मंगलवार , नवम्बर 30 2021 | 05:31:12 AM
Home / राज्य / उत्तरप्रदेश / कल से दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे खुल जायेगा, फिलहाल नहीं लगेगा टोल

कल से दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे खुल जायेगा, फिलहाल नहीं लगेगा टोल

नई दिल्ली (मा.स.स.). राजधानी दिल्ली से पश्चिमी उत्तर प्रदेश के दर्जनभर जिलों के बीच का सफर एक अप्रैल से आसान होने वाला है। केंद्रीय सड़क एवं परिवहन राजमार्ग मंत्रालय की ओर से दिल्ली-मेरठ एक्सप्रस-वे को शुरू करने की मंजूरी मिलने के बाद इसे एक अप्रैल से खोल दिया जाएगा। इससे पहले इसे ट्रायल के लिए खोला गया, लेकिन औपचारिक रूप से एक अप्रैल से ही इस पर वाहन फर्राटा भर सकेंगे। इसका सबसे बड़ा लाभ यह होगा कि अब दिल्ली से वाहन मेरठ 60 मिनट में और गाजियाबाद से मेरठ 30 मिनट में पहुंच जाएंगे।

जब यह तय हो गया है कि एक अप्रैल से दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे चालू कर दिया जाएगा, जिसके बाद दिल्ली से मेरठ, गाजियाबाद, हापुड़, शामली, मुजफ्फर के साथ उत्तराखंड के लोग भी इसका लाभ उठा सकेंगे। कुल मिलाकर दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे  पश्चिम यूपी और उत्तराखंड की कनेक्टिविटी के लिहाज से एक्सप्रेसवे महत्वपूर्ण साबित होगा। अपुष्ट सूत्रों के अनुसार, 31 मार्च ट्रायल होगा और दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे की शुरुआत के अगले दिन यानी एक अप्रैल से टोल वसूली भी शुरू हो जाएगी। वैसे अभी टोल दरें निर्धारित नहीं की गई हैं। संभव है इसमें 3-4 दिन का समय लग जाए, तब तक इस पर मुफ्त सफर रहेगा।

मुदित गर्ग (परियोजना निदेशक, एनएचएआइ) का कहना है कि दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे को देर शाम को ट्रायल के लिए खोल दिया गया। पूरी तरीके से पब्लिक के लिए इस एक्सप्रेस-वे को 1 अप्रैल की सुबह 7:00 बजे चालू कर दिया जाएगा। फिलहाल टोल की दरें निर्धारित न होने की वजह से इस एक्सप्रेस वे पर चलने वाले वाहनों से टोल नहीं लिया जाएगा। जैसे ही टोल की दरें निर्धारित हो जाएंगी टोल की वसूली भी शुरू कर दी जाएगी। टोल की वसूली अत्याधुनिक तकनीकी के आधार पर की जाएगी।

दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे के चाल होते ही मेरठ से राजधानी दिल्ली का सफर सिर्फ 60 मिनट में तय होगा। सबसे अच्छी बात तो यह है कि बीच में कहीं भी जाम या फिर रेड लाइट का भी सामना नहीं करना पड़ेगा। बता दें कि मेरठ से बड़ी संख्या में लोग जॉब के सिलसिले में गाजियाबाद, नोएडा-ग्रेटर नोएडा और दिल्ली आते हैं। ऐसे में हजारों लोगों का समय बचेगा और जाम से भी राहत मिलेगी।

गाजियाबाद के लोग भी दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे के चाले होने का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं, क्योंकि इसके बाद शहर के लोग मेरठ सिर्फ 30 मिनट में पहुंच सकेंगे, वह भी बिना किसी जाम का सामना किए। बता दें कि इन दिनों रैपिड मेट्रो रेल का काम चल रहा है, ऐसे में दिल्ली से मेरठ जाने वालों को जाम का सामना करना पड़ता। ऐसे में दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे के चालू होने से यात्रियों का समय बचेगा।

दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे पर यातायात नियमों का उल्लंघन करने पर जुर्माना लगाया जाएगा। नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया के अधिकारियों के मुताबिक,  गाड़ी की स्पीड से लेकर गाड़ी में अंदर बैठे यात्री तक पर कैमरों की मदद से नजर रखी जाएगी। दरअसल, दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे देश का पहला एडवांस एक्सप्रेसवे होगा, जिसमें चलती गाड़ी से टोल टैक्स कट जाएगा।

बता दें कि दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे के पांचवें चरण से एक तो एनएच-235 मेरठ-बुलंदशहर हाईवे सीधे तौर पर जुड़ जाएगा। लोहिया नगर मंडी के पास ही एनएच-235 से रिंग रोड के जरिये गढ़मुक्तेश्वर हाईवे-709 ए जुड़ा है। गढ़मुक्तेश्वर हाईवे के वाहन भी दिल्ली जाने के लिए यही रास्ता पकड़ेंगे। उधर, एनएच-119 मेरठ-पौड़ी मार्ग जो कमिश्नरी आवास चौराहे तक आता है। नजीबाबाद, बिजनौर के लोग भी इसी रास्ते को पकड़ेंगे। किला परीक्षितगढ़ मार्ग के वाहनों के लिए भी दिल्ली जाने के लिए यही रास्ता नजदीक होगा।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

कानपुर के गौरवशाली इतिहास से बुंदेलखंड भी जुड़ा है : धर्मेंद्र प्रधान

कानपुर (मा.स.स.). पिछड़ा हुआ बुंदेलखंड भाजपा की सरकार में विकास की राह पर चल पड़ा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *