बुधवार , मई 18 2022 | 09:54:32 PM
Breaking News
Home / राज्य / महाराष्ट्र / देशद्रोह के आरोप से छूटी सांसद नवनीत राणा, बीमारी अभी भी दे रही है दर्द

देशद्रोह के आरोप से छूटी सांसद नवनीत राणा, बीमारी अभी भी दे रही है दर्द

Follow us on:

मुंबई (मा.स.स.). अभिव्यक्ति के अधिकार के आधार इस तरह के अपमानजनक और आपत्तिजनक शब्दों का उपयोग नहीं किया जा सकता है, लेकिन फिर भी राणा दंपति पर देशद्रोह का आरोप लगाने के लिए यह कारण पर्याप्त नहीं है। यह बात राणा दंपति की जमानत पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने कही थी। इस आधार पर उन्हें जमानत तो मिल गई, लेकिन उनकी बीमारी से राहत उन्हें अभी भी नहीं मिली है।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश राहुल रोकाडे ने कहा, “टीवी चैनलों में दिए गए इंटरव्यू के अवलोकन पर प्रथम दृष्टया ऐसा प्रतीत होता है कि आवेदकों (राणा दंपति) ने मुख्यमंत्री (उद्धव ठाकरे) के खिलाफ कुछ वाक्यों का इस्तेमाल किया है जो बेहद आपत्तिजनक हैं। अदालत ने स्पष्ट किया कि आरोप तभी लगाया जा सकता है जब इस्तेमाल किए गए शब्दों में हिंसा का सहारा लेकर अव्यवस्था या सार्वजनिक शांति भंग करने की प्रवृत्ति या मंशा हो। अदालत ने कहा, “सिर्फ इसलिए कि आवेदकों के बयान और कृत्य दोषपूर्ण हैं, उन्हें आईपीसी की धारा 124 ए के दायरे में नहीं लाया जा सकता।”

अमरावती के सांसद नवनीत राणा के जेल से छूटने के बाद बीते दों दिन से उन्हें मुंबई के लीलावती अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहां डॉक्टर के अंडर चल रहे ट्रीटमेंट के बाद भी राणा को लगातार छाती, गर्दन और शरीर के कई हिस्सों में दर्द की शिकायत हो रही है। बता दें कि उन्हें स्पॉन्डिलाइटिस की समस्या भी है। इन सभी समस्याओं को देखते हुए आज सांसद का एमआरआई स्कैन और पूरे शरीर की जांच की गई है।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

शिवसेना ने माना शिरडी और त्रयंबकेश्वर सहित कई मंदिरों के उतारे लाउडस्पीकर

मुंबई (मा.स.स.). संजय राउत बीजेपी के घेरने आए लेकिन अपनी सरकार की ही फजीहत करवाकर …