बुधवार , मई 18 2022 | 10:26:55 PM
Breaking News
Home / राष्ट्रीय / भारतीय छात्रों को यूक्रेन से निकालने के लिए पुतिन ने फिर किया सीजफायर

भारतीय छात्रों को यूक्रेन से निकालने के लिए पुतिन ने फिर किया सीजफायर

Follow us on:

कीव (मा.स.स.). रूस ने यूक्रेन के युद्धग्रस्‍त इलाकों में फंसे लोगों को निकालने के लिए दो जगहों मारियोपोल और वोल्‍वोनोखा में सीजफायर और ग्रीन कॉरिडोर बनाने का ऐलान किया गया है। भारतीयों को निकालने की दिशा में अब यह बहुत ही महत्‍वपूर्ण कदम है। यह सीजफायर भारतीय समयानुसार 11.30 बजे से लागू हो गया है। हालांकि इन दोनों ही इलाकों में भारतीयों की संख्‍या बहुत कम है, फिर भी शांति की दिशा में बढ़िया कदम है। माना जा रहा है कि यूक्रेन और रूस के बीच दूसरी दौर की बातचीत के बाद इस कॉरिडोर को बनाने पर सहमति बनी है।

रूस ने ऐलान किया है कि यह सीजफायर 11.30 बजे से शुरू होगा जो मानवीय आधार पर किया गया है ताकि आम नागरिकों को निकलने का मौका दिया जा सके। रूस के रक्षा मंत्रालय ने एक बयान जारी करके कहा, ‘आज 5 मार्च को मास्‍को के समयानुसार 10 बजे सुबह से रूसी पक्ष एक सीजफायर करने जा रहा है। रूस मारियोपोल और वोल्‍वोनोखा में मानवीय कॉरिडोर खोलने जा रहा है।’ रूस के रक्षा मंत्रालय ने यह भी कहा कि इस मानवीय कॉरिडोर और सीजफायर पर यूक्रेन के पक्ष ने भी सहमति जताई है। इससे पहले रूस ने यूक्रेन के नागरिकों पर आरोप लगाया कि उन्होंने अपने विभिन्न शहरों में 3,700 से अधिक भारतीय नागरिकों को जबरन बंधक बनाकर रखा है। रूस ने यह भी कहा कि उसकी सेना विदेशी नागरिकों की शांतिपूर्ण निकासी के लिए हर संभव प्रयास कर रही है

रूसी स्थायी प्रतिनिधि वासिली नेबेंजिया ने कहा कि यूक्रेन में कट्टरपंथियों और चरमपंथियों को पश्चिमी देशों का संरक्षण हासिल है। उन्होंने कहा, ‘यूक्रेनी राष्ट्रवादियों द्वारा जबरन बंधक बनाए जा रहे विदेशी नागरिकों की संख्या चौंकाने वाली है। खारकीव में भारत के 3,189 नागरिक, वियतनाम के 2,700 नागरिक, चीन के 202 नागरिक इसमें शामिल हैं। सूमी में 576 भारतीय नागरिक, 101 घाना के नागरिक और 121 चीनी नागरिक शामिल हैं।’

पीएम मोदी अब तक दो बार रूसी राष्‍ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन से इस संबंध में बातचीत कर चुके हैं। भारत ने यूक्रेन और रूस से मांग की थी कि वे हमारे नागरिकों को निकलने का मौका दें और सीजफायर का ऐलान करें। अभी भी बड़ी संख्‍या में भारतीय रूस से सटे यूक्रेन के इलाकों में फंसे हैं जहां उन्‍हें तत्‍काल मदद की जरूरत है। बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देश पर 4 केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी, किरण रिजिजू, जनरल वीके सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया यूक्रेन के पड़ोसी देशों में पहुंचे हैं। ये मंत्री अलग-अलग देशों से भारतीय छात्रों की स्वदेश वापसी को सुनिश्चित कर रहे हैं।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

किसी को किस करना नहीं है यौन अपराध : बॉम्बे हाईकोर्ट

मुंबई (मा.स.स.). बॉम्बे हाईकोर्ट ने यौन उत्पीड़न के मामले की सुनवाई के दौरान कहा कि …