बुधवार , अक्टूबर 20 2021 | 02:05:21 AM
Breaking News
Home / राष्ट्रीय / जुल्मों का इम्तिहान, बेटी ही बदलेगी जहान !

जुल्मों का इम्तिहान, बेटी ही बदलेगी जहान !

– डा0 घनश्याम बादल

अभी अभी एक तरफ दुनिया ने ओलंपिक एवं पैरा ओलंपिक खेलों में भारतीय बेटियों का पराक्रम देखा और देखा कि देश को मिलने वाले अधिकांश पदक बेटियों ने दिलवाए हैं । जब यें सुर्खियां अखबारों में पढ़ते हैं तो सीना गर्व से चौड़ा हो जाता है।  मगर दूसरी तरफ दुनिया अफगानिस्तान में तालिबान के कहर से त्रस्त बेटियों को देख रही है जहां उसे बुर्के में कैद करके तालीम से वंचित किया जा रहा है । महज़ १० वर्ष की आयु में ही उसे अकेले घर से बाहर निकलने तक पर प्रताड़ित किया जा रहा है ।  जी हां, यही है दुनिया का दोहरा चेहरा। भारत में 23 सितंबर एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सितंबर माह के अंतिम रविवार को बालिका दिवस या ‘डॉटर्स डे’ मनाया जाता है दुनिया के लोकतांत्रिक देशों में जेंडर डिस्क्रिमिनेशन यानी लिंगभेद की अनुमति नहीं है मगर हकीकत बहुत कड़वी है।

भारतीय संविधान में भी लिंग भेद की अनुमति नहीं देता और कानून की नजर में में बेटा – बेटी  बराबर हैं , दोनों को बराबर का हक है। भेदभाव पर कानूनन दंड का भी प्रावधान भी है पर हकीकत में समाज में ऐसा दिखाई नहीं देता है । थोड़े से शहरों , महानगरों या राजधानी क्षेत्रों को छोड़ दें तो गांवों , कस्बों व अर्द्धमहानगरीय इलाकों की डरी – सहमी लड़की आज भी  बाहर निकलने से पहले दस बार सोचती है । कभी दिल्ली में निर्भया कांड हो जाता है तो कभी मुंबई में एक 14 वर्ष की बेटी से गैंग रेप करके उसका शव दरिंदगी के बाद सड़कों पर फेंक दिया जाता है। अखबारों के लेखों में, मीड़िया व चैनलों पर एंकर , समाज सुधारक , नेता एन जी ओ चलाने वाले , तेज तर्रार औरतें या मर्द अथवा  सिखाई पढ़ाई लड़कियां  जो दावे करें आज भी दुनिया की सबसे बड़े लोकतंत्र कहे जाने वाले भारत में बेटियां खुद को असुरक्षित महसूस करती हैं तो संवैधानिक अधिकारों एवं आदर्शों भरे व्याख्यानों पर शक की सुई उठना स्वाभाविक है ।

घर के बाहर काम करती , पढ़ने जाती या घूमने – फिरने मौज मस्ती करने जाने वाली लड़कियों के चेहरे या शरीर कब तेज़ाब से नहा जाएं , कब उनके साथ अश्लील हरकत हो जाए , कोई बलात्कारी उन पर टूट पड़े या कब लव जेहादी बहका कर उसे बर्बाद कर दे अथवा कब किसी डेरे का बाबा या तथाकथित संत उसे मां बाप की आंखों मे धूल झोंककर या गुमराह करके अथवा चालभरा चमत्कार दिखाकर किसी बच्ची को तबाह कर दे कहना मुश्किल है। वैसे तो निचली अदालतों न्याय पाना ही बहुत टेढ़ा है वहां के काले कोट क्या क्या न पूछें व कहें अंदाज़ा लगाना भी रुह कंपा देने को काफी है। दलालों , बिचौलियों, छुटभैए नेताओं की अंदर तक एक्सरे करती निगाहें , समाज की अवहेलना व बदनामी का सारा टोकरा लड़की पर फोड़ना बहुत ही आम बात है। यदि लड़की के साथ कुछ हो जाए तो फिर हर बात उस पर ही शक या आरोप के साथ शुरु व खत्म होती है ।

दिखावे के लिए नारी विमर्श व उसका हित- चिंतन करने वाले तत्व ही समाज में उसके दोहन के औजारों को बल देते देखे जा सकते हैं , उसके चरित्र पर उंगलियां उठाते पाए जाते हैं । सौं में मुश्किल से 30 पीड़िताएं अदालत का दरवाजा खटखटाती हैं , उनमें से भी एक तिहाई ही केस को लड़ने व किसी मुकाम तक पंहुचाने की हिम्मत दिखाती हैं और करीब साठ फीसदी बीच में ही मुकदमे की जिल्लत व सामाजिक प्रताड़ना और अपमान से त्रस्त होकर हथियार डाल देती हैं । आधे से ज्यादा को वकील ज़लील कर देता है और जिन्हे न्याय मिला भी वें परिवार व समाज के लिए हेय व बोझ बनकर ही जीने को मज़बूर  हैं ऐसे में कैसे कहें आधुनिक कहे जाने वाली इस दुनिया में बेटियां सुरक्षित हैं।

लड़की के साथ अगर गलत हुआ तो हर हाल में उदास के हंसने , बोलने , उठनें – बैठने , ज़रुरत से ज्यादा ही बिंदास होने चरित्र होने और कुछ नहीं तो भड़काऊ कपड़े पहनने का ही आरोप तो लगेगा ही ।  क्या आप यही बात उसे बर्बाद करने वाले शोहदों  पर भी लागू करते हैं ? शायद नहीं क्योंकि दिखावे के लिए नारीवादी होने में और असलियत में उसे आगे बढ़ने में हाथ बढ़ाने में उसके हक में खड़े होने में तो बड़ा फर्क है और इसी दंश झेल रही है आज भी तथाकथित प्रगतिवादी समाज की लड़की भी ।

पुरुष अभी भी खुद को कितना ही प्रगतिवादी, उदार, नई सोच का सिद्ध करत हों पर,  यथार्थ के धरातल पर सब न सही पर अधिकांश को हम संकुचित सोच के गहरे गर्त में पाते हैं जो अपनी पुरुषवादी सोच में बुरी तरह उलझे हैं ।  हां , नारों में , दिखावे में वें आधुनिकता का मास्क लगाए, समाज को उपदेश बघारते मिलेंगें पर जब बात अपने पर आती है तो बेटे को बेटी पर तरजीह देने में शर्म नहीं आती है उन्हे, ऐसी ही हालत में हर 23 सितम्बर को बालिका दिवस मनाने वाले इस देश को बालिका कल्याण के लिए बहुत कुछ करने की जरुरत है  ।

सबसे चिंतनीय बात तो यह है कि बलिका व बालक के भेद-भाव पर समाज कुछ सीखने को तैयार ही नहीं है । उसे अपनी बेटी का गला घोटने, गर्भ में उसे मार देने, उसके साथ हर कदम पर छल या बल का प्रयोग करने में संकोच या शर्म का अहसास जब तक नहीं होता तब तक लड़की, बेटी , बालिका संकट में ही रहेगी। और हां, ऐसा किसी एक धर्म या जाति विशेष में ही हो रहा हो ऐसा भी नहीं है हर वर्ग व जाति तथा धर्म में बेटियों को अपनी मर्जी का जीवनसाथी तक चुनने का अधिकार हम देने को तैयार नहीं हैं और यदि वह अपना यह अधिकार लेने की हिम्मत करती है तो ऑनर किलिंग तक का शिकार बन जाती है । कभी जाति ,कभी गौत्र कभी वर्ग तो कभी सम्प्रदाय के बहाने से लड़की को काबू में रखने का कोई भी मौका पुरुष हाथ से नहीं जाने देता ।

लगातार बढ़ते अनाचार की सबसे ज्यादा मार लड़की पर ही पड़ी है । हां, उसके उत्थान व प्रगति का श्रेय सरकार और समाज लेने में पीछे नहीं है । उसकी उन्नति का श्रेय लेने के लिये सक्रिय संस्थाएं जमीन – आसमान करन देते हैं । मगर, इतना सब होने के बाद भी लड़की न हारती दिख रही है और न ही उसने सपने देखने छोड़े हैं अपने ही दमख़म पर उसने कई नए क्षितिज छुए हैं, पर, अपने अधिकारों को पाने के लिए उसने हर कीमत चुकाई है । कई बार तो सहज विश्वास नहीं होता कि हम ऐसे समाज में रह रहे हैं जिसमें लड़कियों की इज्जत करने की समृद्ध परंपरा रही है व जहां पर रिश्तो की एक ऐसी संस्कृति रही है जिसमें लड़कियों को देवी माना जाता रहा है । पर, आज लड़कियां अपने घर में भी सुरक्षित नहीं रह गई हैं रिश्तों की डोर तार – तार हो रही है।

आज भी बालिकाओं के अस्तित्व पर कई संकट हैं जिनमें दहेज , असुरक्षा , बदनामी का डर , मान सम्मान जाने का भय,गर्भ में ही भ्रूण हत्या ऐसे हैं जिन्होने बालक – बालिका अनुपात गड़बड़ा दिया है । 1000 लड़कों पर महज 841 बालिकाओं का आंकड़ा दकियानुशी समाज की पहचान है । काश , हम सोच पाएं कि यदि यह चलता रहा तो कहां जाएंगें वें लड़के जिन्हे आने वाले समय में जीवन साथी ही नहीं मिलेगा। हमें हर हाल में पुरानी दकियानुशी सोच से निकलना होगा । निकले तो ही हम देख पाएंगें  कि लड़की – लड़कों से कम नहीं वरन् बेहतर है ।

शिक्षा में मीलों आगे , गुणवत्ता में भारी , आज्ञाकारिता में सोने पर सुहागा , मां बाप के प्रति समर्पण में अतुलनीय ,कर्त्तव्य पालन को सदा तैयार , परम्परा व संस्कारों में जवाब नहीं , कमाए तो अकेली परिवार चला दे , बच्चें के पालन पोषण में महारथी, भाई को पढ़ा दे , बहन को बचाकर रखे यानि जितना कहें कम हैं । तो कह सकते हैं  बेमिसाल है ल़डकी । हमें भेदभाव की मानसिकता छोड लड़की को आसमान छूने का न केवल हक देना होगा वरन् उसके पंखों व सपनों में जान फूंकनी होगी ताकि देश, समाज व माहौल बदल सके । यकीन रखिए अगर उसे आपना हक मिल गया तो वह आसमान छू लेगी और जहान बदल कर दिखा देगी।

लेखक वरिष्ठ स्तंभकार हैं.

नोट : लेख में लेखक द्वारा व्यक्त विचारों से मातृभूमि समाचार का सहमत होना आवश्यक नहीं है।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

सोनिया गांधी ने खुद को बताया कांग्रेस का फुलटाइम अध्यक्ष

नई दिल्ली (मा.स.स.). कांग्रेस नेतृत्व पर लगातार उठ रहे सवालों के बीच कांग्रेस कार्यसमिति की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *