बुधवार , मई 18 2022 | 10:20:38 PM
Breaking News
Home / राज्य / उत्तरप्रदेश / गोरखनाथ मंदिर के पीछे हो सकता है आईएसआईएस का हाथ, मिले संकेत

गोरखनाथ मंदिर के पीछे हो सकता है आईएसआईएस का हाथ, मिले संकेत

Follow us on:

लखनऊ (मा.स.स.). गोरखपुर में गोरखनाथ मंदिर पर हुए हमले का क्या खूंखार आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट का कोई लिंक है? इस सवाल का जवाब हां में होने की संभावना बढ़ गई है। मुर्तजा के आतंकी संगठनों से संपर्क की जांच के बीच एक ऐसा वीडियो सामने आया है, जिसमें आईएसआईएस के आतंकी के हाथ में वैसा ही हथियार दिख रहा है, जैसा मुर्तजा ने हाथ में था। 25 मार्च को आईएस इंडिया नाम के संगठन की ओर से जारी किए गए इस वीडियो के बाद इस बात की संभावना बढ़ गई है कि मुर्तजा दुनियाभर में खौफ का पर्याय बन चुके आईएसआईएस का मोहरा है।

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, 4 मिनट का यह वीडियो 25 मार्च को टेलिग्राम पर जारी किया गया था। इसमें मौजूद नकाबपोश आतंकी भारत में चार स्लीपर सेल होने का दावा करते हैं। वीडियो की भाषा बेहद भड़काऊ है। इसमें देशी हथियारों को दिखाय गया है, जिसमें वह गंडासा या बांकी भी शामिल है, जिसे हाथ में लेकर मुर्तजा ने गोरखनाथ मंदिर पर हमला किया था। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि क्या इस वीडियो का गोरखपुर हमले से कोई लिंक है? क्या इस वीडियो से आईएसआईएस ने पहले ही हमले का इशारा कर दिया था? क्या मुर्तजा का इस वीडियो से सीधा संबंध है या उसने इस वीडियो को देखने के बाद ही बांकी को हमले के लिए हथियार चुना? इन सवालों का जवाब तो जांच के बाद ही पता चलेगा, लेकिन फिलहाल यह वीडियो चर्चा का विषय बना हुआ है। यूपी पुलिस पहले ही कह चुकी है कि जांच में जो दस्तावेज मिले हैं वे बेहद सनसनीखेज हैं।

सूत्रों के मुताबिक, मुर्तजा के पास मिले लैपटॉप में विवादित इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक के भड़काऊ भाषण वाले वीडियो मिले हैं। बताया जा रहा है कि इसमें इस्लामिक स्टेट के भी कई वीडियो मिले हैं, जिन्हें हमले से पहले मुर्तजा ने कई बार देखा था। अभी यह साफ नहीं है कि टेलीग्राम पर जो वीडियो जारी किया गया था वह भी मुर्तजा के लैपटॉप में था या नहीं।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

हिन्दू पक्ष ने कोर्ट से मांगी ज्ञानवापी में शिवलिंग के दर्शन-पूजन की अनुमति

लखनऊ (मा.स.स.). हिन्दू पक्ष के वकील विष्‍णु जैन ने कहा, “ज्ञानवापी मस्जिद के वजूखाने में …