बुधवार , दिसम्बर 08 2021 | 01:08:01 PM
Home / राज्य / उत्तरप्रदेश / लखीमपुर खीरी हिंसा में मारे गए भाजपा कार्यकर्ता के घर जाने पर योगेंद्र यादव ने मांगी माफी

लखीमपुर खीरी हिंसा में मारे गए भाजपा कार्यकर्ता के घर जाने पर योगेंद्र यादव ने मांगी माफी

लखनऊ (मा.स.स.). संयुक्त किसान मोर्चा (SKM) ने वरिष्ठ नेता योगेंद्र यादव को एक महीने के लिए बाहर का रास्ता दिखा दिया है। लखीमपुर खीरी हिंसा में मारे गए भाजपा नेता के मृतक ड्राइवर के घर जाने पर योगेंद्र यादव पर यह कार्रवाई की है। फैसले के अनुसार, योगेंद्र यादव अगले एक महीने तक SKM के किसी भी मंच या बैठक का हिस्सा नहीं होंगे। हालांकि, वे चाहें तो धरने में एक किसान के रूप में आकर बैठक सकते हैं।

लखीमपुर खीरी में 3 अक्टूबर को किसान कृषि बिल के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे। इस दौरान उन्हें कुचल दिया गया। इसमें 4 किसान, एक स्थानीय पत्रकार और भाजपा नेता के ड्राइवर शुभम मिश्रा समेत तीन कार्यकर्ता मारे गए। इसके बाद खीरी में हिंसा भड़की। बीते दिनों वरिष्ठ किसान नेता योगेंद्र यादव भाजपा नेता के ड्राइवर के घर पहुंचे। शोक संवेदना प्रकट की। योगेंद्र यादव ने ट्वीट करके यह भी कहा था कि उनके (ड्राइवर) के पिता के शब्द अभी भी मेरे कानों में गूंज रहे हैं। योगेंद्र के अलावा अन्य कोई किसान नेता इनके घर नहीं गया था।

संयुक्त किसान मोर्चा ने (SKM) ने इस मामले में योगेंद्र यादव को नोटिस जारी करके स्पष्टीकरण मांगा था। योगेंद्र यादव ने अपने स्पष्टीकरण में कहा कि वे SKM की तरफ से वहां नहीं गए। व्यक्तिगत तौर पर गए थे। संगठन से ऊपर उठकर वह मानवता के नाते गए थे। इस जवाब से SKM सहमत नहीं हुआ। SKM ने इस मसले पर गुरुवार को सिंघु बॉर्डर पर महत्वपूर्ण बैठक बुलाई। SKM के कुछ सदस्यों ने यह तक कहा कि योगेंद्र यादव को स्थायी रूप से मोर्चे से बाहर कर देना चाहिए। क्योंकि वह पूर्व में दो बार SKM के विपरीत बयान दे चुके हैं। सूत्रों ने बताया कि बैठक में योगेंद्र यादव ने कहा कि अगर जाने से किसानों की भावना आहत हुई है तो माफी मांगता हूं। व्यक्तिगत स्तर पर गया, इसके लिए खेद प्रकट करता हूं।

बैठक में फिर यह मांग उठी कि तीन महीने या दो महीने के लिए योगेंद्र यादव को SKM से बाहर किया जाए। आखिरकार योगेंद्र यादव को एक महीने के लिए SKM से निष्कासित करने पर सहमति बनी। साथ ही यह भी कहा कि अगर योगेंद्र यादव 22 अक्टूबर तक सार्वजनिक रूप से माफी नहीं मांगते हैं तो उन्हें और समय के लिए निष्कासित करने पर विचार किया जाएगा। राजस्थान के किसान नेता एवं SKM के मेंबर हिम्मत सिंह गुर्जर ने इस फैसले की पुष्टि की है।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

कानपुर के गौरवशाली इतिहास से बुंदेलखंड भी जुड़ा है : धर्मेंद्र प्रधान

कानपुर (मा.स.स.). पिछड़ा हुआ बुंदेलखंड भाजपा की सरकार में विकास की राह पर चल पड़ा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *