शनिवार , मई 21 2022 | 09:38:02 PM
Breaking News
Home / राज्य / पंजाब / मान सरकार के नियुक्ति से जुड़े फैसले से आप विधायक नाराज

मान सरकार के नियुक्ति से जुड़े फैसले से आप विधायक नाराज

Follow us on:

चंडीगढ़ (मा.स.स.). पंजाब में आम आदमी पार्टी की नई सरकार में दरार पड़ती नजर आ रही है। अब आप विधायक कुंवर विजय प्रताप ने दो वरिष्ठ IPS अधिकारियों प्रबोध कुमार और अरुण पाल सिंह की  नियुक्ति पर आपत्ति जताई है। शनिवार को पंजाब में बड़े फेरबदल हुए। हाल ही में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव में आप ने 92 सीटों पर जीत हासिल कर सरकार बनाई है।

1997 बैच के IPS अधिकारी सिंह को अमृतसर पुलिस आयुक्त बनाया गया है। वहीं, पंजाब सरकार ने 1988 बैच के IPS अधिकारी कुमार को 25 मार्च को स्पेशल डीजीपी (खुफिया) नियुक्त किया है। कुंवर प्रताप ने शनिवार को फेसबुक पोस्ट के जरिए इन दोनों अधिकारियों की नियुक्ति पर सवाल उठाए हैं। साथ ही उन्होंने इसपर विचार करने का भी अनुरोध किया है।

उन्होंने लिखा, ‘आम लोगों की मांग पर मैंने पार्टी के मंच पर उन दो पुलिस अधिकारियों की नियुक्ति पर दोबारा विचार करने का अनुरोध किया है, जो नंबर एक और नंबर दो के तौर पर तत्कालीन SIT का हिस्सा था और जिन्होंने बड़े राजनीतिक घरानों का पक्ष लिया था। ये दो अधिकारी बरगारी-बेहबाल-कोटकपूरा मामले में न्याय नहीं मिलने के जिम्मेदार हैं। मैं SIT में नंबर तीन पर था। नंबर एक को पुलिस विभाग के सबसे ताकतवर पद खुफिया प्रमुख बनाया गया है। नंबर दो को पवित्र शहर अमृतसर के पुलिस आयुक्त के रूप में इनाम दिया गया है।’

कुंवर प्रताप पूर्व आईपीएस अधिकारी हैं और पंजाब पुलिस में IG रह चुके हैं। उनके नेतृत्व में काम कर रही SIT की जांच को पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने रद्द कर दिया था, जिसके कुछ समय बाद अप्रैल में ही उन्होंने पद से इस्तीफा दे दिया था। उस दौरान SIT गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी के खिलाफ विरोध कर रहे लोगों पर कोटकपूरा और बेहबाल कलां में गोलीबारी के दो मामलों में जांच कर रहे थे। बाद में वह आप में शामिल हो गए थे।

विधायक ने कहा कि उन्होंने पहले ही यह साफ कर दिया था कि किसी को भी बेअदबी के मुद्दे का राजनीतिकरण या ग्लैमर से नहीं जोड़ना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘जो लोग इस मुद्दे पर राजनीति करते हैं उन्हें गुरु गोविंद सिंह जी की सबसे ऊंची अदालत से सजा मिली…। गुरु महाराज ने पंजाब के दो बड़े सियासी घरानों को सजा दी, जो मेरे इस्तीफे से जल रहे थे। ये दो परिवार पंजाब के सियासी मैदान में दोबारा नहीं आएंगे। बरगारी-बेहबाल-कोटकपूरा मामले में आम लोगों को हमारी आप सरकार से न्याय की उम्मीद है।’

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

सुप्रीम कोर्ट ने नवजोत सिंह सिद्धू को सुनाई एक साल की सजा

चंडीगढ़ (मा.स.स.). 34 साल पुराने रोडरेज के केस में पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रेसिडेंट नवजोत …