बुधवार , अप्रेल 14 2021 | 04:04:21 PM
Breaking News
Home / राज्य / जम्मू और कश्मीर / बदले महबूबा मुफ्ती के सुर, पत्थर और बंदूक की शांति से मिलेगा हल

बदले महबूबा मुफ्ती के सुर, पत्थर और बंदूक की शांति से मिलेगा हल

जम्मू (मा.स.स.). पत्थर और बंदूक उठाने से किसी समस्या का समाधान नहीं होगा। हम अपनी बात शातिंपूर्ण तरीके से रख सकते हैं। कुछ लोग चाहते हैं कि घाटी के लोग बंदूक उठाएं, ताकि यहां के युवाओं पर पीएसए (सार्वजनिक सुरक्षा कानून) लगाया जाए। यह बात पीडीपी अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने यहां कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के सेनाध्यक्ष कमर जावेद बाजवा कहते हैं, हम शांति चाहते हैं, लेकिन हम बाजवा से कहते हैं कि बातचीत के सभी रास्तों को खोला जाए।

भारत और पाकिस्तान में बातचीत के बिना जम्मू-कश्मीर में शांति नामुमकिन है। उन्होंने कहा कि पीडीपी के नेताओं मेरे मामा नईम अख्तर और वहीद पारा को गिरफ्तार किया गया। मुझे एजेंसी से समन आता है। ईडी मुझसे पूछती है कि जो आप के पास सीक्रेट फंड कहां से आए? उनका हिसाब दें। मैं इन सब चीजों का डटकर मुकाबला करूंगी। मुझे आप कार्यकर्ताओं और लोगों का साथ चाहिए। मैं अकेले कुछ नहीं कर सकती। पीडीपी ही जम्मू-कश्मीर के लोगों की बात रख सकती है। कुछ लोग कहते हैं कि राज्य का दर्जा बहाल किया जाए। मैं कहती हूं कि राज्य का दर्जा नहीं जब तक हमें हमारी पहचान नहीं मिलती, तब तक हम लड़ते रहेंगे। पीडीपी के नेताओं को पार्टी छोड़ने के लिए तंग किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आज बजरी और रेत के दाम आसमान छू रहे हैं। आम जनता की कम टूट गई है।

महबूबा मुफ्ती ने आतंकवादियों द्वारा मारे गए कृष्णा ढाबे के मालिक के बेटे आकाश मेहरा के श्रीनगर स्थित घर पहुंच कर उनके परिवार के सदस्यों से मुलाकात की। आकाश को 17 फरवरी को गोली मार दी गई और गंभीर रूप से घायल कर दिया गया था। उन्होंने 28 फरवरी को असपताल में दम तोड़ दिया था। महबूबा ने शोक संतप्त परिवार के साथ अपनी भावनाएं व्यक्त करते  हुए संवेदनाएं की। उनके साथ पीडीपी महासचिव महबूब बेग भी थे।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

निर्धारित प्रक्रिया का पालन कर रोहिंग्याओं को म्यांमार वापस भेजे सरकार : सुप्रीम कोर्ट

जम्मू (मा.स.स.). सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को कहा कि जम्मू में हिरासत में लिए गए …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *