मंगलवार , अक्टूबर 19 2021 | 02:05:20 AM
Breaking News
Home / अंतर्राष्ट्रीय / चीन ने तालिबान को फिर दी कई आतंकवादी संगठनों से दूर रहने की चेतावनी

चीन ने तालिबान को फिर दी कई आतंकवादी संगठनों से दूर रहने की चेतावनी

बीजिंग (मा.स.स.). तालिबान द्वारा एक “खुली और समावेशी” इस्लामी सरकार बनाने और अफगानिस्तान में एक सहज सत्ता हस्तांतरण सुनिश्चित करने की उम्मीद व्यक्त करने के कुछ घंटों बाद, चीन ने अफगान आतंकवादी समूह को देश के खिलाफ एक बार फिर आतंकवादियों के लिए “हेवन” बनने की चेतावनी दी है। संयुक्त राष्ट्र में चीन के उप स्थायी प्रतिनिधि गेंग शुआंग की टिप्पणी तालिबान विद्रोहियों द्वारा अफगानिस्तान सरकार के अचानक और तेजी से अधिग्रहण के बाद अफगानिस्तान की स्थिति पर सुरक्षा परिषद की एक आपात बैठक के दौरान आई।

गेंग ने भारत की अध्यक्षता में हुई अफगानिस्तान की स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की एक आपात बैठक में कहा, “अफगानिस्तान को फिर कभी आतंकवादियों का अड्डा नहीं बनना चाहिए। अफगानिस्तान में किसी भी भविष्य के राजनीतिक समाधान के लिए यह बॉटम लाइन है जिसे दृढ़ता से रखा जाना चाहिए।” सरकारी समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने उनके हवाले से कहा, “हमें उम्मीद है कि अफगानिस्तान में तालिबान अपनी प्रतिबद्धताओं को पूरी ईमानदारी से निभाएगा और आतंकवादी संगठनों से पूरी तरह से निजात पा लेगा।” बयान में आगे कहा, “सभी देशों को अंतरराष्ट्रीय कानून और सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों के अनुसार अपने दायित्वों को पूरा करना चाहिए। सभी रूपों और अभिव्यक्तियों में आतंकवाद का मुकाबला करने में एक-दूसरे के साथ काम करना चाहिए और इस्लामिक स्टेट, अल-कायदा जैसे आतंकवादी संगठनों को रोकने के लिए दृढ़ कार्रवाई करनी चाहिए। ईटीआईएम अफगानिस्तान में इस अराजकता का फायदा नहीं उठा रहा है।”

ईस्ट तुर्किस्तान इस्लामिक मूवमेंट (ETIM), जिसे अल-कायदा का सहयोगी बताया जाता है, चीन के अस्थिर शिनजियांग प्रांत का एक उग्रवादी समूह है। यह प्रांत की आजादी के लिए लड़ रहा है, जो करीब एक करोड़ उइगुर मुसलमानों का घर है। UNSC अल-कायदा प्रतिबंध समिति ने 2002 में ETIM को एक आतंकवादी संगठन के रूप में सूचीबद्ध किया है। पूर्व ट्रम्प प्रशासन ने शिनजियांग में चीन द्वारा उइगर मुसलमानों के खिलाफ मानवाधिकारों के उल्लंघन के आरोपों के बीच 2020 में अमेरिका के आतंकवादी संगठनों की सूची से समूह को हटा दिया था। उनमें से हजारों को सामूहिक निरोध केंद्रों में रखा गया है, जिसे बीजिंग शिक्षा शिविर कहता है।

अमेरिका ने शिनजियांग में चीन की सुरक्षा कार्रवाई को उइगर मुसलमानों के खिलाफ नरसंहार करार दिया है। संयुक्त राष्ट्र की एक हालिया रिपोर्ट के अनुसार, तालिबान द्वारा की गई सैन्य प्रगति के बीच ईटीआईएम से जुड़े सैकड़ों आतंकवादी अफगानिस्तान में जुट रहे हैं। आपको बता दें कि शिनजियांग मध्य एशियाई देशों कजाकिस्तान, किर्गिस्तान और ताजिकिस्तान के अलावा अफगानिस्तान, पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के साथ सीमा साझा करता है। यहां अपने मीडिया ब्रीफिंग में, चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने अफगानिस्तान के तालिबान अधिग्रहण पर पहली बार टिप्पणी करते हुए कहा है: “चीन ने नोट किया है कि अफगान तालिबान ने कल (रविवार) कहा था कि अफगानिस्तान में युद्ध खत्म हो गया है और कि वे अफगानिस्तान में एक खुली, समावेशी इस्लामी सरकार बनाने के उद्देश्य से बातचीत करेंगे और अफगान नागरिकों और विदेशी राजनयिक मिशनों की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार कार्रवाई करेंगे।”

चीन तालिबान सरकार को कब मान्यता देगा और क्या बीजिंग ने इसके लिए कोई शर्त लगाई है, इस सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने सतर्क टिप्पणी की। उन्होंने कहा, “अफगानिस्तान की राष्ट्रीय संप्रभुता और सभी पक्षों की इच्छा का पूरी तरह सम्मान करने के आधार पर, बीजिंग तालिबान के साथ संपर्क और संचार बनाए हुए है। एक राजनीतिक समझौते को बढ़ावा देने में रचनात्मक भूमिका निभा रहा है।” तालिबान के एक प्रतिनिधिमंडल ने अपने राजनीतिक आयोग के प्रमुख मुल्ला अब्दुल गनी बरादर के नेतृत्व में 24 जुलाई को चीनी शहर तियानजिन में चीनी विदेश मंत्री वांग यी के साथ बातचीत की थी।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

भारत ने फिर की सर्जिकल स्ट्राइक को देंगे करारा जवाब : पाकिस्तान

इस्‍लामाबाद (मा.स.स.). जम्‍मू-कश्‍मीर में सक्रिय आतंकियों की कमर तोड़ने वाले भारत के ‘सर्जिकल स्‍ट्राइक’ का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *