रविवार , अप्रेल 18 2021 | 02:14:03 PM
Breaking News
Home / अंतर्राष्ट्रीय / दुखी हैं अधिकांश भारतीय, खुशहाली इंडेक्स में भारत 139वें नंबर पर

दुखी हैं अधिकांश भारतीय, खुशहाली इंडेक्स में भारत 139वें नंबर पर

अंतरराष्ट्रीय डेस्क (मा.स.स.). कोरोना महामारी ने पूरी दुनिया में तबाही मचा रखी है। अब तक 27 लाख से अधिक लोगों की जान जा चुकी है। इस बीच एक रिपोर्ट से पता चला कि कोरोना संकट के दौरान भी फिनलैंड के लोग सबसे अधिक खुश रहे हैं। संयुक्त राष्ट्र की ओर से जारी ‘वर्ल्ड हैपीनेस रिपोर्ट’ में फिनलैंड को लगातार चौथे साल दुनिया का सबसे खुशहाल देश पाया गया है। वहीं भारत 149 देशों की इस सूची में 139वें नंबर पर है।

‘वर्ल्ड हैपीनेस रिपोर्ट’ में पाया गया है कि  कोरोना महामारी से सबक लेते हुए पूंजी नहीं स्वास्थ्य पर जोर देना होगा। संयुक्त राष्ट्र के सस्टेनेबल डेवलपमेंट सॉल्यूशन्स नेटवर्क की ओर से जारी वर्ल्ड हैपीनेस रिपोर्ट के अनुसार, खुशहाल देशों की सूची में डेनमार्क दूसरे, स्विट्जरलैंड तीसरे नंबर पर है। शीर्ष-10 में शामिल अकेला गैर यूरोपीय देश न्यूजीलैंड एक अंक फिसलकर नौवें स्थान पर आ गया है। दुनिया का सबसे ताकतवर देश अमेरिका इस सूची में पिछले साल 18वें नंबर पर था, जो इस बार 14वें नंबर पर है। इसी तरह ब्रिटेन पांच अंक फिसलकर 18वें नंबर पर आ गया है। रिपोर्ट को तैयार करने में 149 देशों में खुशहाली का स्तर पता करने के लिए गैलप के आंकड़ों का प्रयोग किया गया है। मुख्य रूप से जीवन की गुणवत्ता, सकारात्मक और नकारात्मक भावों के आधार पर इस रिपोर्ट को तैयार किया गया है।

रिपोर्ट के अनुसार, बुरूंडी, यमन, तंजानिया, हैती, मालावी, लेसोथो, बोत्सवाना, रवांडा, जिम्बॉम्बे और अफगानिस्तान भारत से कम खुशहाल देश हैं। इसी तरह पड़ोसी मुल्क चीन पिछले साल इस सूची में 94वें स्थान पर था, जो अब उछलकर 19वें स्थान पर आ गया है। नेपाल 87वें, बांग्लादेश 101, पाकिस्तान 105, म्यांमार 126 और श्रीलंका 129वें स्थान पर है। सकारात्मक भाव की श्रेणी में सर्वे में शामिल लोगों से पूछा गया था कि क्या आप पिछले दिन खूब हंसे या मुस्कुराए थे। इसी तरह नकारात्मक भावों में ये पूछा गया कि जिस दिन आप हंसे या मुस्कुराए थे, क्या उस दिन आप किसी बात को लेकर निराश हुए थे। इसी तरह जीवन की गुणवत्ता के आधार पर लोगों के संतोष भाव को जाना गया है।

रिपोर्ट के अनुसार, महामारी के बीच फिनलैंड में लोगों के बीच आपसी विश्वास देखा गया। यहां के बीच लोगों में एक-दूसरे का जीवन बचाने और मदद करने का भाव देखा गया। रिपोर्ट तैयार करने वाले जेफरी सच्स का कहना है कि कोरोना महामारी से हमें सीखना होगा। महामारी ने दुनिया को बताया है कि पूंजी से ज्यादा जोर स्वास्थ्य पर देना होगा।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

छुट्टी लेने के लिए एक ही महिला से की कई बार शादी

अंतरराष्ट्रीय डेस्क (मा.स.स.). दफ्तर से छुट्टी लेने के बहाने के लिए ताइवान में एक आदमी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *