शुक्रवार , जुलाई 30 2021 | 02:16:33 AM
Breaking News
Home / राज्य / बिहार / चिराग पासवान ने लोजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में बहुमत होने का दावा

चिराग पासवान ने लोजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में बहुमत होने का दावा

पटना (मा.स.स.). लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) का असली वारिस कौन होगा, यह फैसला शायद अब चुनाव आयोग ही करेगा। इस बीच चिराग पासवान ने दिल्‍ली स्थित अपने आवास पर राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक आयोजित कर दावा किया उनके चाचा पारस की ओर से किए गए दावे पूरी तरह गलत और निराधार हैं। उन्‍होंने कहा कि राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी का बहुमत उनके साथ है और वे अभी भी पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष और संसदीय बोर्ड के चेयरमैन बने हुए हैं। चिराग ने इस मसले पर लोकसभा अध्‍यक्ष ओम बिड़ला से मिलकर भी शाम अपनी बात रखी थी। अब उनकी पार्टी चुनाव आयोग से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक जाने की तैयारी में है।

इससे पहले लोजपा के पारस गुट ने नया दांव चलते हुए लोजपा के राष्ट्रीय एवं प्रदेश के विभिन्न प्रकोष्ठों की कमेटियों को तत्काल प्रभाव से भंग कर दिया था। पशुपति कुमार पारस ने बताया कि पार्टी के राष्ट्रीय, प्रदेश एवं विभिन्न प्रकोष्ठों की कमेटियों की घोषणा जल्द की जाएगी। चिराग गुट द्वारा राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाए जाने पर पारस ने कहा कि चिराग को यह बैठक बुलाने का अधिकार नहीं है। पार्टी संविधान के मुताबिक वे राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं। फिलहाल पार्टी की सोलह सदस्यीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी गठित कर दी गई है। एक सवाल पर उन्होंने बताया कि चुनाव आयोग को कार्यकारिणी के सदस्यों की सूची अभी इसलिए नहीं सौंपी गई है कि नई राष्ट्रीय कार्यकारिणी से मंजूरी ली जाएगी।

पारस गुट की ओर से गठित राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी में सांसद चौधरी महबूब अली कैसर, सांसद वीणा देवी, पूर्व सांसद वीणा सिंह, पूर्व विधायक सुनीता शर्मा तथा अनिल चौधरी को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, सांसद चंदन सिंह एवं प्रिंस राज, पूर्व विधायक विरेश्वर सिंह, डॉ. उषा शर्मा, राकेश चौधरी, रणवीर सिंह गुठा, रामजी सिंह और राज कुमार राज को महासचिव, हीरा प्रसाद मिश्रा को सचिव, संजय सर्राफ को राष्ट्रीय प्रवक्ता एवं महासचिव, विनोद नागर को राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष एवं प्रवक्ता नियुक्त किया गया है।

लोजपा (चिराग गुट) की बैठक में रविवार को यह तय हो गया है कि कार्यकारिणी में बहुमत किसके साथ है। प्रदेश अध्यक्ष राजू तिवारी ने दिल्ली से दूरभाष पर दावा किया कि कार्यकारिणी सदस्‍य चिराग के साथ हैं। पारस गुट द्वारा राष्ट्रीय एवं प्रदेश की कार्यकारिणी और विभिन्न प्रकोष्ठों को भंग किए जाने के सवाल पर कहा कि यह हास्यास्पद है। पार्टी से निष्कासित पशुपति कुमार पारस को अधिकार नहीं है कि वे कार्यकारिणी या प्रकोष्ठों को भंग करें।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

मंत्रिमंडल के विस्तार में जदयू को भी तरजीह मिलनी चाहिए : आरसीपी सिंह

पटना (मा.स.स.). बिहार का सियासी पारा चरम पर है। राजद, भाजपा, हम और वीआइपी की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *