गुरुवार , अप्रेल 15 2021 | 10:49:27 AM
Breaking News
Home / राज्य / महाराष्ट्र / मुंबई एटीएस ने सचिन वाझे को बताया मनसुख की मौत का जिम्मेदार

मुंबई एटीएस ने सचिन वाझे को बताया मनसुख की मौत का जिम्मेदार

मुंबई (मा.स.स.). महाराष्ट्र आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) ने रविवार को कारोबारी मनसुख हिरेन की कथित हत्या के मामले को सुलझाने का दावा किया है। एटीएस ने एक निलंबित पुलिसकर्मी और सट्टेबाज को गिरफ्तार किया है। महाराष्ट्र एटीएस के डीआईजी शिवदीप लांडे ने इस बात की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि मुंबई पुलिस के अधिकारी सचिन वाझे ने अपराध में मुख्य भूमिका निभाई थी। वह मुख्य आरोपी के तौर पर सामने आया है। सट्टेबाज ने वाझे को पांच सिम कार्ड मुहैया कराए थे। गिरफ्तार दोनों आरोपियों को रविवार को अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें 30 मार्च तक एटीएस की हिरासत में रहने का निर्देश दिया गया है।

उन्होंने कहा कि शनिवार देर रात गिरफ्तार दोनों आरोपियों की पहचान पुलिसकर्मी विनायक शिंदे और सट्टेबाज नरेश गौर के रूप में हुई है। अधिकारी ने दिन में सट्टेबाज का नाम नरेश धरे बताया था, लेकिन बाद में उसका नाम नरेश गौर बताया गया। उन्होंने बताया कि शिंदे 2006 के लाखन भैया फर्जी मुठभेड़ मामले का दोषी है। उसे आजीवन कारावास की सजा हो चुकी है। वह पिछले साल ही फरलो पर जेल से रिहा हुआ था। उसके बाद से ही शिंदे वाझे के संपर्क में था। वाझे फिलहाल राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) की हिरासत में है।

एनआईए उद्योगपति मुकेश अंबानी के आवास के पास 25 फरवरी को विस्फोटक भरे वाहन मिलने के मामले की जांच कर रही है। उक्त मामले में प्रयुक्त वाहन (एसयूवी, स्कॉर्पियो) मनसुख हिरेन की थी। हिरेन का शव पांच मार्च को ठाणे में मिला। केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने शनिवार को हिरेन हत्याकांड की जांच भी एनआईए को सौंप दी थी। अधिकारी ने बताया कि हिरेन हत्याकांड में सचिन वाझे मुख्य आरोपी है। उसने मुख्य भूमिका निभाई है। जांच के दौरान एटीएस को पता चला कि गौर ने एपीआई वाझे और शिंदे को अपराध के लिए पांच सिमकार्ड मुहैया कराए थे। शिंदे अवैध गतिविधियों में वाझे की मदद किया करता था।

उन्होंने कहा कि एटीएस जांच कर रही है कि क्या मामले में और लोग भी संलिप्त हैं। उनकी क्या भूमिका रही है। उन्होंने कहा कि एटीएस जांच कर रही है कि मुख्य षड्यंत्रकारी (हिरेन हत्याकांड में) कौन है। उन्होंने कहा कि दोनों आरोपियों को मामले में पूछताछ के लिए शनिवार को एटीएस मुख्यालय बुलाया गया था। बाद में उन्हें गिरफ्तार किया गया। अधिकारी ने बताया, महाराष्ट्र एटीएस ने अभी तक कई लोगों से पूछताछ की है, जिनमें पुलिस अधिकारी और मृतक के परिजन शामिल हैं। इन दो लोगों की गिरफ्तारी इस मामले में महत्वपूर्ण प्रगति है। एटीएस ने हिरेन हत्याकांड के संबंध में अज्ञात लोगों के खिलाफ भादंसं की धारा 302 (हत्या), 201 (साक्ष्य मिटाने), 120 बी (आपराधिक षड्यंत्र) और 34 (साझा मंशा) के तहत मामला दर्ज किया है। इस बीच भाजपा ने कहा कि इस पूरे खेल में वाझे सिर्फ एक मोहरा हो सकता है।

महाराष्ट्र में मनसुख हिरेन की हत्या के मामले में महाराष्ट्र एटीएस और एनआईए सबूत जुटाने में लगे हुए हैं। महाराष्ट्र एटीएस ने सचिन वाजे की एक और कार को जब्त कर लिया है। एटीएस ने मंगलवार को एक वोल्वो कार को जब्त किया है। ये कार दमन से जब्त की गई है। फिलहाल इसे फॉरेंसिक जांच के लिए मुंबई लाया गया है। मनसुख हिरेन की मौत के मामले में एटीएस ने यह पहली कार जब्त की है। इससे पहले एंटीलिया मामले में पांच गाड़ियों को जब्त किया गया है। जिनमें दो मर्सिडीज, एक स्कॉर्पियो, एक प्राडो और एक सरकारी इनोवा शामिल है।

महाराष्ट्र एटीएस ने अहमदाबाद से एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया था। इस शख्स ने हत्या में इस्तेमाल हुए 11 सिम कार्ड उपलब्ध करवाए थे। इनमें से एक सिम को चार मार्च को रात आठ बजे से 8.30 बजे तक व्हाट्सऐप कॉल करने के लिए इस्तेमाल किया गया था। वहीं एनआईए की टीम ने यह भी खुलासा किया कि सचिन वाजे और मनसुख हिरेन के अलावा एंटीलिया मामले में 11 लोग शामिल थे। इनमें से कुछ रिटायर्ड और कुछ मौजूदा पुलिसकर्मी थे। ऐसा माना जा रहा है कि जल्दी ही उनकी भी गिरफ्तार हो जाएगी।

ऐसा बताया जा रहा है कि यह कार सचिन वाजे के पार्टनर की है। महाराष्ट्र एटीएस के जानकार अब इस गाड़ी की जांच कर रहे हैं। बता दें कि महाराष्ट्र एटीएस ने एक फैक्ट्री में छापा मारा था, जहां से कई अहम सबूत उनके हाथ लगे हैं। इसके अलावा एटीएस दमन में मिली कार के मालिक और सचिन वाजे के कनेक्शन की भी जांच कर रही है। इसके अलावा एनआईए के हाथ सचिन वाजे के खिलाफ कई पुख्ता सबूत लगे हैं, जिनका खुलासा वो जल्द करेगी। जांच एजेंसी ने बताया कि मनसुख हिरेन की हत्या के मामले में गिरफ्तार विनायक शिंदे एंटीलिया साजिश का हिस्सा है। इसके अलावा एनआईए ने सचिन वाजे के कार्यालय से एक अहम डायरी भी बरामद की है। इस डायरी को लेकर सचिन वाजे से पूछताछ चल रही है।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

एनआईए ने पुलिस अधिकारी रियाज को सचिन वाझे की मदद करने के आरोप में किया गिरफ्तार

मुंबई (मा.स.स.). एंटीलिया केस और मनसूख हिरेम मौत मामले में एनआईए ने बड़ा एक्शन लिया …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *