शुक्रवार , अप्रेल 16 2021 | 01:12:38 PM
Breaking News
Home / राष्ट्रीय / भोपाल सहित मध्यप्रदेश के तीन शहरों में लगा लॉकडाउन

भोपाल सहित मध्यप्रदेश के तीन शहरों में लगा लॉकडाउन

नई दिल्ली (मा.स.स.). देश में कोरोना महामारी की दूसरी लहर का खतरा बढ़ता जा रहा है। 110 दिनों के बाद शुक्रवार को करीब 40 हजार नए मामले सामने आए। सबसे गंभीर स्थिति महाराष्ट्र की होती जा रही है और राज्य के एक बार फिर लॉकडाउन की चपेट में आने की आशंका बढ़ गई है। मप्र के तीन शहरों में 21 मार्च को लॉकडाउन का निर्णय लिया गया है। बता दें कि आज मप्र सीएम शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में हुई समीक्षा बैठक में तीन शहरों में 21 मार्च को लॉकडाउन का फैसला लिया गया। कोराना मामलों में वृद्धि के मद्देनजर रविवार, 21 मार्च को इंदौर, भोपाल और जबलपुर में एक दिवसीय लॉकडाउन की जाएगी।

इन तीन शहरों के सभी स्कूल और कॉलेज 31 मार्च तक बंद रहेंगे। वहीं महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इसके संकेत भी दे दिए हैं। हालात को काबू में करने के लिए राज्य सरकार ने कई पाबंदियां लगानी शुरू कर दी है। केंद्र सरकार की तरफ से राज्यों को ‘टेस्ट, ट्रैक और ट्रीट’ यानी संभावित मरीजों की जांच, उनके संपर्क में आए लोगों की पहचान और उनके बेहतर इलाज की रणनीति को अपनाने की सलाह दी गई है। वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से जारी किए गए आंकड़े कोरोना की दूसरी लहर के स्पष्ट संकेत दे रहे हैं। बीते 24 घंटों के दौरान 39,726 नए मामले पाए गए हैं।

इससे पहले पिछले साल 29 नवंबर को इससे अधिक 41,810 नए केस मिले थे। इस दौरान 154 और लोगों की मौत भी हुई है। इसके साथ ही कुल संक्रमितों का आंकड़ा एक करोड़ 15 लाख 14 हजार को पार कर गया है। इनमें से एक करोड़ 10 लाख 83 हजार से अधिक मरीज पूरी तरह से संक्रमण मुक्त भी हो चुके हैं और 1,59,370 लोगों की जान जा चुकी है। मंत्रालय के मुताबिक सक्रिय मामलों में लगातार नौ दिनों से वृद्धि हो रही है। वर्तमान में कुल सक्रिय माले 2,71,282 हैं, जो कुल मामलों का 2.36 फीसद है। बीते 24 घंटों में ही 18,918 सक्रिय मामले बढ़े हैं। नए मामलों के बढ़ने से मरीजों के उबरने की दर में गिरावट आ रही है और यह 96.26 फीसद पर आ गई है, जबकि मृत्युदर 1.38 फीसद पर है।

केंद्र सरकार ने बढ़ते मामलों को देखते हुए राज्यों को मरीजों की पहचान, 72 घंटों के भीतर उनके संपर्क में आए कम से कम 20 लोगों की पहचान और उनके बेहतर इलाज पर खास ध्यान देने की सलाह दी है। कोरोना महामारी को लेकर महाराष्ट्र, पंजाब, कर्नाटक, गुजरात और छत्तीसगढ़ ने चिंता बढ़ा दी है। इन्हीं राज्यों में नए मामलों में से 80 फीसद से ज्यादा केस सामने आए हैं। इनमें से अकेले महाराष्ट्र में 65 फीसद नए मामले (25,833) शामिल हैं। इसके अलावा पंजाब में 2,369, केरल में 1,899 और गुजरात में 1,276 नए मरीज भी इसमें शामिल हैं। केरल में जरूर अधिक मामले मिले हैं, लेकिन वहां मामलों में लगातार गिरावट आ रही है, केस बढ़ नहीं रहे हैं। वहीं, इन पांच राज्यों समेत आठ राज्यों में नए मामले बढ़ रहे हैं, जिनमें मध्य प्रदेश, तमिलनाडु और दिल्ली शामिल हैं।

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आइसीएमआर) के मुताबिक कोरोना संक्रमण का पता लगाने के लिए नमूनों की जांच को तेज कर दिया गया है। गुरुवार को देशभर में 10,57,383 नमूनों की जांच की गई, जो पिछले कुछ दिनों की तुलना में अधिक है। अब तक कुल 23 करोड़ 13 लाख 70 हजार से ज्यादा नमूनों का परीक्षण किया जा चुका है। महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे की सरकार ने राज्य में संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए कई सख्त कदम उठाए हैं। शुक्रवार को जारी अधिसूचना में स्वास्थ्य सेवाओं और अन्य आवश्यक सेवाओं को छोड़कर दूसरे कार्यालयों को 31 मार्च तक कर्मचारियों की 50 फीसद क्षमता के साथ काम करने का आदेश दिया गया है। थियेटर और ऑडिटोरियम पर भी यह नियम लागू होगा। हालांकि, उत्पादन इकाइयों को इससे छूट दी गई है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे कहा है कि लॉकडाउन एक विकल्प है, लेकिन उन्हें लोगों पर भरोसा है कि वो स्वयं से ही कोरोना से बचाव के नियमों का पालन कर इसकी नौबत नहीं आने देंगे।

गुजरात की औद्योगिक नगरी सूरत में भी तेजी से मामले बढ़ रहे हैं। पिछले एक दिन में तीन सौ से ज्यादा नए मरीजों के मिलने के बाद शहर में रात के कर्फ्यू के समय को बढ़ा दिया गया है। अब शुक्रवार से ही रात 10 के बजाय नौ बजे से सुबह छह बजे तक कर्फ्यू प्रभावी होगा।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

केंद्र सरकार ने सीबीएसई की 12वीं की परीक्षा स्थगित, 10वीं की रद्द

नई दिल्ली (मा.स.स.). भारत में कोरोना संक्रमण की रफ्तार बेकाबू होते जा रही है। बीते …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *