शुक्रवार , अप्रेल 16 2021 | 02:40:41 PM
Breaking News
Home / अंतर्राष्ट्रीय / म्यांमार की एयरफोर्स के बमों से डरकर थाईलैंड पहुंचे 3 हजार से अधिक लोग

म्यांमार की एयरफोर्स के बमों से डरकर थाईलैंड पहुंचे 3 हजार से अधिक लोग

अंतरराष्ट्रीय डेस्क (मा.स.स.). म्यांमार में सेना की कार्रवाई में 114 लोगों के मारे जाने के अगले दिन बॉर्डर से सटे एक गांव में हवाई हमले की खबरें आई हैं। इसमें बच्चों समेत कई लोगों की मौत का भी दावा किया जा रहा हे। रायटर्स ने लोकल मीडिया के हवाले से बताया है कि यह गांव म्यांमार के दक्षिणपूर्वी करेन राज्य में है।

सेना के हमले से डरकर यहां के लगभग 3,000 लोग थाईलैंड भाग गए। यह इलाका विद्रोही गुट करेन नेशनल यूनियन (KNU) के कब्जे वाला माना जाता है। KNU का कहना है कि वह उन सैकड़ों लोगों को शरण दे रहा है, जो हाल के हफ्तों में देश में बढ़ी हिंसा के बीच भाग सेंट्रल म्यांमार पहुंचे हैं।

KNU के मुताबिक, सेना का हमला रात करीब 8 बजे हुआ। उसके ब्रिगेड-5 फोर्स के नियंत्रण वाले इलाके में फाइटर जेट्स ने बम गिराए। इस ग्रुप का कहना है कि पिछले महीने के सैन्य तख्तापलट के बाद गृह युद्ध की आशंका बढ़ गई है। हालांकि, इस मामले पर म्यांमार की सेना की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस इलाके में बीते कुछ साल में यह सबसे बड़ा हमला है। KNU ने 2015 में सरकार के साथ युद्धविराम समझौता किया था। सेना ने बीती 1 फरवरी को सरकार का तख्तापलट कर दिया। इससे पहले शनिवार को KNU ने कहा था कि ब्रिगेड-5 फोर्सेज ने सेना के एक बेस पर हमला किया है। इसमें लेफ्टिनेंट कर्नल सहित 10 सैनिकों की मौत हुई थी। इसी दिन म्यांमार की सेना ने राजधानी नेपाईतॉ में आर्म्ड फोर्सेज डे मनाया था।

म्यांमार में तख्तापलट के खिलाफ जारी हिंसक विरोध-प्रदर्शनों के बीच सुरक्षा बलों और प्रदर्शनकारियों की झड़प में शनिवार को 114 लोगों की मौत हुई थी। तख्तापलट के बाद एक दिन में हुईं मौतों की यह सबसे बड़ी संख्या है। शनिवार को ही म्यांमार में आर्म्ड फोर्सेज डे मनाया गया। इस दिन सेना परेड निकालकर अपनी ताकत का प्रदर्शन करती है।

म्यांमार नाउ न्यूज पोर्टल ने अपनी रिपोर्ट में शनिवार को 44 शहरों में प्रदर्शन और 114 लोगों के मारे जाने की खबर दी थी। वहीं एक न्यूज पेपर ने यह संख्या 59 बताई है। इनमें 3 बच्चे भी शामिल थे। मीडिया और इंटरनेट पर रोक की वजह से मौतों की सही संख्या सामने आ पाना मुमकिन नहीं है।

12 देशों के रक्षा प्रमुखों ने म्यांमार सेना की कार्रवाई पर सवाल उठाए हैं। इनमें अमेरिका, ब्रिटेन, जर्मनी, इटली, डेनमार्क, ग्रीस, नीदरलैंड, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, दक्षिण कोरिया और जापान शामिल हैं। एक ज्वाइंट स्टेटमेंट में उन्होंने कहा कि हम म्यांमार की सेना और और सिक्योरिटी सर्विस के निहत्थे लोगों ताकत के इस्तेमाल की निंदा करते हैं।

उन्होंने सेना से हिंसा रोकने और म्यांमार के लोगों के सामने सम्मान और भरोसा बहाल करने के लिए काम करने की गुजारिश की। बयान में कहा गया है कि प्रोफेशनल आर्मी इंटरनेशनल स्टैंडर्ड का पालन करती है और लोगों की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार होती है, न कि उन्हें नुकसान पहुंचाने के लिए।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

दावा : छूने से नहीं फैलता है कोरोना संक्रमण

वाशिंगटन (मा.स.स.). पूरी दुनिया में तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामलों ने जहां हर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *