बुधवार , अक्टूबर 27 2021 | 11:28:31 AM
Breaking News
Home / अंतर्राष्ट्रीय / अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने मानी गलती, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया भी मनाने में जुटे

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने मानी गलती, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया भी मनाने में जुटे

अंतरराष्ट्रीय डेस्क (मा.स.स.). ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने कहा है कि उन्होंने फ्रांस के राष्ट्रपति इमानुएल मैक्रों से बातचीत करने की कोशिश की है, लेकिन वह अब तक सफल नहीं हो पाए हैं। ब्रिटेन ने फ्रांस को गुस्सा थूकने को कहा है। संयुक्त राष्ट्र और क्वाड नेताओं की बैठक में हिस्सा लेने अमेरिका पहुंचेऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने बुधवार को वॉशिंगटन में कहा कि वह फ्रांस के साथ संबंधों को दोबारा बनाने में सब्र से काम लेंगे। पिछले हफ्ते फ्रांस ने अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन के बीच हुए ऑकस समझौते पर नाराजगी जताते हुए ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका से अपने राजदूत वापस बुला लिए थे।

इस समझौते के चलते ऑस्ट्रेलिया और फ्रांस के बीच 2016 में हुआ अरबों डॉलर का पनडुब्बी समझौता टूट गया था, जिससे फ्रांस नाराज है। इस बीच अमेरिका ने फ्रांस के साथ बातचीत करके संबंधों को सामान्य करने की दिशा में कदम बढ़ा दिए हैं। फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमानुएल मैक्रों ने अमेरिकी नेता जो बाइडेन से बुधवार को फोन पर बात की। इसके बाद फ्रांस ने कहा है कि उसका राजदूत अगले हफ्ते अमेरिका लौट जाएगा। आधे घंटे तक चली इस बातचीत को वाइट हाउस ने दोस्ताना बताया और कहा कि दोनों नेताओं ने अगले महीने मिलने का कार्यक्रम बनाया है। बातचीत के बाद एक साझा बयान भी जारी किया गया, जिसमें कहा गया कि बाइडेन और मैक्रों ने विस्तृत मशविरे की प्रक्रिया शुरू की है, जिसका मकसद एक दूसरे का भरोसा जीतना है। वाइट हाउस प्रवक्ता जेन साकी ने कई बार पत्रकारों के इस सवाल को नजरअंदाज किया कि जो बाइडेन ने मैक्रों से माफी मांगी या नहीं।

कई बार पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि बाइडेन ने माना है कि ऑकस समझौते को लेकर ज्यादा मशविरा किया जा सकता था। साकी ने कहा, ‘राष्ट्रपति को उम्मीद है कि यह फ्रांस के साथ अमेरिका से लंबे, महत्वपूर्ण और सहयोगी रिश्तों के सामान्य होने की ओर लौटने की ओर कदम है।’ साझा बयान के मुताबिक बाइडेन और मैक्रों इस बात पर सहमत हुए हैं कि “फ्रांस और यूरोपीय सहयोगियों से जुड़े रणनीतिक मसलों पर और ज्यादा खुली बातचीत से स्थिति को ज्यादा फायदा होता।

वहीं वॉशिंगटन पहुंचे ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने बिना किसी लाग लपेट के कहा कि फ्रांस को गुस्सा थूक कर आगे बढ़ने के बारे में सोचना चाहिए। जॉनसन ने कहा कि ऑकस समझौता मूलभूत रूप से वैश्विक सुरक्षा के लिए एक महान कदम है। उन्होंने कहा, ‘तकनीक साझा करने की एक नई साझीदारी के लिए बहुत समदर्शी तीन सहयोगी कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हुए हैं। ऐसा नहीं है कि इसमें अन्य देश नहीं आ सकते। यह किसी को बाहर धकेलने की कोशिश नहीं है। मिसाल के तौर पर यह चीन के खिलाफ नहीं है।’ समझौते के बाद फ्रांस ने ब्रिटेन के साथ होने वाली विदेश मंत्री स्तरीय बैठक रद्द कर दी थी।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

अमेरिका ने ताइवान को दिया चीन से निपटने में हर संभव सहायता का आश्वासन

बीजिंग (मा.स.स.). ताइवान और चीन के बीच चल रहे तनाव को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *