बुधवार , दिसम्बर 08 2021 | 12:59:59 PM
Home / राज्य / पंजाब / पंजाब सरकार कराएगी अमरिंदर सिंह की पाकिस्तानी मित्र के आईएसआई कनेक्शन

पंजाब सरकार कराएगी अमरिंदर सिंह की पाकिस्तानी मित्र के आईएसआई कनेक्शन

चंडीगढ़ (मा.स.स.). पंजाब में कांग्रेस और कैप्टन अमरिंदर सिंह के बीच खुली जंग शुरू हो गई है। कांग्रेस ने इसमें अमरिंदर की पाकिस्तानी मित्र अरूसा आलम को भी घसीट लिया है। डिप्टी CM और गृह मंत्री सुखजिंदर रंधावा ने कहा कि अरूसा आलम के ISI कनेक्शन की जांच की जाएगी। इसके लिए वे DGP इकबालप्रीत सहोता को निर्देश दे रहे हैं। रंधावा ने कहा कि अरूसा के बारे में कई बातें सामने आई हैं, जिनकी जांच जरूरी है।

रंधावा ने अमरिंदर पर सवाल उठाए कि साढ़े 4 साल सब कुछ ठीक रहा। जैसे ही CM की कुर्सी छिनी, तो पंजाब को पाकिस्तान से खतरा हो गया। ISI से यह खतरा तब क्यों नहीं था, जब पाकिस्तानी पत्रकार अरूसा आलम उनके चंडीगढ़ स्थित सरकारी रेजिडेंस में रही। अमरिंदर की नई पार्टी के ऐलान से पहले इसे कांग्रेस की दबाव बनाने की रणनीति से जोड़कर देखा जा रहा है। अरूसा आलम के ISI कनेक्शन की जांच पर कैप्टन अमरिंदर सिंह की प्रतिक्रिया आई है। अमरिंदर ने डिप्टी CM रंधावा को कहा कि अब वह पर्सनल अटैक पर आ गए हैं। अमरिंदर ने पूछा कि पद संभालने के एक महीने बाद लोगों को दिखाने के लिए क्या उनके पास यही कुछ है। कैप्टन ने पूछा कि आपके बरगाड़ी बेअदबी और ड्रग केसों के बड़े वादों का क्या हुआ? पंजाब अभी तक आपके कार्रवाई के वादे का इंतजार कर रहा है।

अमरिंदर ने सुखजिंदर रंधावा को कहा कि वह उनकी कैबिनेट में मंत्री थे। तब कभी अरूसा आलम के खिलाफ शिकायत नहीं की। अरूसा आलम पिछले 16 वर्षों से भारत सरकार की क्लीयरेंस से यहां आ रही हैं। अमरिंदर ने पूछा कि क्या वो NDA और कांग्रेस की अगुवाई वाली UPA सरकार पर आरोप लगा रहे हैं कि दोनों सरकारें पाकिस्तानी ISI के साथ मिली हुईं थी। अमरिंदर ने कहा कि मुझे चिंता इस बात की है कि पंजाब में बहुत बड़ा आतंकी खतरा मंडरा रहा है और फेस्टिवल सीजन आने वाला है। ऐसे वक्त में लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति बनाए रखने पर फोकस होना चाहिए। उसके बजाय वह पंजाब की सुरक्षा को दांव पर लगा DGP को बेसलेस जांच में लगा रहे हैं।

कांग्रेसी MLA कुलबीर जीरा तो रंधावा से भी एक कदम आगे बढ़ गए। उन्होंने कहा कि जब अरूसा यहां रही तो कैप्टन ने तब क्यों नहीं कहा कि पंजाब को पाकिस्तान और ISI से खतरा है। जीरा ने कहा कि यह भी जांच होनी चाहिए कि टिफिन बम आए थे या फिर इसमें अमरिंदर का कोई हाथ है। यह सब तब हुआ था, जब ज्यादातर विधायक कैप्टन के खिलाफ हो गए थे। अब रंधावा को गृह मंत्रालय मिलने के बाद कोई टिफिन बम नहीं मिला। उन्होंने कहा कि कैप्टन के खास लोगों के बैंक खातों की जांच करनी चाहिए। पता चले कि यह पैसा कहां से आया और कहां गया? इसमें ISI का क्या रोल था।

डिप्टी CM सुखजिंदर रंधवा ने मौड़ मंडी ब्लास्ट में भी कैप्टन को घेरा। यह ब्लास्ट कांग्रेसी नेता हरमिंदर सिंह जस्सी की रैली में हुआ था, जिसमें 9 लोगों की मौत हुई थी। इसकी जांच हुई, लेकिन बम कांड की साजिश रचने वाले कभी सामने नहीं आए। रंधावा ने कहा कि पंजाब सरकार की तरफ से नए सिरे से इसकी जांच कराई जाएगी।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने कैप्टन अमरिंदर सिंह से की मुलाकात

चंडीगढ़ (मा.स.स.). पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी गुरुवार को अचानक ही पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *