शनिवार , मई 21 2022 | 09:13:42 PM
Breaking News
Home / राष्ट्रीय / और गंभीर होता चला जा रहा है बिजली संकट

और गंभीर होता चला जा रहा है बिजली संकट

Follow us on:

नई दिल्ली (मा.स.स.). भीषण गर्मी के बीच ज्यादातर राज्य बिजली संकट से जूझ रहे हैं। वजह है कोयले की कमी। प्रचंड गर्मी में घंटों बत्ती गुल होने लोग बेहाल हैं। बिजली की मांग रेकॉर्ड ऊंचाई पर है। दूसरी तरफ इस मुद्दे पर केंद्र और राज्य खासकर विपक्षशासित राज्य आपस में भिड़े हुए हैं। केंद्रीय ऊर्जा मंत्रालय बिजली संकट के लिए राज्यों के कोयला आयात को लेकर ‘ढुलमुल’ रवैये को जिम्मेदार ठहरा रहा है, दूसरी तरफ राज्य महंगे कोयले और लॉजिस्टिक चुनौती को दोष दे रहे हैं।

देश इस समय बिजली संकट से जूझ रहा है। पीक पावर शॉर्टेज इस हफ्ते काफी तेजी से बढ़ी है। सोमवार को 5.24 गीगावॉट (GW) के सिंगल डिजिट से गुरुवार को यह 10.77 GW के डबल डिजिट में पहुंच गई। इस कमी की वजह पावर जनरेशन प्लांट में कोयले की कमी, हीटवेव और कुछ अन्य चीजें है। नेशनल ग्रिड ऑपरेटर, पावर सिस्टम ऑपरेशन कॉर्पोरेशन (POSOCO) के नए डेटा से पता चलता कि रविवार को पीक पावर शॉर्टेज 2.64 GW थी, जो सोमवार को बढ़कर 5.24 GW, मंगलवार को 8.22 GW, बुधवार को 10.29 GW और गुरूवार को 10.77 GW हो गई। शुक्रवार को यह 8.12GW रही।

दिल्ली में तापमान बढ़ने के साथ बिजली की मांग अप्रैल के महीने में पहली बार गुरुवार को 6,000 मेगावाट पहुंच गई। बिजली वितरण कंपनी (DISCOM) के अधिकारियों के मुताबिक “अप्रैल में पहली बार दिल्ली में बिजली की मांग 6,000 मेगावाट पर पहुंची है। यह बुधवार के 5,769 मेगावाट की तुलना में 3.7 प्रतिशत अधिक है।” ‘स्टेट लोड डिस्पैच सेंटर’ दिल्ली के आंकड़ों के अनुसार राजधानी में बिजली की मांग दोपहर तीन बज कर 31 मिनट पर 6,000 मेगवाट थी।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

सुप्रीम कोर्ट ने राजीव गांधी हत्याकांड में शामिल पेरारिवलन को किया रिहा

नई दिल्ली (मा.स.स.). राजीव गांधी हत्याकांड के दोषी एजी पेरारिवलन की 31 साल से अधिक …