बुधवार , जून 16 2021 | 01:30:12 PM
Breaking News
Home / राज्य / उत्तराखंड / विधि-विधान और पूजा-अर्चना के साथ खुले बाबा केदारनाथ धाम के कपाट

विधि-विधान और पूजा-अर्चना के साथ खुले बाबा केदारनाथ धाम के कपाट

देहरादून (मा.स.स.). विश्व प्रसिद्ध भगवान केदारनाथ धाम के कपाट विधि विधान और पूजा अर्चना के बाद आज सुबह 5 बजे खोल दिए गए। कपाट खुलने के मौके पर यहां तीर्थयात्री और स्थानीय लोगों की कमी साफ देखी गई। कोराना संकट के चलते यह दूसरा मौका है जब कपाट खुलने पर बाबा के दरबार में भक्तों का टोटा नहीं था।

केदारनाथ धाम में कपाट खुलने से पहले ही पूरी तैयारियां कर ली गई थी। पूरे मंदिर को 11 कुंतल फूलों से सजाया गया है। भगवान शंकर की मंत्रमुग्ध करने वाली धुनों से केदारपुरी में वातावरण भक्तिमय बन गया है। आज सुबह केदारनाथ रावल भीमाशंकर लिंग और मंदिर के मुख्य पुजारी बागेश लिंग एवं प्रशासन की मौजूदगी में मंदिर के कपाट खोले दिए जाएंगे। मुख्य द्वार खुलने के बाद आम भक्तों को मंदिर में प्रवेश प्रतिबंधित किया गया है।

धाम के कपाट खोले जाने के वक्त केदारनाथ रावल भीमाशंकर लिंग, मुख्य पुजारी बागेश लिंग, जिलाधिकारी मनुज गोयल, 21 तीर्थपुरोहित, देवस्थानम बोर्ड के 14 कर्मचारी, सीओ गुप्तकाशी अनिल मनराज, चौकी इंजार्च मंजुल रावत, 6 काटेबल, 2 महिला कास्टेबल, 4 मंदिर सुरक्षा गार्द के कर्मी मौजूद रहे।

सरकार और देवस्थानमं बोर्ड द्वारा कोविड गाइडलाइन का पालन करते हुए विधि-विधान से केदारनाथ के कपाट खोले आज सुबह खोले गए। फिलहाल किसी को भी मंदिर के गर्भ गृह में जाने की अनुमति नहीं है। केदारनाथ रावल और मुख्य पुजारी की देख-रेख में मंदिर के कपाट खोले गए। – बीडी सिंह, अपर मुख्य कार्यकारी अधिकारी देवस्थानमं बोर्ड

चमोली जिले में स्थित बदरीनाथ धाम के कपाट कल यानि 18 मई को को ब्रह्म मुहूर्त में सवा चार बजे खुल जाएंगे। पिछले साल 19 नवंबर को शीतकाल के लिए बदरीनाथ धाम के कपाट बंद किए गए थे। तृतीय केदार तुंगनाथ मंदिर के कपाट भी आज खोले जाएंगे। आज दोपहर 12 बजे कर्क लग्न में कपाट खोल दिए जाएंगे। वहीं देवस्थानम बोर्ड ने कपाट खोलने की सभी तैयारियां पूरी कर दी हैं। कोरोना संक्रमण के मद्देनजर अभी श्रद्धालुओं को धाम में जाने की अनुमति नहीं है।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

जाना ‘बहुगुणी’ सुंदरलाल बहुगुणा का !

– डॉ० घनश्याम बादल  कोरोना काल ने एक और बड़ी हस्ती को हमसे जुदा कर …

One comment

  1. I saw a lot of website but I believe this one contains something special in it in it

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *