मंगलवार , नवम्बर 30 2021 | 05:44:01 AM
Home / राष्ट्रीय / पुणे में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 50,000 के पार, देश में स्थिति चिंताजनक

पुणे में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 50,000 के पार, देश में स्थिति चिंताजनक

नई दिल्ली (मा.स.स.). महाराष्ट्र के पुणे में बेड और अन्य चिकित्सा सुविधाओं की कमी इसलिए हो गई है, क्योंकि यहां कोरोना वायरस के सक्रिय मामलों की संख्या गुरुवार को 50,000 से अधिक हो गई थी। राज्य सरकार के आंकड़ों से पता चलता है कि जिले में लगातार दूसरे दिन गुरुवार को छह हजार से अधिक मामले सामने आए हैं। आपको बता दें कि आज 6,427 नए पॉजिटिव केस सामने आए हैं। इसके साथ ही पुणे में कोरोना के एक्टिव केस 50,289 हो गई है।

रिकवरी रेट की बात करें तो गुरुवार को केवल 2,808 लोगों ने इस महामारी को मात दी है। पुणे नगर निगम क्षेत्रों में अस्पतालों में आवंटित कोविड-19 बेड का 80 प्रतिशत से अधिक पहले से ही कुब है। स्थानीय अधिकारियों को आने वाले दिनों में मांग में वृद्धि के लिए अधिक बेड, वेंटिलेटर और आईसीयू मुहैया कराने के लिए मशक्कत करनी पड़ेगी। आपको बता दें कि जिले करीब 10,000 से अधिक मरीज अस्पताल में भर्ती हैं, जबकि शेष अपने-अपने घरों में हैं।

महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने शुक्रवार को चेताया कि अगर एक सप्ताह में पुणे में कोविड-19 की स्थिति में सुधार नहीं होता है तो कड़े कदम उठाए जाएंगे। पुणे के प्रभारी मंत्री पवार ने जिले की स्थिति की समीक्षा करने के बाद संवाददाता सम्मेलन में चेतावनी भी जारी की। उन्होंने कहा, ”मैं लोगों को बताना चाहता हूं कि हालात गंभीर हो रहे हैं। अगर हालात ऐसे ही रहे तो हमें अप्रैल के पहले सप्ताह से जिले में और सख्ती बरतनी होगी।” उपमुख्यमंत्री ने लोगों को कोविड-19 प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करने को कहा। उन्होंने मास्क लगाने, दो गज की दूरी बनाए रखने और बार-बार हाथ धोने पर फिर से जोर दिया।

उन्होंने कहा कि विवाह समारोह में अधिकतम 50 जबकि अंतिम संस्कार में 20 लोगों को शामिल होने की अनुमति होगी। सभी राजनीतिक और सामाजिक कार्यक्रम भी रद्द कर दिए गए हैं। पवार ने कहा, होटलों और रेस्तरां को 50 प्रतिशत क्षमता से साथ रात 10 बजे तक काम करने की अनुमति होगी। उपमुख्यमंत्री ने कहा, ”हमने पुणे में विशाल अस्पताल और पिम्पड़ी चिंचवड़ में बड़ा सुविधा केन्द्र शुरू किया है जो अप्रैल से संचालित होगा। हम शहर में भी कोविड-19 केन्द्र शुरू कर रहे हैं।”

उन्होंने बताया कि आपात स्थिति को ध्यान में रखते हुए हम रायगढ़ के ऑक्सीजन प्लांट के साथ बातचीत कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि जिले में टीकाकरण केन्द्रों की संख्या दोगुनी करने की भी योजना है। कोरोना की रफ्तार जिस स्पीड से बढ़ रही है उससे देश के कई राज्यों की चिंता काफी बढ़ गई है। महाराष्ट्र, पंजाब, मध्य प्रदेश इन राज्यों ने पहले कुछ शहरों में नाइट कर्फ्यू का सहारा लिया फिर कुछ जिलों में लॉकडाउन लगाया। इसके बावजूद भी कोरोना के केस बढ़ते ही जा रहे हैं। महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम ने भी कोरोना के बढ़ते केस पर चिंता जताई है।

पुणे में शुक्रवार अजित पवार ने कहा कि कोरोना के बढ़ते केस को मॉनिटर किया जा रहा है। 2 अप्रैल तक नजर रखी जाएगी। लोग यदि कोरोना गाइडलाइंस का पालन नहीं करते हैं तो लॉकडाउन के अलावा कोई चारा नहीं बचेगा। देश के कई दूसरे राज्यों ने भी कोरोना नियमों को लेकर सख्ती बढ़ा दी है। कई राज्यों में मास्क न पहनने पर जुर्माना बढ़ा दिया गया है। दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने भी मास्क नहीं पहनने वालों से सख्ती से निपटने की बात कही है।

देश में कोरोना की रफ्तार बढ़ती ही जा रही है। पिछले 24 घंटे में कोविड-19 के 59 हजार 118 नए मामले सामने आए हैं। इस साल एक दिन में सामने आए यह सर्वाधिक मामले हैं। आंकड़ों के अनुसार, इससे पहले 18 अक्टूबर 2020 को 24 घंटे में संक्रमण के सर्वाधिक 61,871 नए मामले सामने आए थे। आंकड़ों के मुताबिक लगातार 16वें दिन वायरस के नए मामलों में बढ़ोतरी दर्ज की गई है। मरीजों की संख्या तो बढ़ ही रही है लेकिन इस बीच कोरोना के डबल म्यूटेंट वैरिएंट ने भी चिंता और बढ़ा दी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से बताया गया कि देश में कोरोनावायरस का एक नया डबल म्यूटेंट वैरिएंट 18 राज्यों में पाया गया है।

एसबीआई की एक रिपोर्ट के मुताबिक, अगले 20-25 दिनों में कोरोना संक्रमण अपने सेकंड पीक में पहुंच जाएगा। रिपोर्ट में कहा गया है कि कोरोना की दूसरी लहर कुल 100 दिनों तक चल सकती है और इस दौरान संक्रमण के कुल मामले करीब 25 लाख पहुंच सकते हैं। गुजरात में कोरोना के मामलों में पिछले 25 दिन में 359 फीसदी का उछाल देखने को मिला है। राज्य में गुरुवार को 1961 नए केस सामने आए। अकेले सूरत जिले में 628 और अहमदाबाद में 558 नए कोरोना केस सामने आए हैं। जबकि एक दिन में कोरोना से 7 लोगों की मौत हुई है।

महाराष्ट्र में कोरोना के सबसे अधिक मामले सामने आ रहे हैं। इस राज्य में पिछले 24 घंटे में 36 हजार से अधिक मामले सामने आए जो कोरोना की शुरुआत के बाद का सबसे अधिक आंकड़ा है। अकेले मुंबई में कोरोना के 5500 से ज्यादा मामले सामने आए हैं। पूरे राज्य में अब तक 24 लाख से ज्यादा लोग कोरोना की चपेट में आ चुके हैं।

मध्यप्रदेश में भी कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ती ही जा रही है। पिछले 24 घंटे में यहां 1885 मामले सामने आए और 9 लोगों की इससे जान भी चली गई। केरल में पिछले 24 घंटे में 1900 से ज्यादा मामले दर्ज किए गए हैं। पंजाब में भी कोरोना के लगातार मामले बढ़ रहे हैं। पंजाब में नए यूके स्ट्रेन के कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं। पिछले 24 घंटे में पंजाब में 2700 नए मामले सामने आए। महाराष्ट्र, पंजाब, कर्नाटक, छत्तीसगढ़ और गुजरात इन राज्यों में तेजी से मामला बढ़ा है।

29 मार्च को होली का त्योहार है और इससे पहले कोरोना का केस बढ़ता ही जा रहा है। कई राज्यों में कोरोना को लेकर खतरे की घंटी बज रही है। बढ़ते केस के बाद होली को लेकर महाराष्ट्र, गुजरात, हरियाणा, ओडिशा, दिल्ली, यूपी इन राज्यों में गाइडलाइन जारी कर दी गई है।कोरोना के बढ़ते केस के बाद सख्ती बढ़ा दी गई है। सरकार ने महाराष्ट्र में ऑफिस, थियेटर और शादी समारोह के लेकर नई गाइडलाइन जारी की है। मास्क नहीं पहनने वालों पर जुर्माना के साथ कई जगहों पर वाहन जब्त करने की भी खबरेंआई। कुछ जिलों में लॉकडाउन लगा दिया गया है। महाराष्ट्र के बीड शहर में जिला प्रशासन ने 10 दिनों का लॉकडाउन घोषित किया है। यह लॉकडाउन 26 मार्च की रात से शुरू होकर 4 अप्रैल तक लागू रहेगा।

पंजाब सरकार की ओर 11 जिलों में नाइट कर्फ्यू लगाया गया है। गुजरात के कुछ शहरों में नाइट कर्फ्यू लगाया गया है। यूपी में दोबारा से स्कूल बंद कर दिया गया है। मध्यप्रदेश के कुछ शहरों में शनिवार और रविवार के लिए लॉकडाउन लगाया गया। वैक्सीनेशन की रफ्तार बढ़ रही है तो दूसरी ओर कोरोना भी तेज रफ्तार से भाग रहा है। बढ़ते केस और लोगों की लापरवाही इस पर लगाम नहीं लगी तो राज्य सरकारों के पास लॉकडाउन के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं बचेगा।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

प्रियंका गांधी वाड्रा का सियासी जुआ

-प्रो. रसाल सिंह फरवरी 2022 में होने वाले उत्तर प्रदेश विधान-सभा चुनाव में जीत के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *