शनिवार , मई 21 2022 | 08:08:46 PM
Breaking News
Home / राज्य / उत्तरप्रदेश / जल्द बदल सकते हैं उत्तर प्रदेश में एक दर्जन स्थानों के नाम

जल्द बदल सकते हैं उत्तर प्रदेश में एक दर्जन स्थानों के नाम

Follow us on:

लखनऊ (मा.स.स.). उत्तर प्रदेश में पूर्ण बहुमत के साथ सूबे की सत्ता पर वापसी करने वाले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ फुल एक्शन में हैं. सीएम योगी अपनी बैठकों में जनता के काम में कोताही बरतने वालों पर सख्त कार्रवाई करने की चेतावनी दे चुके हैं. इस बीच एक बार फिर से यूपी में शहरों के नाम बदलने की तैयारी है. इन 12 शहरों में से 6 जिलों के नाम पहले बदले जाएंगे.

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इस लिस्ट में अलीगढ़, फर्रुखाबाद, सुल्तानपुर, बदायूं, फिरोजाबाद और शाहजहांपुर का नाम शामिल है. अलीगढ़ का नाम बदलने के लिए पिछले साल 6 अगस्त, 2021 को पंचायत कमेटी ने अपने नए अध्यक्ष विजय सिंह की अगुआई में नाम बदलने के साथ नए नाम का प्रस्ताव भी पारित किया था. अब इस जिले का नाम हरिगढ़ या फिर आर्यगढ़ रखने की तैयारी की जा रही है.

वहीं फर्रुखाबाद जिले से भी लगातार दूसरी बार सांसद बने मुकेश राजपूत ने हाल ही में फर्रुखाबाद का नाम बदलकर पांचाल नगर करने की मांग की है. उन्होंने योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर कहा है कि यह जिला द्रौपदी के पिता द्रुपद पांचाल राज्य की राजधानी थी. इसीलिए इसका नाम पांचाल नगर होना चाहिए.

इसी तरह सुल्तानपुर की लंभुआ सीट से बीजेपी के विधायक रहे देवमणि द्विवेदी जिले का नाम बदलकर ‘कुशभवनपुर’ करने का प्रस्ताव सरकार को भेज चुके हैं. शाहजहांपुर से विधायक रहे मानवेंद्र सिंह ने योगी सरकार के पास जिले का नाम बदलने का प्रस्ताव भेज चुके हैं. उन्होंने शाहजहांपुर का नाम ‘शाजीपुर’ रखने का सुझाव दिया है. इसी तरह फिरोजाबाद में 2 अगस्त 2021 को हुई बैठक में जिले का नया नाम चंद्र नगर रखने का प्रस्ताव पारित हुआ था. हालांकि बदायूं का नाम बदलने के लिए अभी कोई प्रस्ताव नहीं आया है, लेकिन सीएम योगी की लिस्ट में इस जिले का भी नाम है.

बता दें कि UP के मुख्यमंत्री होने के साथ-साथ योगी आदित्यनाथ गोरखपुर के प्रसिद्ध गोरखनाथ मंदिर में स्थित मठ के महंत हैं. यूपी का सीएम बनने से पहले ही उन्होंने गोरखपुर का सांसद रहने के दौरान कई इलाकों का नाम बदलवा दिया था. इस कड़ी में उर्दू बाजार को हिंदी बाजार, हुमायूंपुर को हनुमान नगर, मीना बाजार को माया बाजार और अलीनगर को आर्य नगर किया गया था. वहीं उनके पिछले कार्यकाल में मुगलसराय रेलवे स्टेशन का नाम पं. दीनदयाल उपाध्याय के नाम पर किया गया, तो इलाहाबाद को प्रयागराज और फैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्या कर दिया गया.

संभावित स्थान, जिनके नाम बदले जा सकते हैं – 

आगरा- अंबेडकर यूनिवर्सिटी में आगरा की जगह अग्रवन जिले का नए नाम के पक्ष में साक्ष्य जुटाने का काम चल रहा है.

मैनपुरी- 16 अगस्त को ही मैनपुरी में जिला पंचायत स्तर की एक बैठक के बाद नया नाम मयान पुरी करने की मांग की गई.

गाजीपुर- यहां से दिग्गज नेता कृष्णानंद राय की पत्नी अलका राय एक साल पहले ही गाजीपुर का नाम बदलकर गढ़ीपुरी करने की मांग कर चुकी हैं.

कानपुर- कानपुर देहात के रसूलाबाद, सिकंदराबाद, अकबरपुर रनियां में नामों को लेकर प्रस्ताव बनाने के लिए प्रशासन को निर्देश मिले हैं.

संभल- जिले का नाम कल्कि नगर या फिर पृथ्वीराज नगर करने की मांग उठ रही है.

देवबंद- ‌BJP विधायक ब्रजेश सिंह रावत ने भी देवबंद का नाम देववृंदपुर करने की मांग की है.

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

ज्ञानवापी में जुटे क्षमता से अधिक नमाजी, यासीन ने कहा, ‘’हम मस्जिद के लिए हमेशा लड़ते रहेंगे’

लखनऊ (मा.स.स.). वाराणसी की ज्ञानवापी मस्जिद में शुक्रवार यानी जुमे के दिन 1200 से ज्यादा …