसीआरबी के गत वर्षों के आंकड़ों के मुताबिक, 2019 में बलात्कार के 32,033, 2018 में 33,356, 2017 में 32,559 और 2016 में 38,947 मामले थे. पिछले साल बलात्कार के सबसे ज्यादा 5,310 मामले राजस्थान में दर्ज किए गए. इसके बाद 2,769 मामले उत्तर प्रदेश में, 2,339 मामले मध्य प्रदेश में, 2,061 मामले महाराष्ट्र में और 1,657 मामले असम में दर्ज किए गए. आंकड़ों के मुताबिक, राष्ट्रीय राजधानी में बलात्कार के 997 मामले दर्ज किए गए हैं.

पिछले साल महिलाओं के खिलाफ अपराध के कुल मामलों में से, सबसे ज्यादा 1,11,549 ‘पति या रिश्तेदारों द्वारा क्रूरता’ की श्रेणी के थे जबकि 62,300 मामले अपहरण के थे. एनसीआरबी के आंकड़े बताते हैं कि 85,392 मामले ‘शील भंग करने के लिए हमला’ करने के थे तथा 3,741 मामले बलात्कार की कोशिश के थे. बताया गया है कि 2020 के दौरान पूरे देश में तेज़ाब हमले के 105 मामले दर्ज किए गए. आंकड़ों के मुताबिक, भारत में पिछले साल दहेज की वजह से मौत के 6,966 मामले दर्ज किए गए जिनमें 7,045 पीड़िताएं शामिल थीं.

19 मेट्रो शहरों के आंकड़े देखें, तो लगातार दूसरे वर्ष 2020 में अपराध के मामले में दिल्ली शीर्ष पर रहा. रिपोर्ट बताती है कि भारतीय दंड संहिता की अलग-अलग धाराओं के तहत शहर के पुलिस थानों में 2 लाख 45 हजार 844 मामले दर्ज किए गए. अपराध की दर की गणना के लिए एनसीआरबी ने 2011 की जनगणना के आधार पर 19 मेट्रोपॉलियन सिटीज का डेटा शामिल किया था. 2019 में भी दिल्ली 19 मेट्रो शहरों में अपराध के मामले में शीर्ष पर था. उस दौरान कुल 2 लाख 95 हजार 693 मामले दर्ज किए गए थे.

आंकड़े बताते हैं कि 19 मेट्रो शहरों में दूसरे स्थान पर चेन्नई है. यहां 88 हजार 388 मामले दर्ज हुए और अपराध की दर 101.6 रही. मुंबई में 5 हजार 158 आपराधिक मामले सामने आए. खास बात यह है कि इस सूची में कोलकाता का नाम सबसे नीचे है. हालांकि, दिल्ली में हत्या से जुड़े मामलों में कमी आई है. शहर में 2020 में 461 लोगों की हत्या हुई. जबकि, 2019 में यह आंकड़ा 505 पर था. 19 मेट्रो शहरों में बच्चों के अपहरण, बलात्कार के मामले में दिल्ली शीर्ष पर रहा.

NCRB की रिपोर्ट में दर्ज 2020 के आंकड़ों के अनुसार, 2019 से तुलना की जाए, तो देश में हत्या के मामलों में 1 प्रतिशत का इजाफा हुआ है. 2020 में प्रतिदिन औसतन 80 हत्याएं हुईं. हत्या के कुल मामले 29 हजार 193 थे. आंकड़ों के अनुसार, 2020 में उत्तर प्रदेश में हत्या के 3779 मामले दर्ज किए गए. इसके बाद बिहार में हत्या के 3,150, महाराष्ट्र में 2,163, मध्य प्रदेश में 2,101 और पश्चिम बंगाल में 1,948 मामले दर्ज किए गए.

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

आमिर खान ने की सड़क पर पटाखे न जलाने की अपील, भाजपा सांसद ने जताई आपत्ति

बेंगलुरु (मा.स.स.). एक क्लोदिंग ब्रैंड के फेस्टिव कलेक्शन की लाइन को लेकर विवाद थमा नहीं …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *