बुधवार , अक्टूबर 20 2021 | 03:20:17 AM
Breaking News
Home / राज्य / महाराष्ट्र / हमने कभी महाराष्ट्र भाजपा के नेताओं के खिलाफ नहीं बोले गलत शब्द : संजय राउत

हमने कभी महाराष्ट्र भाजपा के नेताओं के खिलाफ नहीं बोले गलत शब्द : संजय राउत

मुंबई (मा.स.स.). महाराष्ट्र में केंद्रीय मंत्री नारायण राणे की रिहाई के बाद सियासत एक बार फिर गरमाई है. अब शिवसेना नेता संजय राउत ने आरोप लगाया है कि भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए ‘नए चेहरों’ ने दोनों पार्टियों के बीच रिश्तों को खराब कर दिया है. उन्होंने कहा कि बीजेपी और शिवसेना के बीच कुछ मुद्दों पर मतभेद रहे, लेकिन कभी रिश्ते खराब नहीं हुए. राउत ने ‘हिंदुत्व के बंधन’ की बात उठाई और कहा कि दोनों पार्टियां 25 सालों तक साथ रहीं. राणे ने रायगढ़ में एक कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को थप्पड़ मारने की बात कही थी, जिसके बाद तनाव बढ़ गया था.

राणे पर निशाना साधते हुए राउत ने कहा कि देवेंद्र फडणवीस या चंद्रकांत पाटिल जैसे भाजपा के वरिष्ठ नेताओं ने सेना के खिलाफ ऐसी हिंसक भाषा का इस्तेमाल नहीं किया. दोनों पार्टियां 2019 में अलग होने से पहले 25 सालों तक साथ रहीं. उन्होंने कहा, ‘कुछ मुद्दों पर बीजेपी और शिवसेना के मत अलग-अलग थे, लेकिन हमारे रिश्तों में कभी खटास नहीं आई. बीते कुछ सालों में जो नए नेता बीजेपी में शामिल हुए हैं, उन्होंने संबंध खराब कर दिए हैं.’

राउत ने नए नेताओं की तुलना बांग्लादेशी और पाकिस्तानी घुसपैठियों से कर दी. उन्होंने कहा, ‘वे बांग्लादेशी और पाकिस्तानी घुसपैठियों की तरह ही कुख्यात हैं, जो हमारी सामाजिक सद्भावना को अशांत करते हैं.’ शिवसेना नेता ने कहा, ‘हमने एक-दूसरे पर कभी हमला नहीं किया या कभी संबंध नहीं बिगड़े. जिस तरह से नारायण राणे बर्ताव कर रहे हैं, वे दुश्मनी दिखा रहे हैं. बीजेपी ने हमारे संबंधों को सुधारने के लिए कैसे व्यक्ति को नियुक्त कर लिया है.’

शिवसेना के राज्यसभा सदस्य राउत ने कहा, ‘हम जानते हैं कि दिवंगत बालासाहेब ठाकरे के अटलजी और आडवाणीजी के साथ संबंध सौहार्दपूर्ण थे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बीच भी संबंध सौहार्दपूर्ण हैं.’ शिवसेना के साथ अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत करने वाले राणे 1999 में भाजपा-शिवसेना सरकार के दौरान महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बने थे. हालांकि, जुलाई 2005 में शिवसेना ने उन्हें ‘पार्टी विरोधी गतिविधियों’ के लिए निष्कासित कर दिया था.

संजय राउत का बयान आने के कुछ ही देर बाद केंद्रीय मंत्री ने भी शिवसेना नेताओं का पर्दाफाश करने की धमकी दे दी. राणे ने कहा कि उन्होंने शिवसेना के साथ दशकों तक काम किया है और वे पार्टी के बारे में काफी बातें जानते हैं. उन्होंने कहा, ‘मैंने उनके साथ 39 सालों तक काम किया है. मैं कई बातें जानता हूं. मैं जानता हूं कि किसने किससे अपने खुद के भाई की बीवी पर तेजाब फेंकने के लिए कहा था. ये कैसे संस्कार हैं.’ उन्होंने सीएम ठाकरे सवाल किया, ‘एक केंद्रीय मंत्री को गिरफ्तार कर के क्या मिला? मैं धीरे-धीरे मामले सामने लाऊंगा.’

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

अक्टूबर में खुल जाएंगे सिनेमाघर और धार्मिक स्थल

मुंबई (मा.स.स.). महाराष्ट्र सरकार ने राज्य में धार्मिक स्थलों के बाद अब सिनेमाघर भी खोलने का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *