मंगलवार , नवम्बर 30 2021 | 05:49:34 AM
Home / राष्ट्रीय / 94 दिनों बाद भारत में सबसे अधिक लगभग 29 हजार कोरोना के नए मामले

94 दिनों बाद भारत में सबसे अधिक लगभग 29 हजार कोरोना के नए मामले

नई दिल्ली (मा.स.स.). देश में 28,869 कोरोना पॉजिटिव मिले। 17,746 ठीक हो गए और 187 की मौत हो गई। इस तरह एक्टिव केस, यानी इलाज करा रहे मरीजों की संख्या में 10,935 की बढ़ोतरी हुई। नए संक्रमितों का आंकड़ा करीब तीन महीने पीछे चला गया है। इससे ज्यादा 30,354 केस 12 दिसंबर को आए थे। नए संक्रमितों में सबसे ज्यादा 17,864 मरीज सिर्फ महाराष्ट्र में ही मिले।

देश में अब तक कुल 1 करोड़ 14 लाख 38 हजार 464 लोग इस महामारी की चपेट में आ चुके हैं। इनमें से 1 करोड़ 10 लाख 43 हजार 337 ठीक हुए हैं। 1 लाख 59 हजार 79 ने जान गंवाई है, जबकि 2 लाख 31 हजार 335 का इलाज चल रहा है। 24 घंटे में 28,903 नए कोरोना के मामले में 10% केस महाराष्ट्र, पंजाब, कर्नाटक, गुजरात और तमिलनाडु में सामने आए हैं। भारत में कुल एक्टिव केस 34 लाख है। महाराष्ट्र, केरल और पंजाब में ही 76.4% एक्टिव केस हैं। इनमें अकेले महाराष्ट्र में 60% कोरोना के मामले हैं। देश के 15 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में पिछले 24 घंटे में कोरोना से कोई मौत नहीं हुई है। इनमें असम, आंध्रप्रदेश, ओडिशा, उत्तराखंड, लक्ष्यदीप, सिक्किम, मेघालय, दादर और नगर हवेली, दमन दीव, नागालैंड, त्रिपुरा, लद्दाख, मणिपुर, मिजोरम, अंडमान और निकोबार आइसलैंड और अरूणाचल प्रदेश शामिल हैं।

पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता दिलीप गांधी का बुधवार को निधन हो गया। गांधी कोरोना पॉजिटिव हुए थे और उनका दिल्ली के एक हॉस्पिटल में इलाज चल रहा था। महाराष्ट्र के अहमदनगर के रहने वाली गांधी पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में 2003 से 2004 तक शिपिंग मिनिस्टर थे। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल और इंदौर में बुधवार से नाइट कर्फ्यू लगाने का फैसला किया गया है। जबलपुर, ग्वालियर, उज्जैन, रतलाम, छिंदवाड़ा, बुरहानपुर, बैतूल, खरगोन में रात 10 बजे के बाद बाजार बंद रहेंगे। इन शहरों में कर्फ्यू जैसी स्थिति नहीं रहेगी, लेकिन व्यापारियों को बाजार अनिवार्य रूप से बंद करना होगा।

गुजरात में अहमदाबाद, वडोदरा, सूरत और राजकोट में नाइट कर्फ्यू को 31 मार्च तक बढ़ा दिया गया है। हालांकि गुजरात के इन शहरों में पहले से ही नाइट कर्फ्यू लगा हुआ था, लेकिन इसका समय रात 12 बजे से सुबह 6 बजे तक था।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

प्रियंका गांधी वाड्रा का सियासी जुआ

-प्रो. रसाल सिंह फरवरी 2022 में होने वाले उत्तर प्रदेश विधान-सभा चुनाव में जीत के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *