मंगलवार , मई 17 2022 | 10:49:03 AM
Breaking News
Home / राष्ट्रीय / भारत ने रूस के दावे का किया खंडन, यूक्रेन में नहीं है कोई भारतीय बंधक

भारत ने रूस के दावे का किया खंडन, यूक्रेन में नहीं है कोई भारतीय बंधक

Follow us on:

नई दिल्ली (मा.स.स.). रूस ने दावा किया है कि उसकी सेना कीव और खरकीव से भारतीय छात्रों को निकालने में पूरी मदद कर रही है लेकिन यूक्रेन ने भारतीयों को बंधक बनाया हुआ है। हालांकि कुछ घंटे के भीतर ही भारत ने इस दावे को सिरे से खारिज कर दिया। विदेश मंत्रालय की ओर से आज सुबह जारी बयान में साफ बताया गया है कि यूक्रेन में हमारा दूतावास लगातार वहां भारतीय नागरिकों के संपर्क में है। MEA ने कहा कि यूक्रेन प्रशासन के सहयोग से कई स्टूडेंट्स कल ही खरकीव से निकल गए। हमें यूक्रेन में किसी भी स्टूडेंट को बंधक बनाए जाने की कोई रिपोर्ट नहीं मिली है।

रूस के हमले के बाद भारत पूर्वी यूरोपीय देश यूक्रेन में फंसे अपने नागरिकों को सुरक्षित निकालने के लिए ऑपरेशन गंगा चला रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार रूस के राष्ट्रपति, यूक्रेन और उसके पड़ोसी देशों के नेताओं के संपर्क में हैं। कुछ घंटे पहले ही उन्होंने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से बात की और यूक्रेन से भारतीयों को सुरक्षित निकालने पर चर्चा की थी। दोनों नेताओं ने यूक्रेन की स्थिति की समीक्षा की, खासकर खरकीव की, जहां बड़ी संख्या में भारतीय छात्र फंसे हुए हैं। प्रधानमंत्री की पुतिन से पिछले छह दिनों के भीतर दूसरी बार बातचीत हुई है। करीब 20,000 भारतीयों में से अब तक 6,000 को स्वदेश लाया जा चुका है।

पीएम मोदी और रूसी राष्ट्रपति की बातचीत के कुछ देर बाद ही रूस के रक्षा मंत्रालय का चौंकाने वाला बयान सामने आया। इसमें कहा गया कि रूस की सेना भारतीयों को निकालने में मदद कर रही है लेकिन यूक्रेन अब भारतीय छात्रों को ढाल बना रहा है। वहां भारतीयों को रोका जा रहा है। दरअसल, खरकीव और कीव में हालात काफी बिगड़ गए हैं और भारत सरकार ने जल्द से जल्द वहां से नागरिकों को निकालने के लिए कार्रवाई तेज कर दी है। रूस का यह बयान भारत के चिंता जताने के बाद आया है कि वहां अभी भारतीय नागरिक फंसे हुए हैं और उन्हें सुरक्षित निकालने के लिए सुरक्षित रास्ता दिया जाए। इसके बाद रूस ने यूक्रेन पर ही गंभीर आरोप लगा दिए। हालांकि MEA ने बाकायदे बयान जारी कर मीडिया के उन सवालों के जवाब दिए जिसमें कहा जा रहा था कि यूक्रेन में क्या भारतीय स्टूडेंट बंधक हैं?

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि हम रूस, रोमानिया, पोलैंड, हंगरी, स्लोवाकिया और मोल्डोवा समेत क्षेत्र के सभी देशों के साथ मिलकर भारतीय नागरिकों को निकालने पर काम कर रहे हैं। पिछले कुछ दिनों में बड़ी संख्या में भारतीय नागरिकों को निकाला जा चुका है। हम यूक्रेन सरकार की तरफ से मिल रहे सहयोग के लिए उनका शुक्रिया अदा करते हैं। हम यूक्रेन की पश्चिमी सीमा से लगे पड़ोसी देशों के प्रति भी आभार व्यक्त करते हैं जो भारतीय नागरिकों के घर वापस आने तक रहने का इंतजाम कर रहे हैं।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

राजीव कुमार होंगे देश के नए मुख्य चुनाव आयुक्त

नई दिल्ली (मा.स.स.). राजीव कुमार को मुख्य चुनाव आयुक्त नियुक्त किया गया है। वे 15 …