शुक्रवार , जुलाई 30 2021 | 06:19:52 AM
Breaking News
Home / राज्य / मध्यप्रदेश / सचिन वझे ने मीठी नदी में छुपाये थे कई सबूत, एनआईए ने किये बरामद

सचिन वझे ने मीठी नदी में छुपाये थे कई सबूत, एनआईए ने किये बरामद

मुंबई (मा.स.स.). एंटीलिया-सचिन वझे केस की जांच कर रही राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) को मामले में लगातार नए सुराग मिल रहे हैं. NIA की टीम रविवार को सचिन वझे को साथ लेकर मुंबई की मीठी नदी के किनारे पर पहुंची. वहां पर गोताखोरों के जरिए NIA को MH20 FP1539 नंबर की दो नंबर प्लेट मीठी नदी के अंदर से बरामद हुई.

जानकारी के मुताबिक NIA की टीम सचिन वझे को शाम करीब 3.15 बजे अपनी कस्टडी में लेकर मीठी नदी पर पहुंची. मुंबई पुलिस की टीम भी सहयोग के लिए एजेंसी के साथ थी. NIA ने पहले अपने 11 गोताखोरों को नदी में उतारा. उसके बाद मेटल डिटेक्टर को रस्सी में बांधकर नीचे गोताखोरों के पास फेंका. उस मेटल डिटेक्टर के जरिए मीठी नदी से 2 CPU, एक लैपटॉप, एक जैसे नंबर वाली 2 नंबर प्लेट्स, 2 प्रिंटर, दो DVR और कुछ दूसरे उपकरण निकाले गए. शाम 5 बजे ये ऑपरेशन खत्म हो गया.

सूत्रों के मुताबिक NIA की पूछताछ में सचिन वझे ने बताया था कि उसने तमाम हार्ड डिस्क, DVR और CCTV जैसे सबूतों को नष्ट करने के लिए मीठी नदी में फेंके थे. इसके बाद NIA की टीम ने सचिन वझे को मीठी नदी पर ले जाने का फैसला किया. मीठी नदी पहुंचे सचिन वझे ने बाकायदा उंगली दिखाकर उस जगह की तस्दीक भी की, जहां उसने सबूत फेंके थे. इसके बाद NIA ने अपने गोताखोरों की टीम को मीठी नदी में उतारा. अब NIA मीठी नदी से मिले सभी सबूतों की जांच करेगी.

रियाज़ पर आरोप है कि उसने स्कोर्पियो कार मामले से जुड़े तमाम सबूतों को पहले इकट्ठा किया और फिर उन्हें नष्ट कर दिया. जब महाराष्ट्र ATS की जांच चल रही थी. उसी दौरान रियाजुद्दीन विक्रोली इलाके की नंबर प्लेट बनाने वाली एक दुकान बंटी रेडियम पर गया और वहां से DVR, कंप्यूटर लेकर चला गया. इस दुकान का मालिक तुषार सावंत है. CCTV में रियाजुद्दीन, तुषार को अपने साथ ले जाते हुए दिखाई दे रहा है. जब ज़ी न्यूज़ की टीम इस दुकान पर पहुंची तो ये दुकान बंद मिली.

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

वीरता की प्रतीक झाँसी की रानी लक्ष्‍मीबाई

उपनाम मनु, मणिकर्णिका, छबीली जन्‍म दो तिथियों 16 नवम्‍बर, 1828 व 19 नवम्‍बर, 1835 में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *