शनिवार , मई 21 2022 | 09:30:18 PM
Breaking News
Home / राष्ट्रीय / पाकिस्तान समर्थक तुर्की नागरिक इल्कर आयसी नहीं बनेंगे एयर इंडिया के सीईओ

पाकिस्तान समर्थक तुर्की नागरिक इल्कर आयसी नहीं बनेंगे एयर इंडिया के सीईओ

Follow us on:

नई दिल्ली (मा.स.स.). तुर्की के इल्कर आयसी ने एयर इंडिया के मुख्य कार्यकारी अधिकारी बनने से इनकार कर दिया है। न्यूज एजेंसी रॉयटर्स की खबर के मुताबिक, इल्कर आयसी ने एयर इंडिया की कमान संभालने से इनकार कर दिया है। रॉयटर्स को टाटा के एक प्रवक्ता ने बताया कि उनकी नियुक्ति की घोषणा के बाद भारत में विरोध शुरू हो गया, जिसके चलते आयसी ने यह फैसला लिया। आयसी ने कहा कि भारतीय मीडिया के कुछ तबकों द्वारा उनकी नियुक्ति को अवांछनीय तरीके से गलत रंग दिया गया, जिसके चलते उन्होंने यह फैसला किया।उन्हें तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन का करीबी माना जाता है, जो पाकिस्तान के सहयोगी हैं। आयसी ने एक बयान में कहा, ‘‘मैं घोषणा के बाद से भारतीय मीडिया के कुछ वर्गों में मेरी नियुक्ति को अवांछनीय रंग देने की कोशिश वाली खबरों को ध्यान से देख रहा था।’’

उन्होंने आगे कहा, ‘‘मेरे लिए परिवार की खुशी और भलाई सबसे ऊपर है। मैं इस निष्कर्ष पर पहुंचा हूं कि इस तरह की खबरों के बीच इस पद को स्वीकार करना मेरे लिए संभव या सम्मानजनक निर्णय नहीं होगा।’’ आयसी ने कहा कि वह एयर इंडिया का नेतृत्व करने का अवसर देने के लिए टाटा समूह और उसके अध्यक्ष एन चंद्रशेखरन के आभारी हैं। हाल ही में टाटा संस के बोर्ड ने एयर इंडिया के नए एमडी-सीईओ के रूप में इल्कर आयसी का चयन किया था। जिसके बाद वे अपना पदभार 1 अप्रैल  2022 से संभालने वाले थे। हालांकि, इसके बाद से ही इल्कर आयसी की नियुक्ति को लेकर विवाद शुरू हो गया। दरअसल, आयसी को तुर्की के राष्ट्रपति रसेप तईप एर्दोगन के करीबी माना जाता है और एर्दोगन का पाकिस्तान के साथ गहरा संबंध है। वे कई बार अंतरराष्ट्रीय मंचों पर कश्मीर का मुद्दा उठा चुके हैं। ऐसे में यह मामला बेहद संवेदनशील हो गया था।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से संबद्ध ‘स्वदेशी जागरण मंच’ (एसजेएम) ने गत शुक्रवार को कहा था कि सरकार को ‘‘राष्ट्रीय सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए’’ एअर इंडिया को इल्कर आयसी को सीईओ और प्रबंध निदेशक (एमडी) नियुक्त करने की अनुमति नहीं देनी चाहिए। ‘स्वदेशी जागरण मंच’ के सह-संयोजक अश्विनी महाजन ने कहा था कि सरकार इस मुद्दे के प्रति ‘‘पहले से ही संवेदनशील’’ है और उसने इस मामले को ‘‘बहुत गंभीरता से लिया है।’’

हाल ही में खबर आई थी कि भारत सरकार एयर इंडिया के नवनियुक्त सीईओ और एमडी इल्कर आयसी की बैकग्राउंड की जांच करेगी। गृह मंत्रालय किसी भी भारतीय कंपनी के प्रमुख पदों पर नियुक्त होने पर सभी विदेशी नागरिकों की पृष्ठभूमि की पूरी जांच करता है। नव नियुक्त सीईओ और एमडी के लिए भी यही प्रक्रिया होगी। आयसी एक तुर्की नागरिक है, इसलिए गृह मंत्रालय से उसकी पृष्ठभूमि की जांच के लिए खुफिया एजेंसी रॉ से मदद लेने की उम्मीद की जाती है। आईसी तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन के सलाहकार थे, जबकि 1994 से 1998 तक इस्तांबुल के मेयर थे। उन्होंने 2015 से 2022 तक टर्किश एयरलाइंस के अध्यक्ष के रूप में सेवा की थी और उन्हें एयरलाइन को बदलने का श्रेय दिया गया था।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

टेरर फंडिंग मामले में यासीन मालिक दोषी करार, 25 मई को तय होगी सजा

नई दिल्ली (मा.स.स.). दिल्ली की एक विशेष एनआईए अदालत ने आतंकवादी यासीन मलिक को टेरर …