मंगलवार , अक्टूबर 19 2021 | 02:20:29 AM
Breaking News
Home / राज्य / उत्तरप्रदेश / पश्चिम उत्तर प्रदेश में रहस्यमयी वायरल से 50 की मौत, कई बच्चे भी शामिल

पश्चिम उत्तर प्रदेश में रहस्यमयी वायरल से 50 की मौत, कई बच्चे भी शामिल

लखनऊ (मा.स.स.). पश्चिमी यूपी के कुछ हिस्सों में इन दिनों वायरल का खौफ है। तेज बुखार से लोगों की मौत हो रही है। स्वास्थ्य विभाग के आधिकारिक आंकड़े देखें तो पिछले एक हफ्ते में आगरा, फिरोजाबाद, मथुरा, मैनपुरी, एटा और कासगंज जिलों में 50 लोगों की मौत तेज बुखार, डीहाइड्रेशन और प्लेटलेट काउंट में अचानक गिरावट के कारण हुई है। चौंकाने वाले आंकड़े ये भी हैं कि मरने वालों में 26 बच्चे थे। लोगों को इस वायरल से ठीक होने में 12 दिनों से ज्यादा समय लग रहा है। यही कारण है कि अब सरकारी अस्पतालों में बेडों की कमी हो गई है।

स्वास्थ्य अधिकारियों ने टीओआई को बताया कि पूर्वी यूपी से भी वायरल बुखार के मामले सामने आए हैं। गोंडा, बस्ती, देवरिया, बलिया, आजमगढ़, सुल्तानपुर, जौनपुर और गाजीपुर में लोग वायरल की चपेट में आ रहे हैं। हालांकि पश्चिमी यूपी के जिले सबसे ज्यादा प्रभावित हैं। इसके अलावा, आगरा में राजस्थान और मध्य प्रदेश के पड़ोसी जिलों से भी इसी तरह के लक्षणों वाले वायरल बुखार के मरीज मिल रहे हैं।अतिरिक्त निदेशक (स्वास्थ्य) एके सिंह ने कहा कि पिछले साल, वायरल बुखार के मामले बहुत कम आए थे क्योंकि लोग घर पर रह रहे थे और स्वच्छता बनाए रखते थे। उच्च आर्द्रता के साथ, वेक्टर जनित रोगों को फैलाना आसान होता है।

फिरोजाबाद में अब तक सबसे अधिक 25 मौतें हुई हैं। फिरोजाबाद सीएमओ डॉ नीता कुलश्रेष्ठ ने कहा कि जिन लोगों की वायरल से मौत हुई है उनमें से कोई भी कोविड -19 पॉजिटिव नहीं था। मौत के कारणों की जांच की जा रही है। ग्रामीण क्षेत्रों में डॉक्टरों और स्वास्थ्य कर्मचारियों की बारह टीमों, और सभी सहायक नर्स और आशा कार्यकर्ताओं को इस काम में लगाया गया है। डॉक्टरों ने बताया कि यह चिंता का विषय है। वायरल फीवर रिकवरी का समय चार से पांच दिन से बढ़कर 10-12 दिन हो गया है। फिरोजाबाद मेडिकल कॉलेज में प्रत्येक अस्पताल के बिस्तर पर दो से तीन मरीज रखे जा रहे हैं। अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ हंसराज सिंह ने कहा कि इस वायरल बुखार से पीड़ित 100 से अधिक बच्चों का यहां इलाज किया जा रहा है।

आगरा में, जिला अस्पताल के अधीक्षक डॉ. एके अग्रवाल ने कहा कि हम हर दिन इस वायरल बुखार के कम से कम 200 रोगियों को देख रहे हैं। पिछले तीन हफ्तों में यह संख्या बढ़ी है। बच्चे सबसे अधिक असुरक्षित हैं। फिरोजाबाद के शेर सिंह जाटव, जिन्होंने अपने चार साल के बेटे को वायरल फीवर में खो दिया, उन्होंने कहा कि जिला अस्पताल में बेड नहीं थे। हमें उसे एक निजी में ले जाना पड़ा। लेकिन उनका प्लेटलेट गिर गया और शुक्रवार को उसकी मौत हो गई।

ग्रामीण क्षेत्र के हालात और भी खराब हैं। आगरा के तिवाहा गांव के विमल मोहन ने कहा कि गांव में एक भी घर ऐसा नहीं है जहां कोई बीमार न हो। पिछले 24 घंटों में कम से कम 20 को आगरा के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पिछले एक सप्ताह में चार की मौत हो गई। जबकि डॉक्टरों और स्वास्थ्य अधिकारियों ने तीन दिन पहले गांव का दौरा किया और उन्हें दवाएं दीं, ज्यादातर मरीज घर पर ही हैं क्योंकि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में उन्हें भर्ती नहीं मिली।

अतिरिक्त निदेशक सिंह ने कहा कि स्वास्थ्य टीमों को तेजी से ट्रांसफर किया जा रहा है। घर पर दवाएं उपलब्ध कराने के अलावा, ऐम्बुलेंस भेजी जा रही हैं। मौत के सभी मामलों की जांच की जा रही है।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

प्रशासन के रिकॉर्ड से गायब हुए मुख्तार अंसारी की संपत्तियों के अभिलेख

लखनऊ (मा.स.स.). जिला प्रशासन मुख्तार अंसारी व उनकी पत्नी आफ्शा अंसारी की पुरानी संपत्तियों के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *