गुरुवार , मार्च 04 2021 | 02:32:07 AM
Breaking News
Home / अंतर्राष्ट्रीय / चीनी गुफा में वुहान के वैज्ञानिकों को चमगादड़ के काटने से फैला था कोरोना

चीनी गुफा में वुहान के वैज्ञानिकों को चमगादड़ के काटने से फैला था कोरोना

बीजिंग (मा.स.स.). कोरोना वायरस के स्रोत का पता लगाने वुहान पहुंची विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के टीम के दौरे के बीच एक बड़ा खुलासा हुआ है। वुहान लैब के वैज्ञानिकों ने माना है कि रहस्‍यमय गुफाओं से चमगादड़ के नमूने लेते समय उन्‍हें कुछ चमगादड़ों ने काट लिया था। माना जाता है कि ये चीनी गुफाएं कोरोना वायरस से संक्रमित चमगादड़ों का घर हैं। चीन के सरकारी टीवी चैनल सीसीटीवी पर करीब दो साल पहले दिखाए वीडियो में चीनी वैज्ञानिकों ने चमगादड़ के काटने की बात को स्‍वीकार किया है। इस वीडियो में यह भी नजर आ रहा है क‍ि वुहान इंस्‍टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी के वैज्ञानिकों ने चमगादड़ के नमूने लेते समय लापरवाही बरती जिससे वे चमगादड़ के श‍िकार बने।

वुहान इंस्‍टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी पर सुरक्षा मानकों को ताक पर रखकर काम करने के आरोप लगते रहे हैं। ताइवान न्‍यूज की रिपोर्ट के मुताबिक अब 29 दिसंबर 2017 के सीसीटीवी के एक वीडियो में चीनी लैब की लापरवाही पूरी सबूत म‍िला है। इस वीडियो को चीन की बैट वूमन कही जाने वाली वैज्ञानिक शी झेंगली और उनकी टीम की सार्स के ओरिजिन का पता लगाने के प्रयास को द‍िखाने के लिए बनाया गया था। बॉयोसेफ्टी लेवल 4 की लैब कही जाने वाली वुहान लैब के वैज्ञानिकों ने गुफा के अंदर चमगादड़ को पकड़ने में लापरवाही बरती। इसका नतीजा यह रहा कि एक चीनी शोधकर्ता को चमगादड़ ने काट लिया था। खुद शोधकर्ता ने वीडियो में इस बात को कबूल किया है और अपने हाथ को भी दिखाया है। वीडियो में नजर आ रहा है क‍ि टीम के सदस्‍य चमगादड़ के बेहद संक्रामक मल को शॉर्ट्स और टीशर्ट पहनकर इकट्ठा कर रहे हैं। उस दौरान किसी ने पीपीई किट नहीं पहना है।

वुहान लैब के शोधकर्ता ने कहा, ‘चमगादड़ के जहरीले दांत मेरे रबर के दस्‍ताने में घुस गए और ऐसा लगा जैसे मेरे हाथ में सूई घुस रही हो।’ यही नहीं वुहान लैब के अंदर स्‍टाफ बिना ग्‍लव्‍स के काम करता दिखा। ये लोग ‘जिंदा वायरस’ पर काम कर रहे थे और मास्‍क तक नहीं पहन रखा था। वह भी त‍ब जब विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन ने सुरक्षा के ल‍िहाज से ऐसी लैब के अंदर पीपीई किट को अनिवार्य किया है। यह खुलासा ऐसे समय पर हुआ है जब डब्‍ल्‍यूएचओ की टीम कोरोना के स्रोत की जांच के लिए चीन में मौजूद है। चीन ने काफी हिलाहवाली के बाद जांच दल को अपने यहां आने और वुहान में जांच करने की अनुमति दी है। वीडियो में नजर आ रहा है कि एक चीनी वैज्ञानिक ने नंगे हाथ से चमगादड़ को पकड़ रखा है। हालांकि कुछ ऐसे सदस्‍य भी थे जिन्‍होंने हजामत सूट पहन रखा था लेकिन उनसे बात कर रहे अन्‍य लोग सामान्‍य कपड़ों में थे।

वीडियो में जिंदा चमगादड़ों को दिखाया गया है। वीडियो में बता रहे शख्‍स ने कहा कि वैज्ञानिकों ने ग्‍लव्‍स पहन रखा था लेकिन इसके बाद भी चमगादड़ों के काटने का खतरा मौजूद है। एक शोधकर्ता ने इसी दौरान माना कि उसे चमगादड़ ने काटा था। उसने दिखाया कि चमगादड़ के काटने की वजह से उसके जोड़ों में सूजन आ गई। इस वीडियो में खुद ही बताने वाले ने माना है कि चमगादड़ में कई तरह के घातक वायरस मौजूद रहते हैं। उसने कहा कि टीम के हर सदस्‍य को गुफाओं में आने से पहले रेबीज का टीका लगाया गया था। इस वीडियो को पहले चाइना सांइस एक्‍सप्‍लोरेशन सेंटर ने पोस्‍ट किया था लेकिन बाद में उसे चीन ने सेंसर कर दिया। इस वीडियो में चीन की बैट वूमन ने कहती सुनाई पड़ रही हैं कि ‘यह काम इतना खतरनाक नहीं है जितना हर कोई सोचता है। उन्‍होंने कहा कि यह सही है कि चमगादड़ कई वायरस लेकर चल‍ते हैं लेकिन इनके सीधे इंसान को संक्रमित करने का खतरा बहुत कम है।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

डोनाल्ड ट्रंप नहीं बनायेंगे नई पार्टी

वाशिंगटन (मा.स.स.). अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप व्हाइट हाउस छोड़ने के बाद पहली बार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *