गुरुवार , फ़रवरी 25 2021 | 09:25:17 PM
Breaking News
Home / अंतर्राष्ट्रीय / ब्रिटिश SAS स्नाइपर ने मार गिराए कई आईएसआईएस आतंकवादी

ब्रिटिश SAS स्नाइपर ने मार गिराए कई आईएसआईएस आतंकवादी

लंदन (मा.स.स.). ब्रिटेन की स्पेशल एयर सर्विस (SAS) के जाबांज स्नाइपर ने अपनी निशानेबाजी से आतंकियों के बीच कोहराम मचाकर रख दिया है। इस जवान ने सीरिया में लगभग 900 मीटर की दूरी से सटीक निशाना लगाते हुए एक गोली से आईएसआईएस के पांच आतंकियों को मार गिराया। मारे गए आतंकियों में एक आईएसआईएस का शीर्ष कमांडर बताया जा रहा है।

डेली स्टार की रिपोर्ट के अनुसार, स्पेशल एयर सर्विस एसएएस के इस सार्जेंट ने सीरिया में तैनाती के दौरान यह कारनामा किया। इस स्नाइपर ने सीरिया में जिहादी आत्मघाती हमलावर के विस्फोटकों से भरे जैकेट पर लगभग 900 मीटर की दूरी से सटीक निशाना लगाया। उस समय वह जिहादी एक कैमरे पर धमाके के पहले संदेश को रिकॉर्ड कर रहा था। गोली लगने से आत्मघाती जिहादी के जैकेट में धमाका हो गया। जिससे वहां मौजूद चार अन्य आतंकवादी भी मारे गए।

ब्रिटिश एसएएस के कमांडो कई दिनों से आईएसआईएस के इस सीक्रेट बम फैक्ट्री पर नजर बनाए हुए थे। नवंबर में उन्हें इस फैक्ट्री में कुछ ज्यादा ही संदिग्ध गतिविधियां दिखने लगी थीं। जिसके बाद ऐक्शन का फैसला किया गया। कमांडो की टीम ने इस फैक्ट्री में से पांच आतंकियों को बाहर निकलते हुए देखा। उनमें से एक आत्मघाती हमलावर को फिल्मा रहा था जो मुस्कुराते हुए कैमरे पर बातें कर रहा था।

एसएएस के कमांडों ने तुरंत इसकी सूचना अपने बेस को दी कि उसके निशाने पर एक आत्मघाती हमलावर है। पहले यह योजना बनाई गई थी कि एक गोली से केवल उस हमलावर को मार दिया जाए, जिससे उसकी पहचान की जा सके। लेकिन, लक्ष्य की दूरी अधिक होने के कारण और हवा में अचानक हुए बदलाव से गोली उस आत्मघाती हमलावर के विस्फोटकों से भरे जैकेट पर जा लगी। जिसके कारण हुए घमाके में सभी पांचों आतंकवादी मारे गए।

ब्रिटिश आर्मी ने सुरक्षा कारणों से एसएएस के इस स्नाइपर के नाम का खुलासा नहीं किया है। रिपोर्ट में बताया गया है कि यह स्नाइपर .50 कैलिबर के रायफल का इस्तेमाल कर रहा था। इस रायफल को ब्रिटिश आर्मी के शस्त्रागार की सबसे शक्तिशाली हथियारों में गिना जाता है।बता दें कि ब्रिटिश सेना पिछले कई साल से स्थानीय कुर्दिश लड़ाकों के साथ मिलकर आईएसआईएस के खिलाफ जवाबी कार्रवाई कर रही है।

ब्रिटेन की सेना .50 कैलिबर के रायफल का इस्तेमाल मुख्य रूप से विमान, कार, ट्रक और हल्के बख्तरबंद टैंकों जैसे बड़े लक्ष्यों को मारने के लिए करती है। इंसानों के ऊपर इस रायफल का प्रयोग काफी घातक होता है। इसके एक वार से इंसान के शरीर के चिथड़े उड़ जाते हैं। हालांकि, लंबी दूरी के लक्ष्य को साधने या किसी लक्ष्य के ऊपर तगड़ा वार करने के लिए इस रायफल का इस्तेमाल किया जाता है।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

श्रीलंका ने चीन की कोरोना वैक्सीन को मंजूरी देने की जगह भारत से मंगाई

कोलंबो (मा.स.स.). श्रीलंका ने चीनी ड्रैगन को बड़ा झटका देते हुए उसकी साइनोफॉर्म कोरोना वायरस …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *